होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Aligarh: 'कल तक जो वेस्ट था वो आज बेस्ट है', महिला अस्पताल के स्टाफ ने किया ये बड़ा कमाल

Aligarh: 'कल तक जो वेस्ट था वो आज बेस्ट है', महिला अस्पताल के स्टाफ ने किया ये बड़ा कमाल

Mohan Lal Gautam Women Hospital: अलीगढ़ के मोहनलाल गौतम महिला अस्पताल की सीएमएस रेनू शर्मा, डॉक्‍टर और स्‍टाफ ने मिलकर ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- वसीम अहमद

अलीगढ़. अगर कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो कोई भी लक्ष्य कठिन नहीं होता है. जबकि मंजिल आसान लगने लगती है और सफलता परिश्रम का गुणगान करने लगती है. अलीगढ़ के मोहनलाल गौतम महिला अस्पताल में भी कुछ ऐसा ही हुआ है. यहां सीएमस और नर्सिंग स्टाफ के सहयोग से अस्पताल के वेस्ट सामान से पर्यावरण बचाओ के लिए एक अनोखा संदेश दिया जा रहा है.

NEWS 18 LOCAL को मोहनलाल गौतम महिला अस्पताल की सीएमएस रेनू शर्मा ने बताया कि अस्पताल के इस पार्क के निर्माण में अस्पताल में यूज हुआ सामान जैसे टूटी-फूटी ट्रॉली, पुराने टूटे हुए डस्टबिन और डिप्स स्टैंड, टायर, कांच या प्लास्टिक की बोतलें आदि वेस्ट सामान इकट्ठा कर इस्तेमाल किया गया है. साथ-साथ ही अस्पताल परिसर में एक पुराना सूखा हुआ पेड़ था जिसको दीमक लगी हुई थी और वह खुद टूट कर गिर गया था. ऐसे में हम लोगों ने इस सूखे पेड़ को भी इस पार्क में डेकोरेशन सजावट के तौर पर इस्तेमाल कर लिया है.

आपके शहर से (अलीगढ़)

अलीगढ़
अलीगढ़

सफाई भी और पर्यावरण संरक्षण की सीख भी
सीएमएस रेनू शर्मा ने बताती हैं कि अस्पताल और उसकी बाउंड्री से लगे सोसाइटी वाले भी यहां, अपने घर का कूड़ा-कचरा डाल दिया करते थे, जिसके कारण अस्‍पातल के आसपास बहुत गंदगी हो जाती थी. जब हमने अस्पताल में पार्क की थीम पर काम शुरू किया तो डॉक्टर्स, नर्स और अन्य स्टाफ ने मिलकर इस जगह की साफ-सफाई की और फिर पेड़ पौधे लगाकर एक पार्क का निर्माण कर दिया. वहीं इस पार्क के निर्माण का एक मैसेज यह भी है कि पर्यावरण को बढ़ावा दिया जाए. साथ ही अस्पताल में मरीजों को शुद्ध ऑक्सीजन मिले.वहीं डॉक्टर रेनू शर्मा बताती हैं कि अब जमीन काफी कम बची है. ऐसे में सभी लोगों को ज्यादा से ज्यादा पेड़-पौथे लगाकर पर्यावरण को बेहतर बनाना चाहिए.

पक्षियों के लिए अलग से जगह
अस्पताल के इस पार्क में एक जगह ऐसी भी बनाई गई है, जहां चिड़ियों को दाना डाला जा सके. इसके लिए एक बर्ड्स फीडर भी बनाया गया है. पिछले 1 साल से एक भी दिन ऐसा नहीं गया, जब चिड़ियों के लिए दाना ना डाला गया हो. यह सारा काम अस्पताल में मिलजुल कर सभी सहयोगियों के साथ पूरा किया जाता है.

Tags: Aligarh news, Environment news, UP government hospital

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें