निठारी केस: फांसी के खिलाफ पंढेर और कोली की याचिका पर HC ने फैसला रखा सुरक्षित

नोएडा के बहुचर्चित निठारी हत्याकांड मामले में फांसी को लेकर दायर की गई याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित कर लिया है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 30, 2019, 11:07 PM IST
निठारी केस: फांसी के खिलाफ पंढेर और कोली की याचिका पर HC ने फैसला रखा सुरक्षित
सीबीआई कोर्ट गाजियाबाद से फांसी सजा मिलने के बाद मनिंदर सिंह पंढेर और सुरेंदर कोली ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी.
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 30, 2019, 11:07 PM IST
नोएडा के बहुचर्चित निठारी हत्याकांड मामले में फांसी को लेकर दायर की गई याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित कर लिया है. सीबीआई कोर्ट, गाजियाबाद से फांसी सजा मिलने के बाद मनिंदर सिंह पंढेर और सुरेंदर कोली ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. दोनों ने फांसी की सजा के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. जस्टिस वी.के. नारायण और जस्टिस प्रकाश पाडिया की खंडपीठ ने मामले की सुनवाई की है. लंबे समय तक सुनवाई के बाद कोर्ट ने अब फैसला सुरक्षित कर लिया है.

सनसनीखेज मामला
2006 में जब निठारी केस का खुलासा हुआ था तो उस समय देशभर में क्रूर मामले की चर्चा हुई थी. नोएडा के निठारी गांव की कोठी नंबर डी-5 से जब नरकंकाल मिलने शुरू हुए, तो पूरे देश में सनसनी मच गई थी. जांच के दौरान मानव हड्डियों के हिस्से और 40 ऐसे पैकेट मिले थे, जिनमें मानव अंगों को भरकर नाले में फेंक दिया गया था.

अल्मोड़ा का सुरेंद्र कोली

सुरेंद्र कोली उत्तराखंड का रहने वाला है और मोनिंदर सिंह पंढेर के घर पर काम करता था. 2004 में जब पंढेर का परिवार पंजाब चला गया था तो पंढेर और कोली ही घर में रहते थे. फिर इस बंगले में दोनों द्वार की गई हत्याओं और दुष्कर्म के लिए फांसी की सजा दी गई.

(सर्वेश दुबे की रिपोर्ट)

Loading...

ये भी पढ़ें:

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की चाची और मौसी का कल किया जाएगा अंतिम संस्कार

उन्नाव गैंगरेप: सीबीआई जांच शुरू होने तक एक्सीडेंट मामले की जांच करेगी SIT
First published: July 30, 2019, 10:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...