#BharatBandh: इलाहाबाद में दिखा नया सियासी समीकरण, कांग्रेस-बसपा ने साथ में जताया विरोध

बसपा कार्यकर्ताओं ने कहा कि पार्टी सुप्रीमो मायावती के आदेश के बाद ही वे कांग्रेस के भारत बंद में पार्टी के झंडे को लेकर शामिल हुए हैं.

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 10, 2018, 1:43 PM IST
#BharatBandh: इलाहाबाद में दिखा नया सियासी समीकरण, कांग्रेस-बसपा ने साथ में जताया विरोध
कांग्रेस-बसपा कार्यकर्ताओं ने एकसाथ मिलकर जताया विरोध
Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 10, 2018, 1:43 PM IST
पेट्रोल-डीजल की कीमतों में हो रही लगातार वृद्धि को लेकर कांग्रेस की ओर से सोमवार को बुलाए गए भारत बंद में संगम नगरी इलाहाबाद में नया सियासी समीकरण देखने को मिला. यहां कांग्रेस के भारत बंद में बसपा कार्यकर्ता भी अपनी पार्टी के झंडे के साथ शामिल हुए. बसपा कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ कंधे से कंधा मिलाकर इलाहाबाद की सड़कों पर प्रदर्शन किया और दुकानें भी बंद करायी.

कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ सड़कों पर उतरे बसपाई भी पूरे जोश में नजर आ रहे थे. बसपा कार्यकर्ताओं ने कहा कि पार्टी सुप्रीमो मायावती के आदेश के बाद ही वे कांग्रेस के भारत बंद में पार्टी के झंडे को लेकर शामिल हुए हैं. वहीं इलाहाबाद के खुल्दाबाद और शाहगंज इलाके में कांग्रेस के भारत बंद की अगुवाई कर रहे राष्ट्रीय सचिव प्रकाश जोशी ने कहा कि पेट्रोल-डीजल और रसोईं गैस की बढ़ी कीमतों को लेकर लोगों में नाराजगी है.

उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतें अमानवीय और नाजायज हैं. उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों के मुद्दे पर समान विचारधारा वाले विपक्षी दल एकजुट हैं और भारत बंद में कांग्रेस के साथ हैं.

बसपा नेता रमेश केसरवानी ने कहा कि पार्टी के आदेश के बाद वे कांग्रेस के साथ भारत बंद में सडक पर उतरे हिं. उन्होंने कहा कि यूपी में महागठबंधन बनकर रहेगा और 2019 में केंद्र की मोदी सरकार को उखाड़ फेंकेंगे. केसरवानी ने कहा कि सभी विपक्षी दल आज कांग्रेस के भारत बंद के साथ हैं.

यह भी पढ़ें:

कांग्रेस के भारत बंद का यूपी में दिख रहा मिला जुला असर

भारत बंद पर सीएम योगी ने कहा- विपक्ष की नकारात्मक सोच जनता को तबाह कर रही है
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर