अपना शहर चुनें

States

कोर्ट कार्यवाही के दौरान वकीलों व जजों का गाउन पहनना अनिवार्य नहीं: HC

कोर्ट कार्यवाही के दौरान वकीलों व जजों का गाउन पहनना अनिवार्य नहीं (File photo)
कोर्ट कार्यवाही के दौरान वकीलों व जजों का गाउन पहनना अनिवार्य नहीं (File photo)

इस आशय का आदेश इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) के 18 दिसम्बर 20 को अदालतें खोलने के लिए जारी दिशा निर्देशों के तहत जारी किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 8, 2021, 1:47 PM IST
  • Share this:
प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने शुक्रवार को प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Corona Epidemic) को लेकर अहम फैसला लिया है. हाईकोर्ट के महानिबंधक अजय कुमार श्रीवास्तव ने प्रदेश के सभी जिला न्यायाधीशों, व्यावसायिक अदालतों के पीठासीन अधिकारियों, पारिवारिक अदालतों के प्रमुख न्यायाधीशों व सभी अधीनस्थ अदालतों को लॉकडाउन अवधि व उसके बाद की अदालती कार्यवाही प्रक्रिया का पालन करने का निर्देश दिया है. 7 जनवरी को जारी परिपत्र में कहा गया है कि कोर्ट में बहस के लिए अधिवक्ताओं को गाउन पहनना अनिवार्य नहीं है.

साथ ही न्यायिक अधिकारियों को गाउन न पहनने की छूट दी गयी है. इस आशय का आदेश इलाहाबाद हाईकोर्ट के 18 दिसम्बर 20 को अदालतें खोलने के लिए जारी दिशा निर्देशों के तहत जारी किया गया है. और सभी से इसका पालन सुनिश्चित करने का अनुरोध किया गया है.

कुशीनगर में महिला SHO पर लकड़ी चोरी का केस दर्ज, एसपी ने किया सस्पेंड



बता दें कि उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 815 नए मामले सामने आए हैं. इसमें लखनऊ में सबसे ज्यादा 147 मामले हैं, वहीं वाराणसी में 63, मेरठ में 49, प्रयागराज में 48, कानपुर नगर में 39, बरेली में 29, गाजियाबाद में 28 और मुजफ्फरनगर में 22 केस सामने आए हैं. अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि अब तक कुल 5,70,605 लोग कोविड-19 से ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं. प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,47,401 सैम्पल की जांच की गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज