अलीगढ़: पराली जलाने को लेकर प्रशासन सख्‍त, 21 किसानों पर दर्ज की FIR

रोक के बावजूद किसान जला रहे हैं पराली.
रोक के बावजूद किसान जला रहे हैं पराली.

वायु प्रदूषण (Air Pollution) पर काबू पाने के लिए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) और एनजीटी ने राज्‍य सरकारों को किसानों के पराली जलाने पर अंकुश लगाने के आदेश दिए हैं. इसी बीच, अलीगढ़ में पराली जलाने (Stubble Burning)पर कई किसानों पर एफआईआर दर्ज की गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2020, 7:20 PM IST
  • Share this:
अलीगढ़. इस समय दिल्‍ली एनसीआर पर वायु प्रदूषण (Air Pollution)की जोरदार मार पड़ रही है और हवा में पीएम (पार्टीकुलेट मैटर्स) का लेवल 322 तक पहुंच गया है. जबकि सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) और एनजीटी ने वायु प्रदूषण को देखते हुए फसलों के अवशेष यानी पराली जलाने पर प्रतिबंध लगाया हुआ है. इसके बावजूद किसान चोरी छिपे अपने खेतों में पराली जला रहे हैं. इस बीच, अलीगढ़ जिला प्रशासन (Aligarh District Administration) ने भी तमाम जागरूकता कार्यक्रमों के बावजूद किसानों द्वारा पराली जलाए जाने की घटनाओं पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए जोरदार कवायद शुरू कर दी है. इसके लिए कृषि व राजस्व टीमें रात भर दौड़ती रहीं हैं. यही नहीं, इस दौरान पकड़े गए 21 किसानों पर 11 एफआईआर (FIR on Farmers) दर्ज की गई हैं.

सेटेलाइट का लिया सहारा
अलीगढ़ के उप कृषि निदेशक अनिल कुमार ने कहा कि सेटेलाइट के जरिए पराली जलाने के 13 केस सामने आए हैं और हमने सभी पर जुर्माना लगाया है. यही नहीं, कृषि विभाग पराली जलाने वाले किसानों को रोकने के लिए लगातार सेटेलाइट का इस्‍तेमाल करने के अलावा किसानों को जागरूकता कार्यक्रम चलाने के अलावा फोन पर मैसेज भेजकर ऐसा न करने की चेतावनी दे रहा है. इसके बाद भी किसान लगातार पराली जलाकर प्रदूषण को जानलेवा बनाते जा रहे हैं.





सुप्रीम कोर्ट और एनजीटी ने दिया ये आदेश
आपको बता दें कि उत्‍तर भारत में बढ़ते वायुप्र दूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट और एनजीटी ने राज्‍य सरकार को आदेश दिया है कि जागरूकता कार्यक्रम कर किसानों को पराली न जलाने के लिए प्रेरित किया जाए, लेकिन अलीगढ़ में जिला स्तर पर रोजाना जागरूकता कार्यक्रम चलने के बाद भी पराली जलाने की घटनाओं में कमी नहीं आ रही है. यही नहीं, इस पर अंकुश लगाए जाने के लिए डीएम ने जिले भर में अभियान चलाने के आदेश दिए थे और उसके लिए कृषि विभाग की टीमें जिला कृषि अधिकारी विनोद कुमार की अगुवाई में लगातार दौड़ती रही हैं.



बता दें कि केंद्र सरकार ने दिल्ली एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की 52 टीमें बनाई हैं, जो दिल्ली से लगे राज्यों में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, यूपी में जाएंगी और वहां पर प्रदूषण के स्तर का जायजा लेंगी. ये सभी आज गुरुवार को रवाना हो गई हैं. सभी राज्यों में जहां भी निर्माण कार्य चल रहा है, वहीं पर टीमें जाकर देखेंगी कि पर्यावरण मंत्रालय के द्वारा जारी निर्देशों का यहां पर पालन किया जा रहा है या नहीं. सीपीसीबी की इस टीम के बारे में केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने खुद जानकारी दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज