Home /News /uttar-pradesh /

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी को बड़ी सौगात, जल्द भरे जाएंगे असिस्टेंट, एसोसिएट और प्रोफेसर के पद

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी को बड़ी सौगात, जल्द भरे जाएंगे असिस्टेंट, एसोसिएट और प्रोफेसर के पद

 इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी दीक्षांत समारोह: केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने छात्र-छात्राओं को दिए मेडल और उपाधियां.

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी दीक्षांत समारोह: केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने छात्र-छात्राओं को दिए मेडल और उपाधियां.

Allahabad Central University Convocation: इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में केंद्रीय शिक्षा कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मेधावी छात्र-छात्राओं को मेडल और उपाधियां प्रदान की. उन्होंने इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी को उत्तर भारत का सबसे प्राचीन विश्वविद्यालय बताया. उन्होंने इस मौके पर इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के लिए दो बड़ी घोषणाएं की हैं. उन्होंने कहा कि यूजीसी ने इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में पंडित दीनदयाल उपाध्याय चेयर की स्थापना की है, जो कि पांच वर्षों के लिए की गई है. इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में रिक्त असिस्टेंट प्रोफेसर, एसोसिएट और प्रोफेसर के पदों पर भर्ती किए जाने पर भी अपनी सहमति प्रदान की‌.

अधिक पढ़ें ...

प्रयागराज. कोविड संंक्रमण के चलते दो वर्ष के अंतराल पर सोमवार को इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी (Allahabad Central University) का दीक्षांत समारोह आयोजित किया गया. सीनेट हाल में आयोजित हुए दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि केंद्रीय शिक्षा कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने मेधावी छात्र-छात्राओं को मेडल और उपाधियां प्रदान की. इस मौके पर उन्होंने इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी को उत्तर भारत का सबसे प्राचीन विश्वविद्यालय बताया और इसकी प्राचीन और गौरवशाली परंपरा पर भी चर्चा की.

उन्होंने इस मौके पर इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के लिए दो बड़ी घोषणाएं की हैं. केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा है कि पीएम नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से यूजीसी ने इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में पंडित दीनदयाल उपाध्याय चेयर की स्थापना की है, जो कि पांच वर्षों के लिए की गई है. इसमें विभिन्न विषयों के शोध और इकोनॉमिक डेवलपमेंट और इकोनॉमिक प्रोग्राम्स के शोध किए जायेंगे. जिससे एक ओर जहां इस शोध से देश और प्रदेश के विकास को मदद मिलेगी, वहीं छात्र-छात्राओं में भी उत्साह आएगा.

रिक्त पदों पर दी सहमति

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने इस मौके पर इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में रिक्त असिस्टेंट प्रोफेसर, एसोसिएट और प्रोफेसर के पदों पर भर्ती किए जाने पर भी अपनी सहमति प्रदान की‌. उन्होंने कहा कि असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए पीएचडी की अनिवार्यता भारत सरकार ने खत्म कर दी है. उन्होंने कहा कि सरकार का मकसद है कि जो मेधावी छात्र हैं वह विश्वविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में आकर शिक्षा व्यवस्था को और मजबूत करें, हालांकि नेट की अनिवार्यता बनी रहेगी.

दीक्षांत समारोह में 2018-19 और 2019-20 के छात्र-छात्राओं को उपाधियां प्रदान की गईं. इसके साथ ही यूजी, पीजी और पीएचडी के मेधावी छात्र-छात्राओं को मेडल भी प्रदान किए गए. इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी की पीआरओ डॉक्टर जया कपूर के मुताबिक दीक्षांत समारोह में 550 पीएचडी छात्र छात्राओं को उपाधियां प्रदान की गई हैं. इसके साथ ही साथ 263 छात्र छात्राओं को अलग अलग कैटेगरी में मेडल भी प्रदान किये गए. दीक्षांत समारोह में कुल 10 छात्र छात्राओं को चांसलर मेडल दिए गए. इस मौके पर केन्द्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने विश्वविद्यालय में 3 नव निर्मित इमारतों का उदघाटन भी किया. जिनमें 124 सीटों वाला गार्गी महिला छात्रावास, 34 सीटों वाला चंद्रशेखर आज़ाद इंटरनेशनल हॉस्टल व मेजर ध्यानचंद्र स्टूडेंट एक्टिविटी सेंटर शामिल है.

चार छात्रों को चांसलर गोल्ड मेडल

दीक्षांत समारोह में चार छात्रों को चांसलर गोल्ड मेडल से भी नवाजा गया. BALLB के हिमांशु दुबे, MSC कॉग्निटिव साइंस के शिवनेकर रेवती विजय, BCA की अंशिका मित्तल व MSC बॉटनी की माधवी सिंह को चांसलर मेडल से नवाजा गया है. इसके साथ ही BSC बायो ग्रुप की नेहा मिश्रा,MSC कंप्यूटर साइंस की श्रेया अग्रवाल, बीए की साल्विका उपाध्याय व MSC बायोटेक्नोलॉजी के शशांक मणि त्रिपाठी को चांसलर सिल्वर मेडल दिया गया है. जबकि बीए के कुलभूषण तिवारी, बीटेक के उर्जा श्रीवास्तव को ब्रांज मेडल से नवाजा गया है.

Tags: Allahabad Central University, Allahabad Central University Convocation, Prayagraj News, UP news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर