लाइव टीवी

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने की पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ तेज बहादुर यादव की याचिका खारिज

News18Hindi
Updated: December 6, 2019, 5:06 PM IST
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने की पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ तेज बहादुर यादव की याचिका खारिज
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वाराणसी लोकसभा सीट से निर्वाचन को चुनौती देने वाली याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी. (फाइल फोटो)

इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के वाराणसी लोकसभा सीट से निर्वाचन को चुनौती देने वाली याचिका खारिज कर दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 6, 2019, 5:06 PM IST
  • Share this:
प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के वाराणसी लोकसभा सीट से निर्वाचन को चुनौती देने वाली याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी. सीमा सुरक्षा बल (BSF) से बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक चुनाव याचिका दायर कर 2019 के आम चुनाव में वाराणसी संसदीय सीट से पीएम मोदी के निर्वाचन को चुनौती दी थी.

सपा ने वाराणसी सीट से तेज बहादुर को घोषित किया था अपना उम्मीदवार
न्यायमूर्ति मनोज गुप्ता ने चुनाव याचिका खारिज करने का आदेश जारी किया. उल्लेखनीय है कि तेज बहादुर को समाजवादी पार्टी ने हालिया लोकसभा चुनाव में इस सीट से अपना उम्मीदवार घोषित किया था, लेकिन उनका नामांकन पत्र रद्द हो गया था और वह चुनाव नहीं लड़ सके थे.

चुनाव अधिकारी के गलत ढंग से नामांकन रद्द करने का लगाया था आरोप

तेज बहादुर ने चुनाव याचिका में आरोप लगाया था कि वाराणसी के चुनाव अधिकारी द्वारा उनका नामांकन गलत ढंग से रद्द किया गया, जिसके चलते वह प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ चुनाव नहीं लड़ सके जो उनका संवैधानिक अधिकार है.

तेज बहादुर ने खटखटाया था सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा
इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ नामांकन करने वाले तेज बहादुर यादव की याचिका पर 8 मई को सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की थी. कोर्ट ने चुनाव आयोग को निर्देश दिया था कि तेज बहादुर की शिकायत के हर बिंदू पर गौर किया जाए. चुनाव आयोग ने यूपी की वाराणसी लोकसभा सीट से तेज बहादुर यादव के नामांकन को रद्द कर दिया था, जिसके बाद तेज बहादुर ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था.हलफनामे में जानकारी छुपाने के आरोप में चुनाव अधिकारी ने रद्द किया था उनका नामांकन
बता दें कि बीएसएफ में कांस्टेबल रहे तेज बहादुर यादव खाने की खराब क्वालिटी पर सवाल उठाने के बाद चर्चा में आए थे. उन्हें बाद में बीएसएफ से बर्खास्त कर दिया गया था. इसके बाद तेज बहादुर ने वाराणसी लोकसभा क्षेत्र से पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने का निर्णय लिया था. तेज बाहुदर ने पहले निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में वाराणसी से नामांकन किया था, लेकिन बाद में समाजवादी पार्टी ने अपने प्रत्याशी शालिनी यादव का टिकट काटकर उन्हें गठबंधन का उम्मीदवार बना दिया, लेकिन हलफनामे में जानकारी छुपाने का आरोप लगाते हुए चुनाव अधिकारी ने उनका नामांकन रद्द कर दिया था.

(एजेंसी इनपुट के साथ) 

ये भी पढ़ें - 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 6, 2019, 4:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर