देश में साधुओं पर बढ़ रहे हमले और उनकी हत्याओं से अखाड़ा परिषद नाराज, नरेंद्र गिरी ने कही ये बात

उन्होनें कहा कि नेता लोग वहीं जाते हैं जहां वोट दिखता है. 
 (फाइल फोटो)
उन्होनें कहा कि नेता लोग वहीं जाते हैं जहां वोट दिखता है. (फाइल फोटो)

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि (Narendra Giri) ने कहा कि यह घटनाएं स्थानीय प्रशासन की लापरवाही के चलते होती हैं.

  • Share this:
प्रयागराज. महाराष्ट्र के पालगढ़ (Palgarh) में जूना अखाड़े के दो साधुओं की निर्ममता से हत्या ( Murder) के बाद अब देश में साधु- संतों पर हमले बढ़े गए हैं. ऐसे में बढ़ रहे हमलों से साधु- संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने अपनी गहरी चिंता जताई है. राजस्थान में एक मंदिर के पुजारी की जलाकर हत्या किए जाने के बाद यूपी के गोंडा जिले में पुजारी को गोली मारे जाने की घटना से संत समाज में ना़राजगी है. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी (Mahant Narendra Giri) ने राजस्थान में पुजारी की जलाकर हत्या और यूपी के गोंडा में मंदिर के पुजारी को गोली मारे जाने की घटना की निंदा करते हुए दोषियों पर कठोर कार्रवाई और धार्मिक स्थलों व मठ- मंदिरों की सुरक्षा बढ़ाए जाने की मांग की है.

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि ने कहा कि यह घटनाएं स्थानीय प्रशासन की लापरवाही के चलते होती हैं. उन्होनें सरकार से मांग की है कि ऐसे मामलों की जानकारी जब थाने या फिर दूसरे संबंधित विभागों में पहुंचे तो समय रहते ही मामलों का त्वरित निस्तारण करा दिया जाए तो यह घटनाएं शायद न हो पाए. लेकिन स्थानीय पुलिस और प्रशासन की लापरवाही के चलते ऐसी घटनाएं होती हैं, जो बेहद चिंताजनक है. महंत नरेन्द्र गिरि ने सभी सरकारों से मांग की है कि सभी मठ -मंदिरों और धार्मिक स्थलों की सुरक्षा बढ़ाई जाए. वहीं, इशारों-इशारों में ही उन्होनें सियासी दलों पर भी निशाना साधा है. हाथरस की घटना पर सियासी दौरे और हंगामे को लेकर उन्होनें कहा कि नेता लोग वहीं जाते हैं जहां वोट दिखता है. उन्होनें राजनेताओं से कहा है कि वह ऐसे मामलों में अपनी राजनैतिक रोटियां न सेकें, बल्कि वहां की सरकार और स्थानीय प्रशासन पर छोड़कर विकास और दूसरे मुद्दों पर बात करें.

जमीनी विवाद में गोली मार दी गई थी
बता दें कि कल खबर सामने आई थी कि उत्तर प्रदेश के गोंडा जनपद में शनिवार देर रात राम जानकी मंदिर के पुजारी बाबा सम्राट दास (Priest Samrat Das) को जमीनी विवाद में गोली मार दी गई. इटियाथोक कोतवाली क्षेत्र के तिर्रे मनोरमा गांव में स्थित राम जानकी मंदिर के पुजारी सम्राट दास को गंभीर हालत में लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर किया गया है. वहीं मामले में मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. जबकि दो फरार आरोपियों की तलाश जारी है.
जमीन को लेकर चल रहा है विवाद


बताया जा रहा है कि मनोरमा नदी के उद्गम स्थल को लेकर राम जानकी मंदिर के पुजारी सीताराम दास का भू-माफियाओं से काफी दिनों से विवाद चल रहा है. पिछले साल हमला भी हुआ था. शनिवार देर रात इन लोगों ने मंदिर के दूसरे पुजारी बाबा सम्राट दास को गोली मार दी और फरार हो गए. बता दें  पिछले साल बाबा सीताराम दास पर भी बदमाशों ने जानलेवा हमला किया था और इस मामले में अभी पुलिस जांच जारी है. इसी बीच बाबा सम्राट दास को इन लोगों ने गोली मार दी है. पुजारी को जिला अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद गंभीर हालत में लखनऊ रेफर कर दिया गया. वहीं पुजारी की तहरीर पर 4 लोगों पर केस दर्ज कर पुलिस कार्रवाई में जुट गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज