Home /News /uttar-pradesh /

allahabad high court stayed the order over suspension of district social welfare officer of prayagraj upns

प्रयागराज के समाज कल्याण अधिकारी को हाईकोर्ट से मिली राहत, निलंबन पर लगी रोक

यह आदेश जस्टिस एमसी त्रिपाठी की सिंगल बेंच ने प्रवीण कुमार सिंह की याचिका पर दिया है.

यह आदेश जस्टिस एमसी त्रिपाठी की सिंगल बेंच ने प्रवीण कुमार सिंह की याचिका पर दिया है.

याची का कहना है कि वह 2018 से जिला समाज कल्याण अधिकारी के पद पर कार्यरत है. उसने कभी भी कोई कार्य नियम विरुद्ध तरीके से नहीं किया है और न ही उसके विरुद्ध कभी कोई कार्यवाही हुई है. याची के निलंबन का आदेश करने से पूर्व न तो किसी जांच अधिकारी की नियुक्ति की गई और न ही उसे आरोप पत्र दिया गया. निलंबन आदेश मनमाने तरीके से किया गया है.

अधिक पढ़ें ...

प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) से जिला समाज कल्याण अधिकारी प्रयागराज प्रवीण कुमार सिंह को बड़ी राहत मिली है. कोर्ट ने उन्हें निलंबित करने के आदेश पर रोक लगा दी है. साथ ही राज्य सरकार सहित सभी पक्षकारों को याचिका पर जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया है. कोर्ट ने याची के निलंबन पर रोक लगाते हुए सभी पक्षकारों से याचिका पर जवाब मांगा है. यह आदेश जस्टिस एमसी त्रिपाठी की सिंगल बेंच ने प्रवीण कुमार सिंह की याचिका पर दिया है.

गौरतलब है कि जिला समाज कल्याण अधिकारी प्रवीण कुमार सिंह को राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय में सुपरिटेंडेंट की नियुक्ति नियम विरुद्ध तरीके से करने के आरोप में निलंबित किया गया था. इस आदेश को याचिका के माध्यम से चुनौती दी गई है. याचिका में कहा गया है कि राज्य सरकार ने गरीब व मेधावी छात्रों को बेहतर शिक्षा देने के उद्देश्य से आश्रम पद्धति विद्यालयों की स्थापना की है. प्रयागराज जिले में चार ऐसे विद्यालय हैं. याची जिला समाज कल्याण अधिकारी है और उक्त विद्यालयों के सुचारू रूप से संचालन की जिम्मेदारी भी उस पर है.

उदयपुर में कन्हैयालाल की हत्या के बाद हाई अलर्ट पर यूपी पुलिस, विवादित पोस्ट पर जेल भेजने की चेतावनी

याची को दो विद्यालयों में नियम विरुद्ध तरीके से सुपरिटेंडेंट की नियुक्ति करने व कार्यवाहक प्रधानाचार्य के हस्ताक्षर के बगैर बिल पास करने के आरोप में निलंबित कर दिया गया. याची का कहना है कि वह 2018 से जिला समाज कल्याण अधिकारी के पद पर कार्यरत है. उसने कभी भी कोई कार्य नियम विरुद्ध तरीके से नहीं किया है और न ही उसके विरुद्ध कभी कोई कार्यवाही हुई है. याची के निलंबन का आदेश करने से पूर्व न तो किसी जांच अधिकारी की नियुक्ति की गई और न ही उसे आरोप पत्र दिया गया. निलंबन आदेश मनमाने तरीके से किया गया है.

Tags: Allahabad high court, CM Yogi, Prayagraj Court, Prayagraj News, UP news, Yogi government

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर