मंदिर में नमाज पढ़ने का विरोध हो लेकिन मस्जिद में पूजा-पाठ की बात गलत: अखाड़ा परिषद

अखिल भारतीय अखाड़ा भारतीय परिषद के महंत नरेंद्र गिरी
अखिल भारतीय अखाड़ा भारतीय परिषद के महंत नरेंद्र गिरी

प्रयागराज (Prayagraj) में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने कहा कि मंदिर में नमाज़ पढ़े जाने का विरोध किया जाना चाहिए. लेकिन कोई साधु-संत अगर यह कहे कि मस्जिद में जाकर पूजा-पाठ करेंगे तो यह गलत है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2020, 1:02 PM IST
  • Share this:
प्रयागराज. बरेली (Bareilly) में हिंदूवादी नेता साध्वी प्राची (Sadhvi Prachi) द्वारा लखनऊ की प्राचीन मस्जिद में हवन-पूजन करने के बयान को साधु-संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhara Parishad) ने गलत करार दिया है. अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) ने कहा कि साध्वी प्राची को ऐसे भड़काऊ बयान नहीं देने चाहिए.

ऐसे मामलोें में कानून करता है अपना काम

महंत नरेंद्र गिरि ने कहा अगर क्रिया होगी तो उसके खिलाफ प्रतिक्रिया भी होगी. अगर कोई मंदिर में जाकर नमाज पढ़ेगा तो हिंदू जनमानस भी मस्जिद में हवन और पूजा करेगा. उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में कानून अपना काम करता है. मथुरा के मामले में भी मंदिर में नमाज पढ़ने वाले आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा है इसलिए साधु-संतों को ऐसी विवादित बयानबाजी नहीं करनी चाहिए. इस तरह का बयान समाज में नफरत फैलाएगा.



मंदिर में नमाज पढ़ने का विरोध करें लेकिन...
महंत नरेंद्र गिरी ने कहा कि मंदिर में नमाज़ पढ़े जाने का विरोध किया जाना चाहिए. लेकिन कोई साधु संत अगर यह कहे कि मस्जिद में जाकर पूजा पाठ करेंगे तो यह गलत है.

बरेली में ये बोलीं थीं साध्वी प्राची

बता दे विवादित बयानों के लिए चर्चा में रहने वाली हिंदूवादी नेता साध्वी प्राची ने बरेली में लव जिहाद और मंदिरों में नमाज के मुद्दे पर कहा कि देश में लव जिहाद के खिलाफ कड़ा कानून होना चाहिए, दोषी को सरेआम फांसी दी जानी चाहिए. वहीं मंदिरों में नमाज पर उन्होंने कहा कि हिंदुओं को देश की मस्जिदों में जाकर हवन पूजन करना चाहिए, वह खुद लखनऊ की सबसे प्राचीन मस्जिद में ऐसा करेंगीं.

साध्वी प्राची ने कहा कि आजकल तथाकथित भाईचारा गैंग काम कर रहा है, जो सामाजिक सद्भाव के नाम पर मंदिरों में जाकर नमाज पढ़ने का काम कर रहे हैं. हमारा कहना है कि अब हिंदुओं को भी मस्जिद में जाकर हवन पूजन करना चाहिए. ताकि सामाजिक सद्भव बने.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज