CCA Protest: हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज करेंगे AMU परिसर में हुई हिंसा की जांच
Aligarh News in Hindi

CCA Protest: हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज करेंगे AMU परिसर में हुई हिंसा की जांच
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर प्रोफेसर अफीफुल्लाह खान ने दिया इस्तीफ़ा (file photo)

भारी हंगामे के बाद एहतियातन यूनिवर्सिटी को बंद कर दिया गया था. साथ ही हॉस्टल खाली करने के आदेश जारी किए गए थे. अब पुलिस-प्रशासन और यूनिवर्सिटी ने भारतीय रेल (Indian Railway) की मदद से करीब 15 हजार छात्रों को 77 ट्रेनों से उनके घरों के लिए रवाना किया था.

  • Share this:
अलीगढ़. नागरिकता संशोधन एक्ट (Citizenship Amendment Act) के विरोध में  अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (Aligarh Muslim University) में 15 और 16 दिसंबर को हुए उपद्रव और हिंसक टकराव की आंतरिक जांच झारखंड और छत्तीसगढ़ के पूर्व चीफ जस्टिस वीके गुप्ता करेंगे. जांच में यह भी देखा जाएगा कि इस घटना में किसी छात्र के साथ ज्यादती तो नहीं हुई है. भारी हंगामे के बाद एहतियातन यूनिवर्सिटी को बंद कर दिया गया था. साथ ही हॉस्टल खाली करने के आदेश जारी किए गए थे. अब पुलिस-प्रशासन और यूनिवर्सिटी ने भारतीय रेल (Indian Railway) की मदद से करीब 15 हजार छात्रों को 77 ट्रेनों से उनके घरों के लिए रवाना किया था.

बता दें कि नागरिकता कानून को लेकर देश के अन्य हिस्सों की तरह अलीगढ़ के एएमयू में भी लगातार विरोध हो रहा है. छात्र यूनिवर्सिटी के गेट तक आकर विरोध-प्रदर्शन कर रहे थे. लेकिन रविवार की रात जामिया हिंसा के बाद एएमयू में बवाल शुरु हो गया. छात्रों ने पुलिस पर उन्हें पीटने और आंसू गैस के इस्तेमाल का आरोप लगाया था. वहीं अलीगढ़ पुलिस का कहना था कि छात्रों ने उनके और वाहनों के ऊपर पथराव किया. इसके बाद से एएमयू में हालात तनावपूर्ण हो गए थे.

छात्रों ने कहा इस बिल को नहीं करेंगे बर्दाश्त
प्रदर्शनकारी छात्रों ने कहा कि इस बिल को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. किसी भी सूरतेहाल में हम इस बिल को स्वीकार नहीं करते हैं. दिल्ली जाकर राज्यसभा सांसदों से मिलेंगे व बिल के विरोध में वोट कराने की अपील भी करेंगे. वहीं सैकड़ों की संख्या में छात्र हाथों में मशाल जुलूस लेकर सड़कों पर उतर आये. इस दौरान नागरिकता संशोधन बिल को वापस लेने की मांग करते रहे. इतना ही नहीं इस दौरान केंद्र और राज्य सरकार विरोधी नारे भी लगाए गए थे.
हिंसा के दौरान UP में 13 लोगों की मौत



बता दें कि CAA और NRC को लेकर राज्य में भड़की हिंसा के दौरान अभी तक 13 लोगों की मौत हुई है. जानकारी के मुताबिक मेरठ में चार, बिजनौर में दो, कानपुर में दो, वाराणसी में दो, संभल में दो व्यक्तियों की जान गई है. इसके अलावा फिरोजाबाद में भी एक शख्स की मौत हुई है. हिंसा और बवाल को देखते हुए पूरे उत्तर प्रदेश में 31 जनवरी, 2020 तक धारा 144 लागू कर दी गई है.

21 जिलों में इंटरनेट सेवा बंद

प्रशासन ने राज्य के 21 जिलों में इंटरनेट सेवाओं (Internet Ban) को बाधित कर दिया है. जिन जगहों पर इंटरनेट रोका गया है वो हैं- लखनऊ, मेरठ, कानपुर, वाराणसी, सहारनपुर, बुलंदशहर, मुजफ्फरनगर, अमरोहा, फिरोजाबाद, बिजनौर, संभल, मुरादाबाद, अलीगढ़, बहराइच समेत 21 जिले शामिल है. शनिवार को राज्य के सभी स्कूल, निजी और सरकारी शैक्षणिक संस्थान भी बंद रहेंगे. इससे पहले गुरुवार और शुक्रवार को भी सभी स्कूल-कॉलेज बंद करा दिए गए थे.

ये भी पढ़ें:

मायावती का चंद्रशेखर पर बड़ा हमला, बोलीं- दिल्ली में प्रदर्शन कर जबरन जेल चला जाता है

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज