आचार्य बालकृष्ण बन सकते हैं निरंजनी अखाड़े के 'महामंडलेश्वर': महंत नरेंद्र गिरी

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 31, 2019, 11:28 AM IST
आचार्य बालकृष्ण बन सकते हैं निरंजनी अखाड़े के 'महामंडलेश्वर': महंत नरेंद्र गिरी
आचार्य बालकृष्ण बन सकते हैं निरंजनी अखाड़े के 'महामंडलेश्वर'

उन्होंने बताया कि कुंभ के दौरान या शुभ मुहूर्त में पट्टा अभिषेक कर साधु-संतों की मौजूदगी में महामंडलेश्वर की पदवी दी जाती है. इस दौरान अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने योग गुरु स्वामी रामदेव से मुलाकात की.

  • Share this:
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी शनिवार को योग गुरु स्वामी रामदेव के सहयोगी आचार्य बालकृष्ण का हालचाल पूछने पतंजलि योगपीठ हरिद्वार पहुंचे. आचार्य बालकृष्ण से मुलाकात के बाद महंत नरेंद्र गिरी ने बताया कि निरंजनी अखाड़े का आचार्य महामंडलेश्वर बनाए जाने का प्रस्ताव रखा है. उन्होंने कहा कि प्रस्ताव पर चर्चा हुई है, लेकिन कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है. जल्द ही इस पर फैसला लिया जाएगा. नरेंद्र गिरी के मुताबिक अखाड़ों में धर्म के प्रचार प्रसार के लिए महामंडलेश्वर बनाए जाने की परंपरा है.

उन्होंने बताया कि कुंभ के दौरान या शुभ मुहूर्त में पट्टा अभिषेक कर साधु-संतों की मौजूदगी में महामंडलेश्वर की पदवी दी जाती है. इस दौरान अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने योग गुरु स्वामी रामदेव से मुलाकात की.

ऐसे बनते है महामंडलेश्वर

सनातन परंपरा में संन्यासी बनना सबसे कठिन कार्य है. शिक्षा, ज्ञान और संस्कार के साथ सामाजिक स्तर को ध्यान में रखते हुए संन्यासी को महामंडलेश्वर जैसे पद पर बिठाया जाता है. साधारण संत को महामंडलेश्वर जैसे पद पर पहुंचने के लिए योग्य होना जरूरी है.

अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी
अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी


जानकारी के मुताबिक बहुत पहले साधु-संतों की मंडलियां चलाने वालों को मंडलीश्वर कहा जाता था. 108 और 1008 की उपाधि वाले संत के पास वेदपाठी विद्यार्थी होते थे. अखाड़ों के संतों का कहना है कि ऐसे महापुरुष जिन्हें वेद और गीता का अध्ययन हो, उन्हें बड़े पद के लिए नामित किया जाता था.

महामंडलेश्वर पद की शर्तें
Loading...

1. साधु संन्यास परंपरा से हो.

2.वेद का अध्ययन, चरित्र, व्यवहार व ज्ञान अच्छा हो.

3. अखाड़ा कमेटी निजी जीवन की पड़ताल से संतुष्ट हो.

ये भी पढ़ें:

गांववालों ने धूमधाम से रचाई कुत्ते-कुतिया की शादी, DJ की धुन पर निकली बारात

काशी में हुआ बड़ा घोटाला, डाकघर के खातों से गायब हुई 4 करोड़ की रकम

अमरोहा में जीजा ने साली और उसके पति को मारी गोली, मुरादाबाद रेफर

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2019, 11:28 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...