प्रयागराज: गौशाला में 35 गायों की मौत पर सियासत शुरू, जांच के आदेश

पूरे मामले में जिलाधिकारी बीसी गोस्वामी ने एडीएम प्रशासन के नेतृत्व में एक दो सदस्यीय टीम गठित कर तीन दिन में जांच रिपोर्ट तलब कर ली है.

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 12, 2019, 5:06 PM IST
प्रयागराज: गौशाला में 35 गायों की मौत पर सियासत शुरू, जांच के आदेश
बाकी गायों को सुरक्षित जगहों पर भेजा गया
Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 12, 2019, 5:06 PM IST
प्रयागराज जिले के फूलपुर विधानसभा क्षेत्र के कांदी गांव में सरकारी गौशाला में 35 गायों की मौत से हड़कंप मचा हुआ है. ग्राम प्रधान और जिला प्रशासन का दावा है कि आकाशीय बिजली गिरने से गायों की मौत हुई है. लेकिन ग्रामीण ग्राम प्रधान और प्रशासन के दावों पर ही सवाल खड़े कर रहे हैं. वहीं मृत गायों का पोस्टमार्टम कराने के बाद उन्हें दफनाने की कार्रवाई पूरी कर ली गई है. जबकि बची गायों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट कर दिया गया है. वहीं पूरे मामले में जिलाधिकारी बीसी गोस्वामी ने एडीएम प्रशासन के नेतृत्व में एक दो सदस्यीय टीम गठित कर तीन दिन में जांच रिपोर्ट तलब करली है. जबकि शासन की ओर से भी एक जांच टीम मौका मुआयना कर वापस लौट चुकी है.

अस्थायी गौशाला में गायों की मौत का क्या है पूरा मामला



गौवंशीय पशुओं का संवर्धन और संरक्षण सीएम योगी की प्राथमिकताओं में शामिल है और यही वजह है कि प्रदेश भर में गौशालाओं का भी निर्माण कराया गया है. इसी के तहत फूलपुर विधानसभा क्षेत्र में बहादुरपुर ब्लाक के कांदी गांव में भी 19 जनवरी 2019 को एक अस्थायी गौशाला का निर्माण तालाब की पांच बीघे दस विस्वा जमीन पर कराया गया है. दो दिनों से हो रही लगातार बारिश सो गौशाला में काफी जल भराव हो गया है और गुरुवार को लोगों को यह जानकारी मिली की गौशाला में 35 गायों की मौत हो गयी है. एक साथ 35 गायों की मौत की सूचना पर हड़कम्प मच गया. जिसके मौके के लिए अफसर भी भागे. ग्राम प्रधान और जिला प्रशासन के मुताबिक आकाशीय बिजली गिरने से ही गायों की मौत हुई है. उन्होंने गौशाला में किसी भी लापरवाही की बात से इंकार किया है और कहा है कि गायों के लिए गौशाला में पर्याप्त चारे और पानी का भी इंतजाम किया गया था.



ग्रामीणों के मुताबिक नहीं गिरी बिजली

वहीं इस मामले में कुछ ग्रामीण ग्राम प्रधान और जिला प्रशासन के दावों को गलत बता रहे हैं. कुछ ग्रामीणों का कहना है कि आकाशीय बिजली नहीं गिरी है. अपनी लापरवाही छिपाने के लिए ग्राम प्रधान और प्रशासन के अधिकारी मामले की लीपापोती में जुटे हुए हैं. वहीं गौ वंशीय पशुओं की मौत पर मौके पर पहुंचे विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ताओं ने भी जिम्मेदार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कड़ी कार्रवाई की मांग की है.

जिलाधिकारी ने दिए जांच के आदेश
Loading...

वहीं पूरे मामले में जिलाधिकारी बीसी गोस्वामी का कहना है कि गायों के लिए गौशाला में चारे और पानी का पर्याप्त इंतजाम किया गया था. लेकिन प्रथम दृष्टया आकाशीय बिजली गिरने से ही गायों की मौत की बात सामने आ रही है. डीएम के मुताबिक इस मामले की जांच के लिए एडीएम प्रशासन और फूलपुर एसडीएम की दो सदस्यीय जांच टीम गठित कर उन्हें तीन दिन में जांच पूरी करने का भी आदेश दिया गया है. जिलाधिकारी के मुताबिक बची गायों को सुरक्षित स्थान पर भेज दिया गया है और उनके लिए चारे और पानी का इंतजाम भी कराया जा रहा है. डीएम के मुताबिक पूरे मामले में यदि किसी भी व्यक्ति की लापरवाही पायी जाती है तो कार्रवाई भी की जायेगी.

मृत गायों का हुआ पोस्टमार्टम

गौशाला में मृत गायों का पोस्टमार्टम कराकर उन्हें तालाब के ही किनारे एक हिस्से में जेसीबी मशीनों से गढ्ढे खोदकर दफना दिया गया है. गौ शाला में सुरक्षित बची गायों को जिलाधिकारी के निर्देश पर सुरक्षित स्थान पर भेज दिया है. गायों को एक बाड़े में रखा गया है. इसके साथ ही उनके लिए चारे और पानी का भी ग्राम प्रधान द्वारा इंतजाम कराया जा रहा है. बारिश से गौ वंशीय पशुओं को बचाने के लिए टीन शेड के अस्थायी बाड़े भी तैयार कराये जा रहे हैं. बहरहाल, प्रयागराज की सरकारी गौशाला में 35 गायों की मौत का मामला अब सीएम योगी के दरबार तक पहुंच गया है. जिसके बाद शासन के निर्देश पर एक जांच भी गौशाला का निरीक्षण कर वापस लौट चुकी है. अब देखना है कि शासन और प्रशासन की जांच रिपोर्ट में गायों की मौत को लेकर क्या वजह सामने आती है और सरकार इसमें क्या कार्रवाई करती है.

सियासत शुरू, कांग्रेस ने लगाया आरोप

उधर इस मामले पर अब सियासत भी शुरू हो गई है. यूपी कांग्रेस ने प्रयागराज में हुई गायों की मौत के लिए सरकार को ज़िम्मेदार ठहराया है. कांग्रेस का कहना है कि सरकार लगातार गायों के संरक्षण की बातें करती आई है, लेकिन ज़मीन पर इनके भरण पोषण के लिए सरकारी इंतजाम नाकाफी हैं. कांग्रेस के द्विजेंद्र त्रिपाठी ने कहा कि सेस लगाए जाने के बाद भी सरकार गायों के खाने पीने की व्यवस्था नहीं कर पा रही है. उधर यूपी बीजेपी ने कहा है कि प्रयागराज में हुई गायों की मौतों के जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई जरुर होगी. इस मामले की जांच करवाई जाएगी.

ये भी पढ़ें -

दलित युवक से शादी करने वाली BJP विधायक की बेटी पहुंची हाईकोर्ट, लगाई सुरक्षा की गुहार

VIDEO: बेटी के दलित लड़के से शादी पर BJP विधायक ने तोड़ी चुप्पी, कही ये बात
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...