कानून बनने के बाद ट्रिपल तलाक का पहला केस दर्ज होने का दावा
Aligarh News in Hindi

कानून बनने के बाद ट्रिपल तलाक का पहला केस दर्ज होने का दावा
कानून बनने के बाद ट्रिपल तलाक का पहला केस दर्ज होने का दावा.

कानून बनने के बाद अलीगढ़ में ट्रिपल तलाक का पहला केस दर्ज होने का दावा किया गया है. पीड़िता की शिकायत के बाद एसएसपी ने शनिवार को मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया था.

  • Share this:
कानून बनने के बाद अलीगढ़ में ट्रिपल तलाक का पहला केस दर्ज होने का दावा किया गया है. पीड़िता की शिकायत के बाद एसएसपी ने शनिवार को मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया था. मुकदमा दर्ज करने के बाद पुलिस आरोपी को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की कोशिश कर रही है.

अलीगढ़ के थाना क्वार्सी क्षेत्र के नगला पटवारी निवासी एक शिक्षिका को उसके पति द्वारा 100 रुपये के स्टैंप पेपर पर डाक के माध्यम से ट्रिपल तलाक भेजने का मामला सामने आया है. पुलिस ने शिकायत के आधार पर जांच कर मुकदमा दर्ज कर लिया है. दावा किया जा रहा है कि ट्रिपल तलाक का कानून बनने के बाद पहला मुकदमा थाना क्वार्शी में दर्ज किया गया है.

पीड़ित शिक्षिका अंजुम के अनुसार उसका निकाह शहंशाहबाद निवासी सलीम खान से 2005 में हुआ था. तभी से दहेज़ की लगातार मांग की जाने लगी. पत्नी ने जैसे-तैसे करके एक मकान बनवा लिया. बस उसी मकान को अपने नाम करवाने के लिए पति लगातार दबाव बनाने लगा. मकान सलीम के नाम नहीं करने पर पति ने रजिस्ट्री के माध्यम से पत्नी को 1 जून को तलाक दे दिया. रजिस्ट्री के माध्यम से पीड़िता को ट्रिपल तलाक मिला.



पीड़िता अंजुम ने पुलिस से शिकायत की. जांच करने के बाद पुलिस ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है. सीओ सिविल लाइन अनिल समानिया ने बताया कि पीड़िता की शिकायत के आधार पर जांच कर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. उन्होंने दावा किया कि कानून बनने के बाद अलीगढ़ में ट्रिपल तलाक का पहला मामला दर्ज किया गया है.
रिपोर्ट – प्रशांत कुमार 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading