BJP MLA की बेटी की याचिका पर 15 जुलाई को सुनवाई करेगा इलाहाबाद हाईकोर्ट

बरेली के भाजपा विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी की याचिका पर गुरुवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई हुई. हालांकि सुरक्षा कारणों से साक्षी और उनके पति अजितेश कुमार कोर्ट में पेश नहीं हुए. कोर्ट ने पूरे मामले को सुनने के बाद मामले की सुनवाई के लिए 15 जुलाई की तारीख तय कर दी है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 12, 2019, 6:25 AM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 12, 2019, 6:25 AM IST
बरेली के भाजपा विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी की याचिका पर गुरुवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई हुई. हालांकि सुरक्षा कारणों से साक्षी और उनके पति अजितेश कुमार कोर्ट में पेश नहीं हुए. कोर्ट ने पूरे मामले को सुनने के बाद मामले की सुनवाई के लिए 15 जुलाई की तारीख तय कर दी है. इस बीच कोर्ट ने याचियों को फिलहाल कोई राहत नहीं दी है और न ही कोई अंतरिम आदेश पारित किया है.

भाजपा विधायक की बेटी साक्षी और उनके पति अजितेश की ओर से याचिका दाखिल कर सुरक्षा की मांग की गई है. साक्षी ने याचिका में अपने विधायक पिता, भाई और परिवार के अन्य सदस्यों से जान का खतरा बताया है. इसके साथ ही बरेली पुलिस पर भी पिता के दबाव में काम करने का आरोप लगाया है. साक्षी और उनके पति के दो वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं, जिसमें उन्होंने विधायक राजेश मिश्रा के परिवार से अपनी जान को खतरा बताया है. साक्षी के वकील विकास राणा ने कोर्ट में वीडियो भी पेश किया है.



हाईकोर्ट ने इन्हें बनाया पक्षकार
साक्षी के वकील के मुताबिक याचिका में राज्य सरकार, एसएसपी बरेली, एसओ कैंट बरेली और विधायक को पक्षकार बनाया गया है. गौरतलब है कि साक्षी मिश्रा ने अपने प्रेमी दलित युवक अजितेश कुमार से शादी रचा ली है. शादी को लेकर सोशल मीडिया पर जो सर्टिफिकेट जारी किया गया है, उसके मुताबिक उनकी शादी प्रयागराज के धूमनगंज इलाके के बेगम सराय में गंगा तट पर स्थित प्राचीन राम जानकी मंदिर में कराई गई है. इस मामले की सुनवाई जस्टिस वाईके श्रीवास्तव की एकलपीठ कर रही है.

गौरतलब है कि साक्षी ने बुधवार शाम वीडियो वायरल कर बरेली के पुलिस कप्तान से सुरक्षा की गुहार लगाई थी. वीडियो में साक्षी और उसे पति अजितेश ने विधायक राजेश मिश्र, बेटे विक्की भरतौल और मित्र राजीव राणा से जान को खतरा बताया था. साक्षी ने मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल कर खुद की और पति के जान को पिता और भाई से खतरा बताते हुए सुरक्षा की मांग की थी.

बरेली के एसएसपी मुनिराज.


एसएसपी बोले डरने की जरूरत नहीं, पुलिस करेगी सुरक्षा
Loading...

मामला मीडिया में आने पर एसएसपी बरेली मुनिराज ने कहा कि साक्षी को सुरक्षा गार्ड देने का आदेश दिया गया है. उन्होंने कहा कि नव दंपत्ति की लोकेशन मिलते ही सुरक्षा दी जाएगी. इतना ही नहीं साक्षी के पति के घर भी पुलिस पिकेट लगाई गई है. उन्होंने कहा कि नव दंपति को डरने की जरूरत नहीं है, बरेली पुलिस उनकी सुरक्षा करेगी.

विधायक बोले मेरी तरफ से कोई खतरा नहीं
वहीं बेटी के आरोपों पर बीजेपी विधायक राजेश मिश्र उर्फ़ पप्पू भरतौल ने कहा कि जो मीडिया में चल रहा है सब गलत है. बेटी बालिग है. उसको निर्णय लेने का अधिकार है.

भाजपा विधायक राजेश मिश्रा. (फाइल फोटो)


विधायक राजेश मिश्रा ने कहा कि, "मेरे या मेरे परिवार की तरफ से किसी को धमकी नहीं दी गई है. हम अपने काम में व्यस्त हैं, अपनी विधानसभा में जनता का काम कर रहा हूं. बीजेपी का सदस्यता अभियान चला रह हूं, मेरी तरफ से कोई खतरा नहीं है."

दलित युवक के पिता बोले- नहीं चाहते कोई कार्रवाई
अजितेश के पिता हरीश कुमार ने कहा है कि उन्हें धमकियां दी जा रही हैं. उन्होंने बताया, ‘मुझे उनके (अजितेश और साक्षी) द्वारा एक मैसेज मिला है कि उनकी जान खतरे में है. उनकी हत्या करने की कोशिश की जा रही है और वे किसी सुरक्षित जगह पर छिपे हुए हैं.’

हरीश ने बताया, ‘मैं कोई कार्रवाई नहीं चाहता क्योंकि यह दो परिवारों के बीच का मामला है और दोनों परिवार एक दूसरे को जानते हैं. लेकिन उनके आदमी ने उन्हें (अजितेश और साक्षी) एक मैसेज भेजा है कि दोनों को जान से मार दिया जाएगा. आप खुद देख सकते हैं, वह (साक्षी) वीडियो में आरोपियों के नाम ले रही है. मैंने एसएसपी बरेली को उनके विवाह का प्रमाण पत्र और एक प्रार्थना पत्र भेज दिया है और मीडिया को भी अब बता दिया है.’

रिपोर्ट - सर्वेश दुबे 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...