होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

मैं ससुराल नहीं जाऊंगी..., जब तक टॉयलेट नहीं बनेगा! नई-नवेली बहू ने घरवालों को दिया 'ताना'

मैं ससुराल नहीं जाऊंगी..., जब तक टॉयलेट नहीं बनेगा! नई-नवेली बहू ने घरवालों को दिया 'ताना'

UP News: ससुराल में शौचालय नहीं होने से नाराज नई बहू ने पति का घर छोड़ मायके में रहना पसंद किया.

UP News: ससुराल में शौचालय नहीं होने से नाराज नई बहू ने पति का घर छोड़ मायके में रहना पसंद किया.

Swachh Bharat Abhiyan: स्वच्छता अभियान के तहत घर-घर में शौचालय बनवाने की योजना पर सरकार और प्रशासन भले ही कितना जोर दें, लेकिन देश के कई इलाके अब भी इससे वंचित हैं. घरों में शौचालय न होने की वजह से बहू-बेटियों का विरोध भी अब नई बात नहीं रही. चुनावी राज्य यूपी के अलीगढ़ में ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जहां घर में टॉयलेट न होने की वजह से नई बहू ने ससुराल छोड़ दिया. पति और सास-ससुर को यह ताना भी दिया कि पहले टॉयलेट बनवाओ, तब आऊंगी.

अधिक पढ़ें ...

अलीगढ़. चुनावी राज्य उत्तर प्रदेश में सरकारी योजनाओं का क्या हाल है, इसे अलीगढ़ में एक नई बहू के ससुराल छोड़ने से समझा जा सकता है. नवविवाहिता ने घर में टॉयलेट न होने की वजह से ससुराल छोड़ मायके में रहना पसंद किया, तो पति के परिवार को अब समाज में इज्जत बचाना भारी पड़ रहा है. हालांकि घरवाले इसकी वजह गरीबी बताते हैं. एक कमरे में रहने वाला मजदूर का परिवार पैसे के अभाव में शौचालय नहीं बनवा पाने का तर्क दे रहा है. लेकिन दो महीने पहले जब इस घर के बेटे की शादी हुई और नई बहू आई, उसके पहले शौचालय क्यों नहीं बना, यह सवाल मजाक में पूछा जा रहा है. नई बहू घर में शौचालय न होने के चलते ससुराल छोड़कर मायके चली गई. जाते-जाते यह भी कहती गई कि शौचालय बनवा लो तभी बुलाने आना.

जानकारी के मुताबिक, मामला अलीगढ़ के टप्पल थाना इलाके का है. यहां के कस्बा जट्टारी में गज्जो पिछले कई वर्षों से अपने परिवार के साथ रह रहा है. गज्जो व उसका बेटा कमल मेहनत मजदूरी व कबाड़ा बीन कर अपने परिवार का पालन पोषण करते हैं. बताया गया है कि  परिवार की माली हालात के कारण गज्जो की पत्नी की कुछ माह पूर्व ही इलाज के अभाव में मौत हो गई थी. जिसके बाद गज्जो ने अपने बेटे कमल की शादी जिला प्रयागराज के गांव तकीपुर निवासी खुशी के साथ कर दी. घर में आई नवविवाहिता कुछ समय में ही ससुराल में शौचालय न होने के चलते घर छोड़ दिया और मायके चली गई.

मुफ्त शौचालय का लाभ नहीं मिला

बताया जा रहा है कि बीते 2 माह पूर्व शादी होकर आई नवविवाहिता के जाने के बाद क्षेत्र में परिवार को काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ रही है. कमल और उसके पिता गज्जो का कहना है कि वह अशिक्षित हैं. उनको किसी भी प्रकार की सरकारी सुविधा जैसे- सरकारी घर और मुफ्त शौचालय नहीं मिल सका है. इतना ही नहीं, कोई सरकारी डॉक्युमेंट, आधार या राशन कार्ड तक बन पाया है. स्थानीय महिला ने बताया है कि यह परिवार बेहद गरीब है. कमल की पत्नी के छोड़कर जाने के बाद इलाके के एक समाजसेवी को जानकारी हुई तो उन्होंने घर में शौचालय बनवाना प्रारंभ कर दिया है.

Tags: Aligarh news, Cleanliness campaign, UP Election 2022

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर