AMU के VC ने अपनी और परिवार की जान को खतरा जताया, SSP ने कहा- देंगे पूरी सुरक्षा
Aligarh News in Hindi

AMU के VC ने अपनी और परिवार की जान को खतरा जताया, SSP ने कहा- देंगे पूरी सुरक्षा
फाइल फोटो.

अपने लिखे पत्र में एएमयू के वीसी (AMU VC) प्रोफेसर तारिक मंसूर ने अपनी और परिवार की जान को खतरा जताया है. उन्होंने इस संबंध में अलीगढ़ के एसएसपी और सूबे के आला अधिकारियों को पत्र लिखा है. इस पर अलीगढ़ (Aligarh) के एसएसपी ने बताया कि वीसी तारिक मंसूर को उचित सुरक्षा दी जाएगी

  • Share this:
अलीगढ़. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (Aligarh Muslim Univerity) के वाइस चांसलर प्रोफेसर तारिक मंसूर (VC Prof. Tariq Mansoor) के एक पत्र से हड़कंप मच गया है. दरअसल पत्र में एएमयू वीसी ने अपनी और परिवार की जान को खतरा जताया है. वीसी प्रो. तारिक मंसूर ने इस संबंध में अलीगढ़ के एसएसपी और सूबे के आला अधिकारियों को पत्र लिखा है. इस पर अलीगढ़ के एसएसपी ने बताया कि वीसी तारिक मंसूर को उचित सुरक्षा दी जाएगी. बता दें कि बीते 15 दिसंबर को पुलिस और छात्रों के झड़प हुई थी, जिसके बाद से यूनिवर्सिटी में छुट्टी घोषित कर दी गई थी. लगभग महीने भर बाद 13 जनवरी को छुट्टियां खत्म हो रही हैं और विश्वविद्यालय दोबारा खुलने जा रहा है.

इसी को देखते हुए एएमयू के वीसी ने अपने पत्र में असामाजिक तत्वों और निष्काषित छात्रों से कैंपस के माहौल को बिगाड़ने की आशंका जताई है. उन्होंने ऐसे तत्वों पर समय रहते अंकुश लगाने को कहा है.

AMU VC
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर




बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) और एनआरसी के साथ ही जेएनयू हिंसा को लेकर एएमयू के छात्र लगातार आंदोलनरत हैं. वो कभी मानव श्रृंखला बनाकर तो कभी क्रिकेट मैच खेलकर अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं. इसी क्रम में उन्होंने शुक्रवार को यूनिवर्सिटी में एक क्रिकेट मैच का आयोजन किया था, जिसमें न सिर्फ सीएए और एनआरसी के नाम से क्रिकेट के नियम बनाए गए बल्कि क्रिकेट कॉमेंट्री (Commentary) के दौरान भी सीएए और एनआरसी को शामिल रखा गया.



खाने से लेकर चाय तक होगा विरोध
पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष फैजल हसन ने बताया कि 'हाल ही में असम के गुवाहाटी में भारत और श्रीलंका (India vs Sri Lanka) के बीच एक क्रिकेट मैच खेला गया था, जिसमें कुछ क्रिकेट प्रेमी सीएए और एनआरसी के विरोध वाले बैनर लेकर पहुंच गए थे, जिस कारण से उन्हें सुरक्षा गार्ड द्वारा बाहर कर दिया गया. इस कार्रवाई के विरोध में छात्रों ने फैसला किया है कि अब से हम एएमयू में कोई भी काम करेंगे वो सभी कार्य सीएए और एनआरसी के खिलाफ होगा, खाना भी खाएंगे तो वो भी खिलाफ, नहीं खाएंगे वो भी खिलाफ, चाय के ढाबे पर चाय पियेंगे वो भी खिलाफ और मैच खेलें या कुछ भी करे, वो सभी सीएए और एनआरसी के खिलाफ होगा. फैजल हसन ने आगे कहा कि विश्वविद्यालय के लगभग 50 छात्रों पर सरकार के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की गई है. इसलिए हम कोई भी काम करें लेकिन इस कानून का विरोध करते रहेंगे और हमारा विरोध जब तक जारी रहेगा जब तक सीएए में संशोधन नहीं हो जाता है.'

(इनपुट: प्रशांत कुमार)

ये भी पढ़ें:

AMU में CM योगी आदित्यनाथ के खिलाफ नारेबाजी, 50 अज्ञात छात्रों के खिलाफ FIR

JNU प्रदर्शन के बीच लखनऊ में 12 जनवरी से 37 राज्यों के युवाओं का जमावड़ा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading