अलीगढ़: जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल जारी, अब तक 14 मरीजों ने दम तोड़ा

इस मामले में प्रशासन ने भी एस्मा लगाने की बात कही थी लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

Alok singh | News18 Uttar Pradesh
Updated: April 6, 2018, 5:40 PM IST
अलीगढ़: जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल जारी, अब तक 14 मरीजों ने दम तोड़ा
हड़ताल पर जूनियर डॉक्टरों की फोटो.
Alok singh | News18 Uttar Pradesh
Updated: April 6, 2018, 5:40 PM IST
अलीगढ़ के जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल आठवें दिन भी जारी है. हड़ताली डॉक्टर अपनी मांग पर अडिग है. उन्होंने चेतावनी दी कि जब तक मांगें पूरी नहीं होगी, हड़ताल खत्म नहीं होगी. इस हड़ताल का सीधा असर मरीजों पर पड़ रहा है. अबतक 8 दिनों में 14 से ज्यादा मरीज दम तोड़ चुके है. हड़ताल में करीब साढ़े चार सौ जूनियर डॉक्टर शामिल है. इस मामले में प्रशासन ने भी एस्मा लगाने की बात कही थी लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

बता दें कि ड्यूटी के दौरान डॉक्टर आशा और एएमयू के कैबिनेट मेंबर जैद शेरवानी के बीच मामूली कहासुनी को बड़ा रुप दिया गया है. जेएन मेडिकल कॉलेज पश्चिमी उत्तर प्रदेश का बड़ा मेडिकल कॉलेज है. जहां विभिन्न जिलों से मरीज इलाज कराने पहुंचते है. लेकिन यह हड़ताल खत्म होने का नाम नहीं ले रही है. हड़ताली डॉक्टर किसी सूरत में मानने को तैयार नहीं है.

उनका कहना है कि जब तक जैद शेरवानी का निलंबन नहीं होगा, हड़ताल जारी रहेगी. जिला प्रशासन द्वारा तमाम चेतावनी और एएमयू प्रशासन की चेतावनी के बाद भी हड़ताली डॉक्टर अपनी बात पर अडिग है. डॉक्टरों की हड़ताल के चलते मेडिकल कॉलेज पहुंचने वाले मरीजों का हाल बेहाल है. पिछले एक सप्ताह से ज्यादा समय से मरीज तड़पने को मजबूर है.

इलाज के अभाव में वह इधर उधर भटक रहे है. लेकिन इलाज नहीं मिल पा रहा है. आरडीए के अध्यक्ष डाॅक्टर अब्दुल्लाह आजमी ने कहा है कि जब तक आरडीए की सभी मांगों को पूरा नहीं कर लिया जाता, तब तक हड़ताल वापस नहीं ली जाएगी. गौरतलब है कि जैद शेरवानी पर जूनियर डॉक्टर आशा ने अभद्रता का आरोप लगाया था, जिसके बाद से जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे.
First published: April 6, 2018, 5:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...