इलाहाबादः MBBS जूनियर छात्र रैगिंग मामले में गठित की गई 3 सदस्यीय जांच कमेटी

जांच टीम के सदस्य अपर निदेशक चिकित्सा शिक्षा डॉ एन.सी.प्रजापति ने कहा है कि किसी भी जूनियर छात्र ने रैगिंग को लेकर अभी तक कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है, बावजूद इसके जांच टीम जूनियर छात्रों के हॉस्टल में जाकर छात्रों और वार्डेन से भी पूछताछ करेगी

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 1, 2018, 11:50 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 1, 2018, 11:50 PM IST
इलाहाबाद जिले के मोतीलाल नेहरु राजकीय मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस जूनियर छात्रों के रैगिंग मामले ने तूल पकड़ लिया है. मामला बढ़ता देख शासन ने तीन सदस्यीय एक जांच कमेटी गठित कर दी है. जांच कमेटी में अपर निदेशक चिकित्सा शिक्षा, कानपुर मेडिकल कालेज के प्राचार्य और एडीएम सिटी इलाहाबाद को शामिल किया गया है. बताया जाता है शासन के निर्देश पर तीन सदस्यीय टीम ने शनिवार को मेडिकल कॉलेज पहुंचकर अपनी जांच भी शुरु कर दी है.

यह भी पढ़ें-इलाहाबादः पुलिस को चकमा देकर नैनी सेंट्रल जेल से फरार हुआ सजायाफ्ता कैदी

रिपोर्ट के मुताबिक जांच टीम ने रैगिंग को लेकर मीडिया में छपी खबरों और प्राचार्य कार्यालय में मौजूद साक्ष्यों की पड़ताल करने के बाद हॉस्टलों का भी निरीक्षण किया है. जांच टीम के सदस्य अपर निदेशक चिकित्सा शिक्षा डॉ एन.सी.प्रजापति ने कहा है कि किसी भी जूनियर छात्र ने रैगिंग को लेकर अभी तक कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है, बावजूद इसके जांच टीम जूनियर छात्रों के हॉस्टल में जाकर छात्रों और वार्डेन से भी पूछताछ करेगी. उन्होंने रैगिंग को लेकर सभी बिन्दुओं पर जांच कर रिपोर्ट शाम तक शासन को सौंपे जाने की बात कही है.

यह भी पढ़ें-केंद्र के SC/ST अत्याचार निवारण एक्ट संशोधन को इलाहाबाद HC में चुनौती

वहीं, पूरे मामले में जिलाधिकारी इलाहाबाद सुहास एल.वाई. ने कहा है कि एसीएम प्रथम विनय कुमार सिंह से मामले की जांच कराई गई थी, जिसमें किसी छात्रों ने रैगिंग को लेकर बयान नहीं दिया था. हालांकि छात्रों के मुंडवाए गए सिर से रैगिंग होने का मामला संदिग्ध प्रतीत हो रहा था, जिसको लेकर शासन को रिपोर्ट भेजी गई थी. इसके बाद ही शासन की ओर से तीन सदस्यीय जांच टीम गठित की गई है.

यह भी पढ़ें-इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में छात्रसंघ चुनाव की डेट घोषित

बताया जाता है रैगिंग मामले के तूल पकड़ने के बाद जिला प्रशासन ने जूनियर छात्रों के हॉस्टल में नो रैगिंग का नोटिस चस्पा कर दिया है, जिसमें डीएम और एसीएम प्रथम के मोबाइल नम्बर लिखे गए है. इसके साथ ही जूनियर छात्रों को नोटिस में कहा गया है कि रैगिंग की कोई भी सूचना इन मोबाइल नम्बरों पर गोपनीय तरीके से कर सकते हैं.
Loading...
(रिपोर्ट-सर्वेश दुबे, इलाहाबाद)

मोदी सरकार का युवाओं को गिफ्ट, एक कमरे से शुरू करें ये बिज़नेस, नहीं है निवेश की जरूरत

बिजनेस शुरू करने के लिए नहीं हैं पैसे, तो ये कंपनियां करेंगी आपकी मदद

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर