लाइव टीवी

अखाड़ा परिषद ने किया मोहन भागवत का समर्थन, नरेंद्र गिरी बोले- दो बच्चों का कानून हो लागू

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: January 19, 2020, 8:39 AM IST
अखाड़ा परिषद ने किया मोहन भागवत का समर्थन, नरेंद्र गिरी बोले- दो बच्चों का कानून हो लागू
महंत नरेंद्र गिरी ने की जनसंख्या कानून लाने की मांग.

महंत नरेंद्र गिरी ने कहा है कि अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhara Parishad) भी केंद्र सरकार से दो बच्चा पैदा करने के लिए कानून बनाने की मांग करता है.

  • Share this:
प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhara Parishad) के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने जनसंख्या नियंत्रण पर आरएसएस (RSS) प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) के बयान का समर्थन किया है. आरएसएस प्रमुख ने मुरादाबाद में संघ की बैठक में दो बच्चे पैदा करने का कानून लाये जाने की मांग कर चुके हैं. उन्होंने कहा है कि देश में दो बच्चे ही पैदा करने वाला कानून लागू होना चाहिए.

'जनसंख्या विस्फोट से देश पर बढ़ रहा बोझ'
महंत नरेंद्र गिरी ने कहा है कि अखाड़ा परिषद भी केंद्र सरकार से दो बच्चा पैदा करने के लिए कानून बनाने की भी मांग करता है. उन्होंने कहा कि आरएसएस प्रमुख के इस बयान का सभी साधु-संत पूरी तरह से समर्थन भी करते हैं. महंत नरेंद्र गिरी ने सभी साधु-संतों से दो बच्चों के कानून का समर्थन करने और इसको लेकर लोगों में जागरूकता लाने के लिए भी आगे आने की अपील की है. उन्होंने कहा कि लोग 13-13 बच्चे पैदा करके देश की आर्थिक स्थिति को संकट में डाल रहे हैं, क्योंकि जिस तरीके से जनसंख्या विस्फोट हो रहा है उससे देश पर बोझ बढ़ रहा है और इससे देश का विकास भी प्रभावित हो रहा है.

बताई कानून की जरूरत

महंत नरेंद्र गिरी ने कहा कि उत्तराखंड सहित कई राज्यों में दो बच्चों से ज्यादा बच्चे पैदा करने पर पंचायत चुनाव लड़ने पर रोक का कानून बन चुका है. इसलिए देश में ऐसे कानून की अत्यंत आवश्यकता है, ताकि तेजी से बढ़ रही जनसंख्या पर नियंत्रण किया जा सके. महंत नरेंद्र गिरि ने कहा है कि बढ़ती जनसंख्या की वजह से कई गंभीर समस्याएं खड़ी हो रही हैं.

ये भी पढ़ें:CAA विरोध: पुलिस ने प्रदर्शनकारी महिलाओं से खाने पीने का सामान, कंबल किया जब्त

सगे भाइयों ने दादा-दादी को कुल्हाड़ी से काटकर उतारा मौत के घाट, ये है वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 19, 2020, 8:17 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर