Lockdown 3.0: इलाहाबाद हाईकोर्ट में नहीं होगी गर्मी की छुट्टियां, ये रही वजह
Allahabad News in Hindi

Lockdown 3.0: इलाहाबाद हाईकोर्ट में नहीं होगी गर्मी की छुट्टियां, ये रही वजह
लाउडस्पीकर से अजान पर रोक के खिलाफ HC में सुनवाई (file photo)

हाईकोर्ट (High Court) में 22 से 26 जून तक ग्रीष्म अवकाश (Summer Vacation) रहेगा. जिला अदालतों में जारी कैलेंडर प्रभावी रहेगा. इनमें हर वर्ष की तरह ग्रीष्म अवकाश रहेगा.

  • Share this:
प्रयागराज. वैश्विक महामारी (Pandemic) कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के फैलाव से बचाव के लिए पूरे देश में लॉकडाउन (Lockdown) जारी है. इसी क्रम में इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) में इस बार जून की छुट्टियां नहीं होंगी. लॉकडाउन के कारण लंबे समय तक अदालतों के बंद रहने के कारण जून में भी काम होगा. वैसे आम परिस्थितियों में हाईकोर्ट में जून में ग्रीष्मावकाश रहता है. लॉकडाउन बढ़ने के कारण प्रदेश की अधीनस्थ अदालतों को अगले आदेश तक बंद रखने का फैसला लिया गया है. हाईकोर्ट में भी न्यायिक कार्य निलंबित रहेगा, केवल अतिआवश्यक मामले सुने जाएंगे.

हाईकोर्ट में 22 से 26 जून तक ग्रीष्म अवकाश रहेगा. जिला अदालतों में जारी कैलेंडर प्रभावी रहेगा. इनमें हर वर्ष की तरह ग्रीष्म अवकाश रहेगा. मुख्य न्यायाधीश गोविंद माथुर की अध्यक्षता में हुईं प्रशासनिक न्यायमूर्तियों की बैठक में यह निर्णय लिया गया है. यह भी प्रस्ताव पारित किया गया है कि संयुक्त निबंधक (न्यायिक) कंप्यूटर सीआईटी भवन में वीडियो कांफ्रेंसिंग की व्यवस्था करें, ताकि न्यायिक कार्य सुचारु रूप से चलाया जा सके.

इससे पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अतिआवश्यक मुकदमों की सुनवाई के लिए आवेदन करने की प्रणाली में बदलाव किया था. 1 मई को जारी अधिसूचना के अनुसार 3 मई से हाईकोर्ट की वेबसाइट पर मुकदमों की शीघ्र सुनवाई की प्रार्थना ऑनलाइन करनी होगी. जानकारी के मुताबिक 23 अप्रैल से चल रही साइट अगले एक हफ्ते तक ही जारी रहेगी. अब http://www.allahabadhighcourt.in पर लॉगइन करके तत्काल सुनवाई की अर्जी दी जायेगी. इस सुविधा का लाभ अधिवक्ता एवं स्वयं बहस करने वाले वादकारी दोनों ही उठा सकेंगे.



यूपी में कुल एक्टिव केसों की संख्या 1756
प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण के कुल 127 नए मामले आए हैं. प्रदेश में कुल एक्टिव मामलों की संख्या इस समय 1756 है. अब तक ठीक होने के बाद 656 लोग डिस्चार्ज किये जा चुके हैं. रोग से मरने वालों की संख्या 43 है. कुल कैसेस की संख्या 2455. अब तक 64 जिलों में संक्रमण के मामले हैं. एल-1 से लेकर एल-3 तक के चिकित्सालयों की क्षमता लगातार बढ़ायी जा रही है. संक्रमण रोकने के लिए जो भी सुरक्षा उपकरण हैं वह जरूरत के अनुसार हर जगह उपलब्ध है.

इनपुट- सर्वेश दूबे

ये भी पढ़ें:

नासिक से श्रमिकों को लेकर लखनऊ पहुंची स्पेशल ट्रेन, मजदूरों ने बयां की दर्द भरी दास्तां
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज