यूपी में जिला जज अब अपने वाहनों पर नहीं लिख सकेंगे पदनाम, HC ने जारी किया आदेश

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 3, 2019, 1:38 PM IST
यूपी में जिला जज अब अपने वाहनों पर नहीं लिख सकेंगे पदनाम, HC ने जारी किया आदेश
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने न्यायिक अधिकारियों द्वारा अपने वाहनों पर पदनाम लिखने पर रोक लगा दी है.

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में अब न्यायिक सेवा (Judicial Service) के अधिकारी अपने वाहनों पर पदनाम नहीं लिख सकेंगे. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने मंगलवार को इस संबंध में आदेश जारी किया है.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में अब न्यायिक सेवा (Judicial Service) के अधिकारी अपने वाहनों पर पदनाम नहीं लिख सकेंगे. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने मंगलवार को इस संबंध में आदेश जारी किया है. हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल मयंक जैन ने अधिसूचना जारी कर दी है. इसके तहत सरकारी और निजी दोनों तरह के वाहनों पर पदनाम नहीं लिखा जा सकेगा. चीफ जस्टिस गोविंद माथुर के निर्देश पर ये अधिसूचना जारी की गई है. सूचना प्रदेश के सभी सभी जिला जजों, ओएसडी और अधिकारियों को भेज दी गई है.

बता दें इससे पहले यूपी में निजी गाड़ियों पर उत्तर प्रदेश सरकार लिखने पर रोक लगा दी गई है. इस आदेश में चार पहिया के साथ ही दोपहिया वाहनों को भी शामिल किया गया है. अब कोई सकारी अधिकारी और कर्मचारी निजी गाड़ियों पर उत्तर प्रदेश सरकार ने लिखवा सकेगा क्योंकि सरकार के निर्देश के बाद अब ऐसी गाड़ियों पर एआरटीओ और यातायात विभाग कार्रवाई करेगा.

यह है नियम
मोटर व्हीकल एक्ट (MV Act) के मुताबिक गाड़ी पर नंबर के अलावा और कुछ भी नहीं लिखा जा सकता. नंबर को लिखने के लिए भी प्लेट का साइज निर्धारित है. इस पर सफेद बैकग्राउंड पर काले रंग से नंबरों को लिखा जाना चाहिए. नंबर स्टाइलिश भी नहीं हो सकते. वहीं कोर्ट के निर्देशों के मुताबिक गाड़ियों पर किसी तरह का पदनाम भी नहीं होना चाहिए, चाहे वह किसी भी पद पर हो.

ये भी पढ़ें:

मुकदमों के 'आजम' खान, अब तक कुल 78 केस दर्ज

बसपा नेता की क्लास लगाकर घिरे बलिया डीएम ने मांगी माफी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 1:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...