लाइव टीवी

सांड के हमले में बुजुर्ग की मौत, आक्रोशित ग्रामीणों ने किया चक्का जाम

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 23, 2019, 4:53 PM IST
सांड के हमले में बुजुर्ग की मौत, आक्रोशित ग्रामीणों ने किया चक्का जाम
सांड के हमले में बुजुर्ग की मौत के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने शासन-प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की

सांड के हमले से बुजुर्ग की मौत (death) से आक्रोशित ग्रामीणों (villagers) ने शासन-प्रशासन व ग्राम प्रधान के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और सड़क पर जाम लगा दिया. कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने जाम खुलवाया और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम (postmortem) के लिए भेजा.....

  • Share this:
अलीगढ़. जनपद में आवारा पशु और जानवर लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन गए हैं. सड़कों पर आवारा पशुओं का अतिक्रमण है. हद तो तब हो गई जब बाजार जा रहे एक 50 वर्षीय व्यक्ति पर सांड ने हमला कर दिया जिसके बाद वो गंभीर रूप से घायल हो गया. घायल व्यक्ति को ग्रामीण अस्पताल ले जा रहे थे लेकिन बीच रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया और जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

जमकर हुई नारेबाजी, सड़क पर लगाया जाम
सांड के हमले से बुजुर्ग की मौत के बाद गुस्साए ग्रामीणों ने शासन-प्रशासन व ग्राम प्रधान के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और सड़क पर जाम लगा दिया. कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने जाम खुलवा दिया और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. गौरतलब है कि आवारा पशु ग्रामीणों के लिए इतनी मुसीबत बन गए हैं कि किसानों का खेती करना भी दुश्वार कर दिया है. आवारा पशुओं की समस्याओं के चलते 21 अक्टूबर को इगलास विधानसभा में होने वाले उपचुनाव में ग्रामीणों ने लगभग दर्जन भर गांव में विधानसभा चुनाव का बहिष्कार किया था. लेकिन उसके बावजूद भी कुम्भकर्णी नींद से जिला प्रशासन जागने का नाम नहीं ले रहा है.

कब मिलेगी निजात?

आक्रोशित ग्रामीणों का कहना है कि अभी तक तो आवारा पशु हमारी फसलों को बर्बाद कर रहे थे लेकिन  आज हत्यारे सांड ने बुजुर्ग की जान भी लेली उनका सवाल है कि ऐसे आवारा पशुओं के खिलाफ प्रशासन कब जागेगा और आवारा पशु और जानवरों से ग्रामीणों को कब निजात मिलेगी ?

ग्रामीणों का आरोप है कि आवारा पशुओं के चलते जनपद में अब तक कई लोगों की जान जा चुकी है, ऐसे में सरकार की करोड़ों रुपए की गोशाला योजना उनके किसी काम की नहीं है. उनका कहना है कि  गोशाला के नाम पर धोखा देने वाले जिम्प्रमेदारों के खिलाफ भी क्या कभी कोई कार्रवाई होगी. इस मसले पर जब news 18 की टीम ने जिला प्रशासन के आला अधिकारियों से बातचीत की कोशिश की तो कोई भी जिम्मेदार मीडिया के सामने इस पर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हुआ.

ये भी पढ़ें- यूपी में दीवाली पर सिर्फ 2 घंटे ही फोड़ सकते हैं पटाखे, ये है टाइमिंग
Loading...



कमलेश तिवारी हत्याकांड: बड़े शातिर थे आरोपी, ट्रेन में छोड़ दिया मोबाइल, शहर-शहर दौड़ती रही पुलिस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अलीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 4:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...