शरिया अदालत की तर्ज पर हिंदू कोर्ट: HC ने राज्य सरकार से 17 सितम्बर तक मांगा जवाब

राज्य सरकार की तरफ से जवाब दाखिल करने के लिए कोर्ट से थोड़ा और समय की मांग की गई. जिस पर हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को 17 सितम्बर तक जवाब दाखिल करने की मोहलत दी.

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 11, 2018, 5:24 PM IST
शरिया अदालत की तर्ज पर हिंदू कोर्ट: HC ने राज्य सरकार से 17 सितम्बर तक मांगा जवाब
इलाहाबाद हाईकोर्ट
Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 11, 2018, 5:24 PM IST
पश्चिम उत्तर प्रदेश में शरिया अदालत की तर्ज पर हिंदू कोर्ट गठित करने के मामले में मंगलवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई हुई. इस दौरान राज्य सरकार की तरफ से जवाब दाखिल करने के लिए कोर्ट से थोड़ा और समय की मांग की गई. जिस पर हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को 17 सितम्बर तक जवाब दाखिल करने की मोहलत दी.  बता दें अखिल भारतीय हिन्दू महासभा के ऐलान के खिलाफ कानपुर के अंकित कुमार सिंह ने ये जनहित याचिका दाखिल की है. याचिका पर अगली सुनवाई अब 17 सितंबर को होगी.

मामले में कोर्ट ने हिन्दू महासभा के सचिव और मेरठ के जिलाध्यक्ष समेत राज्य सरकार व दूसरे विपक्षियों से जवाब मांगा था.  बता दें इससे पहले अगस्त में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शरिया अदालत की तर्ज पर हिन्दू कोर्ट गठित करने के खिलाफ दायर जनहित याचिका पर राज्य सरकार से जानकारी मांगी थी. मामले की अगली सुनवाई 11 सितम्बर नियत की थी.

चीफ जस्टिस डीबी भोसले और न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की खंडपीठ ने यह आदेश दिया. अदालत ने इस मामले में डीएम मेरठ और हिंदू कोर्ट में नियुक्त जज डॉ पूजा शकुन पांडेय को भी पक्षकार बनाने का निर्देश देते हुए दोनों को नोटिस जारी किया है.

दरअसल कानपुर के अंकित सिंह ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल कर हिंदू अदालतों के गठन को चुनौती दी है. याचिका में समाचार पत्रों के हवाले से कहा गया है कि हिंदू संगठनों ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में हिंदू अदालतों का गठन किया है. उनका कहना है कि अदालतों पर मुकदमों का बहुत बोझ है और लोगों को समय से न्याय नहीं मिल पा रहा है. इसी को ध्यान में रखते हुए शरिया अदालतों की तर्ज पर हिंदू अदालतों का गठन किया गया है. यही नहीं, इस अदालत मे पहला न्यायाधीश डॉ पूजा शकुन पांडेय को बनाया गया है.

अदालत के अनुसार, इस मामले में किसी को पक्षकार नहीं बनाया गया है. लिहाजा डीएम और हिंदू अदालत में नियुक्त डॉ पूजा शकुन को इसमें पक्षकार बनाते हुए उन्‍हें नोटिस जारी किया है, साथ ही मामले में यूपी सरकार से पूरी जानकारी तलब की गई है.

ये भी पढ़ें: 

कानपुर एक्सीडेंट का LIVE VIDEO: बीच सड़क वो हाथ जोड़े मदद मांगता रहा, लेकिन...

मऊ: एक बच्चे की कराई डिलिवरी, दूसरे को पेट में ही छोड़ा, जच्चा-बच्चा की मौत

गाजियाबाद: कॉलेज के बाहर फायरिंग मामले में गिरफ्तार हुआ हिन्दू युवा वाहिनी का नेता
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर