• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • ALIGARH ALIGARH TENSION GREW BETWEEN TWO COMMUNITIES OVER MARRIAGE PROCESSION PASSING IN FRONT OF MOSQUE NODMK8

अलीगढ़: मस्जिद के आगे गाजे-बाजे से बारात निकालने पर दो समुदायों में तनाव, इलाके में पुलिस तैनात

बहुसंख्यक समाज केे लोगों का आरोप है कि जब उनकी बारात मस्जिद के सामने से गुजर रही थी तो अल्सपसंख्य समुदाय के लोगों ने न सिर्फ उसे रोक दिया बल्कि उनके साथ मारपीट भी की गई (प्रतीकात्मक तस्वीर)

जिस घर में शादी हो रही थी वहां के परिवार के सदस्यों ने सोमवार को एक वीडियो जारी कर यह आरोप लगाया कि वो 26 मई की घटना से बहुत दुखी हैं. इस वजह से उन्होंने अपने घरों के बाहर 'मकान बिकाऊ है' होने का पर्चा चिपका दिया है. वो किसी और जगह पर पलायन (Migration) करना चाहते हैं क्योंकि अल्पसंख्यक समुदाय (Minority Community) के लोग उन्हें परेशान करते हैं

  • Share this:
    अलीगढ़. उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ (Aligarh) जिले में मस्जिद के सामने से गाजे-बाजे के साथ बारात निकालने को लेकर दो समुदायों में तनाव की स्थिति पैदा हो गई है. घटना टप्पल थाना क्षेत्र के नूरपुर गांव की है. इसे लेकर तनाव की स्थिति को देखते हुए यहां सुरक्षा बढ़ा दी गई है. पुलिस सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि नूरपुर गांव में बीते 26 मई को बहुसंख्यक समाज के एक युवक की बारात (Marriage Procession) गाजे-बाजे के साथ एक मस्जिद (Mosque) के सामने से गुजर रही थी. जिसे लेकर दूसरे समुदाय के लोगों ने मस्जिद के आगे गाना बजाने पर आपत्ति जाहिर की थी.

    इस मामले में बहुसंख्यक समाज के लोगों थाने में मुकदमा दर्ज करवाया है जिसमें यह आरोप लगाया गया है कि अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने बारात पर पथराव किया और लाठी से हमला किया. इस घटना में बारात में शामिल कई लोगों को चोट आई है और उनकी गाड़ियों के शीशे टूट गए.

    पुलिस ने इस मामले में वकील, कलुआ, मुस्तकीम, शरफू, अंसार, सोहेल, फारूक, अमजद, तौफीक, शाजोर, लेहरु और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ भारतीय दंड विधान (IPC) तथा दलित एक्ट की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है.

    घटना से दुखी बहुसंख्यक समाज के लोगों ने अपने घरों पर लिखा 'मकान बिकाऊ है'

    जिस घर में शादी हो रही थी वहां के परिवार के सदस्यों ने सोमवार को एक वीडियो जारी कर यह आरोप लगाया कि वो 26 मई की घटना से बहुत दुखी हैं. इस वजह से उन्होंने अपने घरों के बाहर 'मकान बिकाऊ है' होने का पर्चा चिपका दिया है. वो किसी और जगह पर पलायन करना चाहते हैं क्योंकि अल्पसंख्यक समुदाय के लोग उन्हें परेशान करते हैं.

    वीडियो वायरल होने के बाद अलीगढ़ से बीजेपी के सांसद सतीश गौतम और विधायक अनूप प्रधान ने गांव का दौरा किया और पीड़ित पक्ष को भरोसा दिया कि किसी को भी अपनी सुरक्षा की चिंता करने की जरूरत नहीं है. सतीश गौतम ने कहा, ‘मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शासनकाल में किसी भी व्यक्ति के पलायन का कोई सवाल ही नहीं उठता. इस मामले में दोषी लोगों को ऐसी सजा दी जाएगी जो मिसाल बनेगी.’

    उधर, अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों ने कहा कि उन्हें इस बात की उम्मीद थी कि सांसद उनकी बात भी सुनेंगे, लेकिन यह उम्मीद बेकार गई. उन्होंने 26 मई को मस्जिद के सामने से बारात निकाले जाने को लेकर उनके द्वारा किसी भी तरह का हमला किए जाने के आरोपों से इनकार किया.

    वहीं, पुलिस का कहना है कि वो इस मामले की जांच कर रही है और जिसने भी माहौल खराब करने की कोशिश की है उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. (भाषा से इनपुट)