• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • UP: ओवैसी की पार्टी भी करेगी सम्मेलन की शुरुआत, सपा-बसपा से गठबंधन पर ये है पार्टी का रुख

UP: ओवैसी की पार्टी भी करेगी सम्मेलन की शुरुआत, सपा-बसपा से गठबंधन पर ये है पार्टी का रुख

शौकत अली के मुताबिक़ असदउद्दीन ओवैसी के सम्मेलनों की शुरुआत दस अगस्त के आसपास कानपुर या प्रयागराज से की जाएगी.

शौकत अली के मुताबिक़ असदउद्दीन ओवैसी के सम्मेलनों की शुरुआत दस अगस्त के आसपास कानपुर या प्रयागराज से की जाएगी.

UP News: प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली के मुताबिक़ उनकी पार्टी और भागीदारी मोर्चा सपा या बीएसपी के साथ गठबंधन के दरवाजे अब भी खोले हुए हैं. अगर इन दोनों में से कोई भी पार्टी हकीकत में बीजेपी को हराना चाहती है तो उसे भागीदारी मोर्चे के साथ तालमेल करके ही विधानसभा चुनाव लड़ना चाहिए.

  • Share this:
इलाहाबाद. यूपी में इन दिनों जातियों के नाम पर सम्मेलन की सियासत ज़ोरों पर चल रही है. बीएसपी के साथ ही बीजेपी और समाजवादी पार्टी सम्मेलनों के ज़रिये ब्राह्मणों को रिझाने की मुहिम छेड़े हुए हैं. इन बड़ी पार्टियों की उठापटक के बीच असदउद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम भी अगले महीने से मंडलों में सम्मेलन की शुरुआत करने जा रही है. मंडल स्तर पर होने वाले इन सम्मेलनों में खुद पार्टी मुखिया ओवैसी भी शामिल होंगे. हालांकि एमआईएम के सम्मेलन किसी जाति विशेष को फोकस करने के बजाय सभी के लिए होंगे.

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष हाजी शौकत अली के मुताबिक़ उनकी पार्टी किसी एक जाति या मज़हब का ठप्पा अपने ऊपर नहीं लगाना चाहती. पार्टी जातियों के बजाय समाज के सभी वर्गों के अधिकारों का मुद्दा उठाना चाहती है, इसलिए अगले महीने शुरू हो रहे असदउद्दीन ओवैसी के सम्मेलनों में सभी वर्गों को बुलाया जाएगा और उन्हें पार्टी की नीतियों के बारे में बताते हुए पार्टी से जोड़ने की कोशिश की जाएगी. शौकत अली के मुताबिक़ असदउद्दीन ओवैसी के सम्मेलनों की शुरुआत दस अगस्त के आस पास कानपुर या प्रयागराज से की जाएगी. उन्होंने साफ़ किया कि पार्टी इन दिनों कई जिलों में कार्यकर्ता सम्मेलन कर रही है, लेकिन मंडल स्तर पर होने वाले ओवैसी के सम्मेलनों में समाज के अलग अलग तबके के प्रबुद्ध लोगों को बुलाकर उनसे बातचीत की जाएगी. उन्होंने जानकारी दी कि कोरोना के हालात सामान्य होने के बाद ओवैसी जिलों में जाकर जनसभाएं भी करेंगे.

प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली के मुताबिक़ उनकी पार्टी और भागीदारी मोर्चा सपा या बीएसपी के साथ गठबंधन के दरवाजे अब भी खोले हुए हैं. अगर इन दोनों में से कोई भी पार्टी हकीकत में बीजेपी को हराना चाहती है तो उसे भागीदारी मोर्चे के साथ तालमेल करके ही विधानसभा चुनाव लड़ना चाहिए. उन्होंने कांग्रेस को डूबता हुआ जहाज़ बताकर उससे गठबंधन की संभावनाओं को खारिज करने की कोशिश की. यह आरोप ज़रूर लगाया कि ब्राह्मण सम्मेलन के ज़रिये इस तबके को रिझाने की कोशिश करने वाली पार्टियों को कतई इस वर्ग से कोई हमदर्दी नहीं है, यह सिर्फ ब्राह्मणों का वोट हासिल करने की सियासत है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज