अपना शहर चुनें

States

पंचायत चुनाव: प्रयागराज में घट जाएंगे 193 बीडीसी, जिला पंचायत की हो जाएंगी 8 सीटें कम

उत्तर प्रदेश में इसी साल पंचायत चुनाव होने हैं. (सांकेतिक तस्वीर)
उत्तर प्रदेश में इसी साल पंचायत चुनाव होने हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

UP Panchayat Elections 2021: उत्तर प्रदेश में परिसीमन के बाद कई जगह जिला पंचायत, ग्राम पंचात और बीडीसी सदस्यों की संख्या घट गई है. प्रयागराज में भी इसके प्रभाव से 193 बीडीसी सदस्य और 8 जिला पंचायत सदस्य कम हो जाएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2021, 11:05 PM IST
  • Share this:
प्रयागराज. उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Elections) की सरगर्मी तेज हो गई है. नए परिसीमन के बाद प्रयागराज में जिला पंचायत सदस्य, बीडीसी (BDC) और ग्राम पंचायतों की सूची जारी कर दी गई है. पहले की तुलना में अब जिले में 193 बीडीसी घट गए हैं, जबकि जिला पंचायत सदस्यों की संख्या में आठ की कमी आई हैं. इनकी संख्या स्थानीय निकायों के सीमा विस्तार के कारण कम हुई है. ग्रामों का रकबा घटरकर शररी इकाईयों में जुड़ गया है.

206 ग्राम सभाओं को नगर निगम में मिला लिया गया
जानकारी के अनुसार प्रयागराज की 206 ग्राम सभाओं व एक नगर पंचायत को नगर निगम में मिला लिया गया है . इसके बाद शासन ने परिसीमन के लिए पंचायती राज विभाग को जिम्मेदारी सौंपी थी. नई सूची जारी होने के बाद अब आरक्षण के लिए काम किया जा रहा है. माना जा रहा है कि इसी के आधार पर ही महिला सीटों निर्धारण किया जा सकेगा. विभागों का प्रयास है कि इसके लिए काम इसी महीने पूरा कर लिया जाए. उम्मीद जताई जा रही है कि मार्च में होली से पहले चुनाव की तारीखों का ऐलान किया जाएगा. इसके लिए अभी से तैयारी शुरू हो चुकी है.

परिसीमन के बाद स्थिति
ग्राम सभा


पहले 1637, अब 1540

बीडीसी सदस्य
पहले 2279, अब 2086

जिला पंचायत सदस्य
पहले 92, अब 84

ये भी पढ़ें: बंगाल से आई 7 लड़कियां ऑरकेस्ट्रा में कर रही थीं ऐसा काम, बिहार पुलिस ने किया खुलासा

उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तैयारियां तेजी से चल रही हैं. इस बार के पंचायत चुनाव में संभावित प्रत्याशियों बीच सबसे ज्यादा चर्चा आरक्षण की नई व्यवस्था को लेकर भी हो  रही है. प्रत्याशियों में पूरा गुणा-भाग इस बात को लेकर है कि जो सीट इस समय जिस वर्ग के लिए आरक्षित है या अनारक्षित है. प्रस्तावित फार्मूले के अनुसार ग्राम पंचायतों, क्षेत्र पंचायतों तथा जिला पंचायतों में एससी, एसटी और ओबीसी के लिए आरक्षित निर्वाचन क्षेत्र यानी वार्डों की गणना पहले से तय फार्मूले के अनुसार डीएम के स्तर से की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज