जिन्ना विवाद: हिंदूवादी नेता को सम्मानित करने पर AMU के स्पोर्ट कोच सस्पेंड

सस्पेंड हुए ट्रेनर मज़हरुल क़मर ने बताया कि उन्हें चुप रहने और अपना पक्ष जांच समिति के सामने रखने के लिए कहा गया है, जो वह करेंगे.


Updated: May 14, 2018, 11:34 PM IST

Updated: May 14, 2018, 11:34 PM IST
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के बाब-ए-सयैद गेट पर पहुंच कर दो मई को हंगामा करने वालों में आरोपी अमित गोस्वामी को सम्मानित करने पर एएमयू प्रशासन ने स्पोर्ट कोच मजहर उल कमर को निलंबित कर दिया है. मजहर ने अपनी सफाई भी पेश की थी, लेकिन एएमयू प्रशासन उससे संतुष्ट नहीं हुआ था. कमर विश्वविद्यालय खेल समिति में (भारोत्तोलन) प्रशिक्षक थे.

दो मई को एएमयू हमले में कथित संलिप्ता को लेकर हिंदुत्ववादी संगठन के नेता के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार किया गया था. फिलहाल वह जमानत पर बाहर है.

एएमयू के पीआरओ ऑफिस के मेंबर इंचार्ज शाफ़े किदवई ने कहा कि एएमयू प्रशासन ने शनिवार को ही मजहर को कारण बताओ नोटिस जारी किया था. नोटिस में मजहर से पूछा था-
"आप जानते थे कि वह शख्स उपद्रवियों के समूह का हिस्सा रहा है. वह समूह जिसने विश्वविद्यालय के खिलाफ नारेबाजी और अभद्र भाषा का प्रयोग किया. छात्र और कर्मचारी बाब-ए-सयैद गेट पर पहुंचे और आपने परिसर में बिगड़े हालात के बावजूद अमित से मुलाकात की. अमित से मुलाकात कर विश्वविद्यालय बिरादरी व छात्रों की भावनाओं से खिलवाड़ किया है."


मजहर ने इंतजामिया को जवाब भी भेजा, इससे वह संतुष्ट नहीं हुआ. एएमयू ने कहा है कि मजहर को अपना पक्ष रखने के लिए समयबद्ध अवसर प्रदान किया जाएगा. समयबद्ध जांच भी कराई जाएगी. इस मामले पर सस्पेंड हुए ट्रेनर मज़हरुल क़मर ने बताया कि उन्हें चुप रहने और अपना पक्ष जांच समिति के सामने रखने के लिए कहा गया है, जो वह करेंगे.

ये भी पढ़ें- पढ़िए सांसद की चिठ्ठी की वो कहानी जिसने एएमयू में करा दिया बवाल

AMU में जिन्ना के बाद अब इस राजा की तस्वीर को लेकर विवाद

हिन्दू संगठन ने हामिद अंसारी के खिलाफ लिखा पत्र, सरकारी सुविधाएं वापस लेने की मांग

वैशाली एक्सप्रेस 10 मिनट में स्टेशन पर चाहिए, सारी ट्रेनें रोक दो- BJP सांसद
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर