लाइव टीवी

CAB को लेकर अलीगढ़ व सहारनपुर में विरोध प्रदर्शन, AMU के छात्रों ने निकाला जुलूस

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 13, 2019, 4:11 PM IST
CAB को लेकर अलीगढ़ व सहारनपुर में विरोध प्रदर्शन, AMU के छात्रों ने निकाला जुलूस
नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में एएमयू के छात्रों ने जुलूस निकाला

नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) को लेकर सहारनपुर और अलीगढ़ में विरोध प्रदर्शन हुआ. एएमयू के छात्रों ने कैंपस से जिला मुख्यालय तक शांतिपूर्ण तरीके से जुलूस निकाला.

  • Share this:
अलीगढ़. नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) को लेकर उत्तर प्रदेश के कई शहरों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. तनाव को देखते हुए अलीगढ़ व सहारनुपर में जिला प्रशासन ने इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी हैं. इस बीच अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के छात्रों ने शुक्रवार को बिल के विरोध में शांति पूर्ण तरीके से जुलूस निकाला. छात्रों के प्रदर्शन को लेकर जिला प्रशासन को पहले ही अल्टीमेटम दिया गया था, जिसके बाद एएमयू केंपस में भारी संख्या में पीएसी और आरएएफ के साथ लोकल पुलिस के जवानों को तैनात कर दिया गया.

एनआरसी और कैब के विरोध में एएमयू (AMU) छात्र लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं. छात्रों ने कैंपस से जिला मुख्यालय तक शांतिपूर्ण तरीके से जुलूस निकाला. हालांकि प्रशासन ने इसकी अनुमति नहीं दी थी. सूत्रों के अनुसार प्रदर्शनकारी छात्रों को रोकने के लिए जिला प्रशासन ने पूरी तैयारी कर रखी है. किसी भी कीमत पर छात्रों के प्रदर्शन को बढ़ने नहीं दिया जाएगा.

सहारनपुर में हुआ विरोध प्रदर्शन
वहीं, सहारनपुर में जुमे की नमाज के बाद नमाज़ियों ने नागरिकता बिल के विरोध में शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन किया. उन्होंने इस नागरिकता बिल को काला बिल करार दिया. इस दौरान हजारों की संख्या में लोगों ने बिल के विरोध किया और सिटी मजिस्ट्रेट को अपना ज्ञापन सौंपा. सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे एसपी सिटी ने लोगों को समझा कर माहौल शांत कराया.

सहारनपुर में मुस्लिम लोगों ने किया विरोध प्रदर्शन


इंटरनेट सेवाएं बंद
बता दें कि इससे पहले एएमयू के छात्रों जिला प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा था कि किसी भी कीमत पर वह भी इस बिल का खुलकर विरोध करेंगे और जिला मुख्यालय तक प्रोटेस्ट निकालकर रहेंगे. फिलहाल अलीगढ़ व सहारनुपर में तनाव को देखते हुए जिला प्रशासन ने इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी हैं.कानून बना नागरकिता संशोधन बिल
बता दें कि नागरिकता संशोधन बिल 2019 बुधवार को राज्यसभा में पारित हो गया. यह विधेयक लोकसभा में पहले ही पारित हो चुका था. गुरुवार देर रात राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की ओर से इसे मंजूरी मिलने के बाद यह विधेयक कानून में बदल गया. राज्यसभा में विधेयक के पक्ष में 125 वोट और विरोध में 99 वोट पड़े थे. वहीं, लोकसभा में इस बिल के पक्ष में 311 और विरोध में 80 वोट पड़े. नागरिकता संशोधन कानून के तहत भारत के तीन पड़ोसी इस्लामी देशों- पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से धार्मिक प्रताड़ना का शिकार होकर भारत की शरण में आए गैर-मुस्लिम लोगों को आसानी से नागरिकता मिल सकेगी.

ये भी पढ़ें-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अलीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 3:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर