होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /अपना दल सांसद अनुप्रिया पटेल को इलाहाबाद हाईकोर्ट का नोटिस

अपना दल सांसद अनुप्रिया पटेल को इलाहाबाद हाईकोर्ट का नोटिस

अनुप्रिया पटेल की मुश्किलें बढ़ीं

अनुप्रिया पटेल की मुश्किलें बढ़ीं

याची राम चरन ने आरोप लगाया है कि चुनाव जीतने के लिए गलत तरीकों का इस्तेमाल किया गया, इसलिए चुनाव रद्द किया जाए.

    इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपना दल सांसद अनुप्रिया पटेल व अन्य विपक्षियों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. राम चरन ने चुनाव याचिका दाखिल कर निर्वाचन को चुनौती दी है. 28 अगस्त को याचिका पर अगली सुनवाई होगी. याचिका में आरोप लगाया गया है कि 25 अप्रैल 19 व 29 अप्रैल 19 को दो नामांकन पत्र दाखिल किए. उसी दिन विजयी सांसद को मदद करने के लिए चुनाव अधिकारी ने याची के नामांकन खारिज कर दिए थे.

    याची राम चरन ने आरोप लगाया है कि चुनाव जीतने के लिए गलत तरीकों का इस्तेमाल किया गया. इसलिए चुनाव रद्द किया जाए. ये सुनवाई जस्टिस सुनीता अग्रवाल की एकलपीठ में हुई. अनुप्रिया पटेल मिर्जापुर लोकसभा सीट से अपना दल सासंद है.

    जौहर यूनिवर्सिटी में पुलिस छापे के खिलाफ याचिका पर सरकार से जानकारी तलब

    वहीं रामपुर में मौलाना जौहर अली विश्वविद्यालय में पुलिस छापे के खिलाफ याचिका मामले में हाईकोर्ट ने अपर महाधिवक्ता से जानकारी मांगी है. याचिका की सुनवाई 6 अगस्त मंगलवार को होगी. यह आदेश न्यायमूर्ति शशिकांत गुप्ता तथा सौरभ श्याम शमशेरी की खंडपीठ ने विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार की तरफ से दाखिल याचिका पर दिया है.

    याचिका पर अधिवक्ता सफदर काजमी व कमरुल हसन सिद्दीकी एवं राज्य सरकार की तरफ से अपर महाधिवक्ता अजित सिंह व अपर मुख्य स्थायी अधिवक्ता ए के गोयल ने पक्ष रखा. याची अधिवक्ता का कहना है कि बिना सर्च वारंट विश्वविद्यालय परिसर में पुलिस ने घुस कर कुलाधिपति कार्यालय में तोड़फोड़ की और कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया. सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देश का खुला उल्लंघन किया गया.

    सरकार की तरफ से कहा गया कि पुस्तक चोरी की एफआईआर दर्ज है. मजिस्ट्रेट से आदेश लेकर कार्रवाई की जा रही है. पुलिस कार्रवाई  नियमानुसार हो रही है. कोर्ट ने कहा कि कानून के विपरीत कार्रवाई न हो. याची द्वारा राज्य प्रायोजित कार्यवाही लिखने पर आपत्ति की. मामले की सुनवाई 6 अगस्त को होगी.

     

    आपके शहर से (इलाहाबाद)

    इलाहाबाद
    इलाहाबाद

    Tags: Allahabad high court, Anupriya Patel, Lok Sabha Election 2019

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें