...और इस तरह अलीगढ़ पुलिस ने टूटने से बचाए ये 34 परिवार

अलीगढ़ में पुलिस का मानवीय चेहरा देखने को मिला है. टूटे परिवारों को मिलाने में महिला पुलिस का बड़ा योगदान है क्योंकि जरा सी बात पर पति और पत्नी के विवाद पैदा हो जाता है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 7, 2019, 8:51 PM IST
...और इस तरह अलीगढ़ पुलिस ने टूटने से बचाए ये 34 परिवार
कई घरों को बसाने में महिला थाने ने बड़ा योगदान दिया है.
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 7, 2019, 8:51 PM IST
अलीगढ़ में पुलिस का मानवीय चेहरा देखने को मिला है. टूटे परिवारों को मिलाने में महिला पुलिस का बड़ा योगदान है, क्योंकि जरा सी बात पर पति और पत्नी के विवाद पैदा हो जाता है. इससे घर टूटने की स्थिति पैदा हो जाती है. विवाद के बाद जब महिला थाने में काउंसलिंग शुरू होती है तो विवाद की जड़ पूरी तरह से स्पष्ट हो जाती है और इसके बाद महिला थाने की काउंसलर उस जड़ को खत्म करने के लिए पूरी ताकत लगा देती है.

महिला थाने का प्रयास
बता दें कि बीते 1 महीने में महिला थाने में 70 प्रार्थना पत्र आए, जिनमें शिकायत दर्ज कराई गई थी. तीन शिकायतें पुरुष और 67 शिकायतें महिलाओं ने दर्ज कराई थीं. इसमें पुलिस के अथक प्रयास के बाद 34 परिवारों को बचाया गया और बीच-बीच में परिवारों को बुलाकर पूछा भी जाता है कि अब कोई समस्या तो नहीं है.

क्या कहती हैं प्रभारी

पूरे मामले में इंस्पेक्टर महिला थाना सुनीता मिश्रा का कहना है कि पीड़ित पक्ष के साथ-साथ दूसरे पक्ष को भी पूरी तरह से सुना जाता है और परिवारों को जोड़ने के लिए हर संभव प्रयास किया जाता है. उनके मुताबिक परिवार टूटने में चंद मिनट लगते हैं लेकिन उन्हें जोड़ने में सालों लग जाते हैं. उन्होंने बताया कि हम शिकायत आने पर दोनों पक्षों को बुलाकर काउंसलिंग करते हैं. दोनों पक्षों के बीच हुए मतभेदों को पूरी तरह से खत्म किया जाता है. यह काम काउंसलिंग प्रभारी एस.आई. बैगल के द्वारा किया जाता है.

क्या कहते हैं एसएसपी
पूरे मामले में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरी ने बताया कि जरा-जरा सी बातों पर परिवारों में मतभेद पैदा हो जाता है और फिर मुकदमेबाजी होती है. इससे दोनों परिवार का नुकसान होता है और समय बर्बाद होता है. इसलिए महिला पुलिस की मदद से परिवारों को एकजुट कराया जाता है, इसमें महिला पुलिस का बड़ा योगदान है. साथ ही एसएसपी ने बताया कि महिला व बच्चियों पर अगर कोई अपराध होता है तो वह पुलिस से शिकायत करें जिसके लिए एक गोपनीय ऐप भी बनाया गया है. इस ऐप के माध्यम से शिकायत होने पर महिला व युवती की पहचान गोपनीय रखी जाती है.
Loading...

(प्रशांत कुमार की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें:

मायावती ने यूपी संगठन में किया बड़ा फेरबदल, मुनकाद अली बसपा के नए प्रदेश अध्यक्ष

अयोध्या विवाद: SC ने पूछा- क्या भगवान राम या जीसस ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है?
First published: August 7, 2019, 7:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...