Home /News /uttar-pradesh /

मुजफ्फरनगर दंगे में आरोपी सांसद और विधायकों पर दायर याचिका को हाईकोर्ट ने की खारिज

मुजफ्फरनगर दंगे में आरोपी सांसद और विधायकों पर दायर याचिका को हाईकोर्ट ने की खारिज

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी के सांसद और विधायकों सहित अन्य नेताओं को विधानसभा चुनाव में चुनाव लड़ने से रोकने की मांग को लेकर दाखिल याचिका खारिज कर दी है

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी के सांसद और विधायकों सहित अन्य नेताओं को विधानसभा चुनाव में चुनाव लड़ने से रोकने की मांग को लेकर दाखिल याचिका खारिज कर दी है

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी के सांसद और विधायकों सहित अन्य नेताओं को विधानसभा चुनाव में चुनाव लड़ने से रोकने की मांग को लेकर दाखिल याचिका खारिज कर दी है

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी के सांसद और विधायकों सहित अन्य नेताओं को विधानसभा चुनाव में चुनाव लड़ने से रोकने की मांग को लेकर दाखिल याचिका खारिज कर दी है. इन नेताओं पर मुजफ्फरनगर दंगे में शामिल होने का आरोप लगाया है.

कोर्ट ने याची की मांग को ठुकराते हुए कहा कि ऐसा कोई कानून नहीं है कि चार्जशीट दाखिल होने पर किसी को चुनाव लड़ने से रोका जाए. यह आदेश मुख्य न्यायाधीश डीबी भोसले और न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की खण्डपीठ ने याचिकाकर्ता वकील एमके खोखर की जनहित याचिका पर दिया है.

बता दें, कि याचिका में बिजनौर से बीजेपी सांसद कुंवर भारतेन्द्र सिंह, सरधना (मेरठ) से विधायक संगीत सोम, शामली से विधायक सुरेश राणा, पूर्व सांसद कादिर राणा, चर्थवाल (मुजफ्फरनगर) के विधायक नूर सलीम राणा, मौलाना जमील और कांग्रेस नेता सईदुज्जमात को पक्षकार बनाकर को पक्षकार बनाकर इन्हें विधानसभा चुनाव में नामांकन दाखिल करने से रोकने की मांग की गई थी.

वहीं याची का कहना था कि 2013 में मुजफ्फरनगर में हुए दंगे की जांच एसआईटी से कराई गई. उसने इन लोगों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की है. ऐसे में इन्हें चुनाव लड़ने से रोका जाए. जहां कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद याचिका खारिज करने का आदेश दिया.

Tags: 2013 Muzaffarnagar riots, Allahabad high court

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर