UP: शांति भंग के नाम पर पुलिस की मनमानी से HC नाराज, कहा-निर्दोषों का उत्पीड़न रोकने वाला सिस्टम बनाएं

इलाहाबाद हाईकोर्ट (File photo)

इलाहाबाद हाईकोर्ट (File photo)

Prayagraj News: पुलिस ने एक पारिवारिक विवाद में वाराणसी के एक व्यक्ति पर शांति भंग की धारा लगाकर उसे 10 दिन तक कैद में रखा था. इस मामले को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सरकार को निर्दोष लोगों का उत्पीड़न रोकने का तंत्र विकसित करने का दिया आदेश.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 5, 2021, 2:08 PM IST
  • Share this:
प्रयागराज. उत्तर प्रदेश में शांति भंग की आशंका पर पाबंद करने और हिरासत में लेने में पुलिस की मनमानी पर इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने नाराजगी जाहिर की है. हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार (UP Government) को ऐसा तंत्र विक‌सित करने का निर्देश दिया है, जिससे निर्दोष लोगों का उत्पीड़न रोका जा सके. कोर्ट ने एसडीएम वाराणसी से भी जवाब मागा है.

दरअसल वाराणसी के शिव कुमार वर्मा ने याचिका दाखिल कर आरोप लगाया है कि शांति भंग की आशंका में अवैध तरीके से चालान किया गया. याची को दस दिन तक अवैध हिरासत में रखने का भी आरोप लगा है. कोर्ट ने प्रदेश सरकार को इस मामले में आदेश दिया है कि चार सप्ताह में उचित कार्यवाही कर अनुपालन रिपोर्ट पेश करें. जस्टिस एसपी केसरवानी और जस्टिस शमीम अहमद की खंडपीठ ने ये आदेश दिया है.

Youtube Video


पारिवारिक विवाद के बाद हुई थी कार्रवाई


जानकारी के अनुसार याची का संपत्ति के बंटवारे को लेकर पारिवारिक विवाद था. झगड़ा होने पर रोहनिया थाने की पुलिस ने आठ अक्तूबर 20 को शांति भंग की आशंका में याची शिवकुमार का चालान कर दिया. चालानी रिपोर्ट प्रिंटेड प्रोफार्मा में भरकर जारी कर दिया. जिसमें न तो शांति भंग का कोई कारण बताया गया और न ही याची से नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया. एसडीएम ने इस रिपोर्ट पर जमानत न प्रस्तुत करने के आधार पर उसे जेल भेज दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज