Home /News /uttar-pradesh /

allahabad high court impose penalty for filing plea hiding facts upat

न्यायिक मूल्यों में गिरावट पर इलाहाबाद हाईकोर्ट चिंतित, कहा- निजी लाभ के लिए झूठ का सहारा ले रहे वादी

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने  तथ्य छिपाकर याचिका दाखिल करने पर लगाया जुर्माना

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने तथ्य छिपाकर याचिका दाखिल करने पर लगाया जुर्माना

Allahabad High Court News: कोर्ट ने कहा पिछले 40 सालों में मूल्यों में काफी गिरावट आई है. वादकारी कोर्ट को गुमराह कर आदेश लेने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है. सच का वह सम्मान नहीं रहा. ऐसा वादकारी जिसने अपने गन्दे हाथों से न्याय व्यवस्था को दूषित करने की कोशिश की, वह राहत का हकदार नहीं हो सकता. कोर्ट ने कहा सच छिपाना और झूठ का सहारा लेना दोनों एक समान है. कोर्ट 25 हजार रूपए हर्जाना लगाते हुए जनहित याचिका खारिज कर दी है और कहा कि चार हफ्ते में हर्जाना राशि राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण में जमा किया जाय.

अधिक पढ़ें ...

प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि याचिका में तथ्य छिपाना, अदालत के साथ कपट है. स्वच्छ हृदय से अदालत न आने वाला राहत नहीं, अर्थदंड  पाने का हकदार है. कोर्ट ने कहा कि आजादी के पहले से सत्य न्याय व्यवस्था का अभिन्न अंग है, किंतु चिंता जताई कि आजादी के बाद मूल्यों में बदलाव देखा जा रहा है. लोग निजी लाभ के लिए मुकदमेबाजी में झूठ का सहारा लेने में संकोच नहीं करते. तथ्य छिपाकर, कोर्ट को गुमराह कर हित साधना चाहते हैं.

कोर्ट ने कहा पिछले 40 सालों में मूल्यों में काफी गिरावट आई है. वादकारी कोर्ट को गुमराह कर आदेश लेने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है. सच का वह सम्मान नहीं रहा. ऐसा वादकारी जिसने अपने गन्दे हाथों से न्याय व्यवस्था को दूषित करने की कोशिश की, वह राहत का हकदार नहीं हो सकता. कोर्ट ने कहा सच छिपाना और झूठ का सहारा लेना दोनों एक समान है. कोर्ट 25 हजार रूपए हर्जाना लगाते हुए जनहित याचिका खारिज कर दी है और कहा कि चार हफ्ते में हर्जाना राशि राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण में जमा किया जाय. यह आदेश चीफ जस्टिस राजेश बिंदल और जस्टिस प्रकाश पाडिया की खंडपीठ ने हैदराबाद में साफ्टवेयर इंजीनियर की याचिका पर दिया.

ये है पूरा मामला
जनहित याचिका में आजमगढ़ के बरहद थाना क्षेत्र के गांव में सस्ते गल्ले की दुकान के आवंटन में भ्रष्टाचार की जांच कराने और विपक्षी को आवंटित दुकान दूसरे को देने की मांग की गई थी. याची हैदराबाद से वीडियो कांफ्रेंसिंग से स्वयं बहस कर रहा था. सरकारी अधिवक्ता ने कोर्ट को बताया कि इसी मांग को लेकर याची ने आपराधिक याचिका दायर की थी, जो खारिज कर दी गई थी. इस तथ्य को छिपाकर यह जनहित याचिका दायर की गई है. साथ ही हाईकोर्ट रूल्स का पालन नहीं किया गया है. याची ने अपने बारे में पूरी जानकारी नहीं दी है. जवाब में याची का कहना था कि यह याचिका सरकारी अधिकारियों के भ्रष्टाचार के खिलाफ है. विपक्षी के खिलाफ नहीं है. इसलिए पिछली याचिका की जानकारी देना जरूरी नहीं है. कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट के कई फैसलों का हवाला देते हुए कहा कि स्वच्छ हृदय से कोर्ट न आने वाले को राहत पाने का अधिकार नहीं है. वह पेनाल्टी का हकदार हैं. कोर्ट ने दोनों याचिकाओं को देखकर कहा कि प्रार्थना एक जैसी है. याची के खिलाफ विपक्षी ने एफआईआर दर्ज कराई थी. चार्जशीट दाखिल है. याची ने भी क्रास केस किया है. ये सारे तथ्य छिपाकर याचिका दायर की गई है.

Tags: Allahabad high court, UP latest news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर