लाइव टीवी

हाईकोर्ट ने कहा- जनसंख्या पर कानून बनाने का निर्देश नहीं दे सकते, याचिका ख़ारिज
Allahabad News in Hindi

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: January 22, 2020, 8:43 AM IST
हाईकोर्ट ने कहा- जनसंख्या पर कानून बनाने का निर्देश नहीं दे सकते, याचिका ख़ारिज
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जनसंख्‍या नियंत्रण पर कानून बनाने को लेकर आदेश देने से इंकार कर दिया. (फाइल फोटो)

इलाहाबाद हाई कोर्ट (Allahabad High Court) के चीफ जस्टिस गोविन्द माथुर और जस्टिस विवेक वर्मा की खंडपीठ ने वाराणसी के सामाजिक कार्यकर्ता नित्यानन्द चौबे की जनहित याचिका को खारिज कर दिया.

  • Share this:
प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने केंद्र सरकार को जनसंख्या नियंत्रण कानून (Population Control Act) बनाने के लिए निर्देश जारी करने की मांग को लेकर दाखिल जनहित याचिका पर हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया है. कोर्ट ने कहा है कि कोर्ट के पास विधायी शक्तियां नहीं हैं. इसलिए अदालत केंद्र सरकार को जनसंख्या नियंत्रण पर कोई कानून बनाने का आदेश नहीं दे सकती है.

यह आदेश चीफ जस्टिस गोविन्द माथुर और जस्टिस विवेक वर्मा की खंडपीठ ने वाराणसी के सामाजिक कार्यकर्ता नित्यानन्द चौबे की जनहित याचिका को खारिज करते हुए दिया. याचिका पर भारत सरकार की अधिवक्ता आराधना चौहान ने प्रतिवाद किया.

परिवार नियोजन के लिए पति-पत्नी स्वतंत्र
याची के अधिवक्ता का कहना था कि राष्ट्रीय जनसंख्या नीति 2000 के तहत मां और बच्चों के स्वास्थ्य का ध्यान रखा जा रहा है. पति-पत्नी परिवार नियोजन करने के लिए अपनी मर्जी से निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र हैं. उन पर किसी प्रकार का दबाव नहीं है. हालांकि, विधि आयोग ने अनुच्छेद 47A के तहत जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने की सिफारिश की है. कोर्ट ने कहा कि सरकार को कानून बनाने का आदेश देने का कोर्ट समादेश जारी नहीं कर सकती.

आरएसएस ने की है दो बच्चों वाले कानून की मांग
गौरतलब है कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के दो बच्चे वाले बयान के बाद से ही देश में जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर बहस छिड़ी हुई है. मोहन भागवत ने कहा था कि अब सरकार का अगला कदम जनसंख्या नियंत्रण पर होना चाहिए. मोहन भगवत के इस बयान का अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद् ने भी समर्थन किया है. महंत नरेंद्र गिरी ने कहा कि जनसंख्या विस्फोट एक गंभीर स्थिति है. इसे रोकने के लिए कानून जरूरी है.
ये भी पढ़ें:

माघ मेले में शुरू हुआ राष्ट्रीय जनसंख्या नीति का विरोध, स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद बोले- भ्रूण हत्या भी पाप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 8:20 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर