Home /News /uttar-pradesh /

allahabad high court says azan it is not moral rights order over loudspeaker issue upns

मस्जिद में अजान के लिए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल मौलिक अधिकार नहीं- इलाहाबाद हाईकोर्ट

इलाहबाद हाईकोर्ट ने बदायूं की नूरी मस्जिद के मुतवल्ली की याचिका को खारिज कर दिया. (फाइल फोटो)

इलाहबाद हाईकोर्ट ने बदायूं की नूरी मस्जिद के मुतवल्ली की याचिका को खारिज कर दिया. (फाइल फोटो)

गौरतलब है कि यूपी-महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में लाउडस्पीकर पर विवाद जारी है. इसी बीच, उत्तर प्रदेश में ध्वनि प्रदूषण के खिलाफ यूपी पुलिस का अभियान लगातार जारी है. प्रदेश भर में धार्मिक स्थलों पर लगे 53942 लाउडस्पीकर अब तक उतारे गए हैं. इसके अलावा 60295 की ध्वनि कम करा कर मानक के अनुसार करायी गई. यूपी के एडीजी कानून व व्यवस्था प्रशांत कुमार ने यह जानकारी दी. साथ ही उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में लाउडस्पीकर हटाने को लेकर कोई विवाद नहीं हुआ. कुमार के मुताबिक मुख्यमंत्री की अपील पर लोग आगे बढ़कर खुद ही लाउडस्पीकर उतार रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

प्रयागराज. देशभर में लाउडस्पीकर विवाद पर इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने शुक्रवार को अहम फैसला सुनाया है. कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि मस्जिदों में अजान के लिए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल मौलिक अधिकार नहीं हैं. हाईकोर्ट ने अपना यह फैसला सुनाते हुए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल किए जाने की इजाजत दिए जाने की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बदायूं की नूरी मस्जिद के मुतवल्ली की याचिका को खारिज कर दिया.

इसके साथ ही, हाईकोर्ट ने अजान के लिए लाउडस्पीकर की इजाजत दिए जाने से इनकार किया. बदायूं के बिसौली तहसील के धोरनपुर गांव की नूरी मस्जिद के मुतवल्ली इरफान की तरफ से याचिका दाखिल की गई थी. याचिका में एसडीएम समेत तीन लोगों को पक्षकार बनाया गया था. एसडीएम द्वारा लाउडस्पीकर के इस्तेमाल की इजाजत वाली अर्जी को खारिज किए जाने को चुनौती दी गई थी. अदालत ने इस मामले में दखल देने से इनकार कर दिया है. कोर्ट ने याचिका में की गई मांग को गलत बताया और अर्जी को खारिज कर दिया.

Varanasi News: कड़ी सुरक्षा के बीच आज से होगा ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का सर्वे और वीडियोग्राफी

याचिका में हाईकोर्ट से कहा गया था कि मौलिक अधिकार के तहत लाउडस्पीकर बजाने की इजाजत मिलनी चाहिए. जस्टिस विवेक कुमार बिड़ला और जस्टिस विकास बुधवार की डिवीजन बेंच में हुई सुनवाई. अदालत ने याचिका को खारिज कर दिया और कहा कि मस्जिद में अजान के लिए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करना मौलिक अधिकार में कतई नहीं आता. लाउडस्पीकर की इजाजत के लिए कोई अन्य ठोस आधार नहीं दिए गए हैं. अदालत ने इस मामले में दखल देने से इनकार कर दिया. इसके साथ ही, अदालत ने याचिका में की गई मांग को गलत बताया और अर्जी को खारिज किया.

 यूपी पुलिस का अभियान जारी
गौरतलब है कि यूपी-महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में लाउडस्पीकर पर विवाद जारी है. इसी बीच, उत्तर प्रदेश में ध्वनि प्रदूषण के खिलाफ यूपी पुलिस का अभियान लगातार जारी है. प्रदेश भर में धार्मिक स्थलों पर लगे 53942 लाउडस्पीकर अब तक उतारे गए हैं. इसके अलावा 60295 की ध्वनि कम करा कर मानक के अनुसार करायी गई. यूपी के एडीजी कानून व व्यवस्था प्रशांत कुमार ने यह जानकारी दी. साथ ही उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में लाउडस्पीकर हटाने को लेकर कोई विवाद नहीं हुआ. कुमार के मुताबिक मुख्यमंत्री की अपील पर लोग आगे बढ़कर खुद ही लाउडस्पीकर उतार रहे हैं.

Tags: Allahabad High Court Latest Order, CM Yogi, UP news, UP Police उत्तर प्रदेश, Yogi government

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर