लाइव टीवी

अलीगढ़ में शरजील इमाम की आजादी के लगे नारे, AMU प्रशासन ने साधी चुप्पी

News18Hindi
Updated: February 13, 2020, 10:15 PM IST
अलीगढ़ में शरजील इमाम की आजादी के लगे नारे, AMU प्रशासन ने साधी चुप्पी
संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में पिछले 2 माह से यहां धरना प्रदर्शन चल रहा है. (फाइल फोटो)

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के छात्रों ने देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद जेएनयू के छात्र शरजील इमाम (Sharjeel Imam) के समर्थन में गुरुवार को नारे लगाए गए हैं. इस मामले में एएमयू प्रशासन ने चुप्पी साध रखी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 13, 2020, 10:15 PM IST
  • Share this:
अलीगढ़. अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के छात्रों ने देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद जेएनयू के छात्र शरजील इमाम (Sharjeel Imam) के समर्थन में गुरुवार को नारे लगाए गए. यहां आयोजित एक प्रदर्शन के दौरान शरजील इमाम को आजादी करने के लिए जमकर नारे लगे. अब तक इस मामले में एएमयू प्रशासन ने चुप्पी साध रखी है. बता दें, संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में पिछले 2 माह से यहां धरना प्रदर्शन चल रहा है. इस दौरान कई बार पुलिस और यूनिवर्सिटी के छात्रों के बीच झड़प भी हुई है.

शरजील इमाम और डॉक्टर कफील के पक्ष में लगे नारे
जानकारी के अनुसार, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में पिछले दो महीने से लगातार नागरिकता संशोधन कानून, एनआरसी व एनपीआर को लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. इसी दौरान देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद शरजील इमाम व भड़काऊ भाषण के आरोपों में जेल भेजे गए डॉ कफ़ील की रिहाई की मांग पर एएमयू में नारे लगाए गए.

sharjeel imam, sharjeel imam arrest, शरजील इमाम, देशद्रोह का आरोप, shaheen bagh, caa protest, controversial statement
शरजील इमाम के पक्ष में देश के कई जगहों पर प्रदर्शन हुआ है.


कानून के वापस होने तक जारी रहेगा विरोध प्रदर्शन
विरोध-प्रदर्शन में शामिल छात्राओं ने कहा कि जब तक ये काला कानून वापस नहीं होता है, जब तक हमारा विरोध जारी रहेगा. छात्रों का ये भी कहना है कि आज़ादी के नारे लगाने का मतलब ये है कि हम लोग लोकतांत्रिक तरीके से अपनी आवाज़ उठा सकते हैं.

बताया क्यों लगाया शरजीज इमाम की आजादी के नारेइस दौरान मौजूद छात्रों का कहना था कि शरजील इमाम की आज़ादी के जो नारे लगाए हैं, वह इसलिए लगाए गए हैं कि यहां पर हर किसी को हक़ है अपनी बात अपने अल्फ़ाज़ों में कहने का.

असम को की थी CAA-NRC से मुक्त कराने की मांग
छात्रों ने बताया कि शरजील इमाम का ये कहना था (विवादित वीडियो में भाषण के दौरान) कि असम को सीएए-एनआरसी से आज़ाद करो. छात्रों का तर्क है कि मामला कोर्ट में है और उसके निर्णय को हम स्वीकार करेंगे.

(रिपोर्ट: प्रशांत कुमार, अलीगढ़)

ये भी पढ़ें: 

लखनऊ CAA हिंसा: 13 लोगों को भरने होंगे 21.76 लाख रुपए, 7 हुए बरी

जानिए यूपी में कहां-कहां बन गए हैं 'शाहीनबाग', CAA के खिलाफ दिन-रात प्रदर्शन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अलीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 13, 2020, 10:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर