लाइव टीवी

वकीलों की हड़ताल की वजह से टली चिन्मयानंद की जमानत पर सुनवाई

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 8, 2019, 4:17 PM IST
वकीलों की हड़ताल की वजह से टली चिन्मयानंद की जमानत पर सुनवाई
वकीलों की हड़ताल की वजह से टली चिन्मयानंद की जमानत पर सुनवाई (file photo)

इससे पहले एसआईटी प्रमुख नवीन अरोड़ा ने प्रेस वार्ता कर बताया था कि 6 सितम्बर से जांच का काम शुरू हुआ था. टीम ने 105 गवाहों के बयान लिए, 20 भौतिक साक्ष्य 55 अभिलेखीय साक्ष्यों के साथ 4700 पेज की रिपोर्ट तैयार की गई.

  • Share this:
प्रयागराज. पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayanand) की जमानत अर्जी पर सुनवाई टल गई है. दरअसल दिल्ली में चल रहे वकील और पुलिस विवाद का असर उनकी जमानत पर होने वाली बहस पर पड़ गया. वकीलों की हड़ताल के कारण सुनवाई टल गई. अब 14 नवंबर को इस मामले पर सुनवाई होगी. इससे पहले 6 नवंबर को रंगदारी मांगने की आरोपी छात्रा की जमानत टल गई थी. अब 29 नवंबर को जमानत पर सुनवाई होगी. इस कारण चिन्मयानंद का जेल से बाहर आने का इंतजार थोड़ा और बढ़ गया है.

उधर वकीलों की इस हड़ताल का प्रयागराज में जबरदस्त असर देखने को मिल रहा है. हाईकोर्ट और कैंट के साथ ही जिला अदालत और तहसीलों के अधिवक्ताओं ने पूरी तरह से न्यायिक कामकाज का बहिष्कर कर दिया है. वकीलों की हड़ताल के चलते वादकारियों को मायूस होकर वापस लौटना पड़ रहा है. इससे पहले एसआईटी प्रमुख नवीन अरोड़ा ने प्रेस वार्ता कर बताया था कि 6 सितम्बर से जांच का काम शुरू हुआ था. टीम ने 105 गवाहों के बयान लिए, 20 भौतिक साक्ष्य 55 अभिलेखीय साक्ष्यों के साथ 4700 पेज की रिपोर्ट तैयार की गई.

बीजेपी नेताओं के पास से पैनड्राइव बरामद
आईजी नवीन अरोड़ा ने बताया था कि स्वामी चिन्मयानंद मामले में जांच पूरी हो गई है. 6 नवंबर को वह न्यायालय में चार्जशीट दाखिल कर देंगे. उन्होंने बताया कि इस मामले में पीड़िता के पास से दौसा, राजस्थान में छीनी गई पेन ड्राइव भाजपा के सहकारी बैंक के अध्यक्ष डीपीएस राठौर और एक भाजपा नेता अजीत सिंह के पास से बरामद हो गई है. उन्होंने बताया कि दौसा, राजस्थान में पीड़िता के पास से यह पेनड्राइव इन नेताओं ने छीन ली थी और उसको अपने लैपटॉप में डालकर देखा. उसके बाद लैपटॉप से डिलीट कर दी. फिर चिन्मयानंद से एक करोड़ 25 लाख रुपए मामला निपटाने के लिए मांगे.

बता दें यूपी बार काउंसिल (UP Bar Council) के आह्वान पर न्यायिक कार्य से दूर रहकर अधिवक्ता आज विरोध दिवस मना रहे हैं. इलाहाबाद में हाईकोर्ट और कैट के साथ ही जिला अदालत और तहसीलों के अधिवक्ताओं ने पूरी तरह से न्यायिक कामकाज का बहिष्कार कर दिया है और कोर्ट रूम से बाहर निकल आये हैं. दिल्ली की घटना से नाराज इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ता हाईकोर्ट के अलग-अलग गेटों पर नारेबाजी कर प्रदर्शन कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

बाराबंकी: वकीलों ने चैंबर में घुसकर जज के साथ की अभद्रता, कॉलर पकड़कर किया गाली गलौज
Loading...

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 8, 2019, 4:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...