Allahabad news

इलाहाबाद

अपना जिला चुनें

संगम नगरी में स्थित है पूरी दुनिया में इकलौता 'भीष्म पितामह' का मंंदिर, ये रहा रहस्य

संगम नगरी में स्थित है पूरी दुनिया में इकलौता भीष्म पितामह का मंंदिर (file photo)

संगम नगरी में स्थित है पूरी दुनिया में इकलौता भीष्म पितामह का मंंदिर (file photo)

इस मंदिर (Temple) के बारे में तीर्थ पुरोहित पंडित श्याम बिहारी मिश्रा बताते हैं कि अब मंदिर धीरे-धीरे जीर्ण शीर्ण हो गया है. लेकिन आज भी दीपावली और पितृपक्ष में बड़ी तादात में श्रद्धालु यहां आकर दीपदान करते हैं.

SHARE THIS:
प्रयागराज. भीष्म पितामाह (Bhishma Pitamah) महाभारत के प्रमुख योद्धाओं में से थे. वे अपने बल और बुद्धि के लिए जाने जाते हैं. महाभारत (Mahabharata) के भीष्म पितामह का पूरी दुनिया में इकलौता मंदिर संगम नगरी प्रयागराज (Prayagraj) में स्थित है. भीष्म पितामह का एक ऐसा मंदिर गंगा के किनारे दारागंज में नाग वासुकी मंदिर के मुख्य द्वार पर स्थित है, जो हजारों वर्षों पुराना है. इस मंदिर में भीष्म पितामह की विशालकाय प्रतिमा विश्राम की मुद्रा में स्थापित है. जहां पर दीपावली और पितृ पक्ष में खास तौर पर श्रद्धालु दीप जलाने आते हैं. इस मंदिर के बारे में एक ऐसा रहस्य भी कहा जाता है कि भीष्म पितामह की प्रतिमा लोहे के तीर स्थापित है और आज भी इस मूर्ति से लगातार खून निकलता रहता है.

12 फीट लंबी मूर्ति

भीष्म पितामह के मंदिर के इस रहस्य को जानने के लिए न्यूज 18 की टीम इस मंदिर पहुंची. ये मंदिर आम तौर पर बंद ही रहता है. पंडित श्याम बिहारी मिश्रा के मुताबिक महाभारत का जब जिक्र आता है तब गंगापुत्र भीष्म पितामह को भी याद किया जाता है. लेकिन पूरी दुनिया में कहीं पर उनका कोई मंदिर नहीं है. सिर्फ और सिर्फ प्रयागराज के तीर्थ पुरोहितों ने हजारों साल पहले इस मंदिर की स्थापना की थी. इस मंदिर में 12 फीट लंबी मूर्ति स्थापित है जिसको तीरों की शैया पर स्थापित किया गया है.

दीपावली और पितृपक्ष में श्रद्धालु करते है दीपदान

इस मंदिर के बारे में तीर्थ पुरोहित पंडित श्याम बिहारी मिश्रा बताते हैं कि अब मंदिर धीरे-धीरे जीर्ण शीर्ण हो गया है. लेकिन आज भी दीपावली और पितृपक्ष में बड़ी तादात में श्रद्धालु यहां आकर दीपदान करते हैं. इस मंदिर को प्रयागराज के धार्मिक पर्यटन सर्किट योजना में भी शामिल किया गया है. नागवासुकी मंदिर के साथ ही पांच करोड़ अस्सी लाख की लागत से नाग वासुकी मंदिर के साथ इस मंदिर का भी जीर्णोद्धार होना है कि लेकिन आज तक नहीं हो पाया है.

तीरों की शैया पर लेटे पितामह

वहीं मंदिर के पुजारी से जब हमने तीरों की शैया पर लेटे पितामह के शरीर से अभी भी खून निकलने के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि मौजूदा समय में ऐसा कुछ भी नहीं है. हालांकि उन्होंने ये दावा जरुर किया है कि पहले कभी ऐसा होता रहा होगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Mahant Narendra Giri Suicide: योगी सरकार ने की नरेंद्र गिरि मौत मामले में CBI जांच की सिफारिश

उत्तर प्रदेश सरकार ने अब महंत नरेंद्र गिरि मौत मामले में केंद्र सरकार से सीबीआई जांच की सिफारिश की है.

Mahant Narendra Giri Death: उत्तर प्रदेश के गृह मंत्रालय ने केंद्र सरकार को केंद्रीय जांच एजेंसी से मामले की पड़ताल करने को लेकर की सिफारिश, बुधवार को ही आई थी कि नरेंद्र गिरि की पोस्टमार्टम रिपोर्ट.

SHARE THIS:

लखनऊ. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की मौत की गुत्‍थी सुलझाने के लिए अब योगी सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. उत्तर प्रदेश सरकार के गृह विभाग ने मामले की जांच के लिए केंद्र सरकार से सीबीआई जांच की सिफारिश की है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सरकार इस मामले को जल्द से जल्द सुलझाना चाहती है और निष्पक्ष जांच को देखते हुए सीबीआई जांच की सिफारिश की है.

गौरतलब है कि नरेंद्र गिरी की मौत के मामले में लगातार सवाल उठ रहे थे और कई राजनेताओं से लेकर संत समाज से जुड़े लोग भी इसे आत्महत्या का मामला मानने से इनकार कर रहे थे. साथ ही इस पूरे मामले की सीबीआई जांच करवाने की मांग कर रहे थे.

तीन आरोपी हो चुके हैं गिरफ्तार
नरेंद्र गिरि मौत के मामले में पुलिस ने अभी तक तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. नरेंद्र गिरि के मिले सुसाइड नोट में आनंद गिरि, आद्या तिवारी और उसके बेटे संदीप तिवारी को मौत का जिम्मेदार बताया गया था. सुसाइड नोट में लिखा गया था कि ये तीनों ब्लैकमेल कर रहे हैं और मानसिक तौर पर प्रताड़ित कर रहे हैं. नरेंद्र गिरि ने तीनों को अपनी मौत का जिम्मेदार सुसाइड लैटर में बताया था जिसके आधार पर यूपी पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया था.

नहीं मिले चोट के निशान
वहीं सीजेएम कोर्ट में पेश की गई पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार नरेंद्र गिरि के शरीर पर चोट के निशान नहीं मिले हैं उनकी मौत दम घुटने के कारण ही हुई है. रिपोर्ट में हैंगिंग की बात भी आई है. उनके गले पर वी शेप का निशान पाया गया है जो फंदा लगाने के कारण ही आता है. ऐसे में पुलिस कुछ हद तक स्पष्ट है कि नरेंद्र गिरि ने आत्महत्या की है और उनकी मौत फंदे से लटकने के कारण ही हुई है.

समय भी चला पता
पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार नरेंद्र गिरि की मौत दोपहर में 3 से साढ़े तीन बजे के बीच हुई है. इससे स्पष्ट है कि खाना खाने के बाद आराम करने गए नरेंद्र गिरि ने पहले वीडियो बनाया और उसके बाद सुसाइड नोट लिख कर आत्महत्या कर ली. काफी देर तक जब वे बाहर नहीं आए तो उनके शिष्यों ने दरवाजा तोड़कर देखा तो गिरि पंखे में रस्सी डालकर फंदे से लटके हुए थे. इसके बाद पुलिस को सूचित किया गया. लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी.

Mahant Narendra Suicide: मरने से पहले महंत गिरि ने बनाया था Video, लिया था आनंद, आद्या और संदीप का नाम

महंत नरेंद्र गिरि आत्महत्या मामले में पुलिस अब तक तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है.

Mahahnt Narendra Giri Death: महंत नरेंद्र गिरी ने फंदा लगाने से पहले अपने मोबाइल में एक वीडियो भी बनाया था. इस वीडियो में उन्होंने आनंद गिरि, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी का नाम लिया था. उन्होंने कहा कि इन्होंने मुझे आत्महत्या करने पर मजबूर कर दिया.

SHARE THIS:

प्रयागराज. महंत नरेंद्र गिरि आत्महत्या मामले में बुधवार को बड़ा खुलासा हुआ. पुलिस ने सीजेएम कोर्ट में महंत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के साथ ही उनके मोबाइल में मिले एक वीडियो के बारे में भी जानकारी दी. पुलिस ने बताया कि नरेंद्र गिरि ने मरने से पहले एक वीडियो रिकॉर्ड किया था और इस वीडियो में उन्होंने तीनों आरोपियों आनंद गिरि, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी का नाम लिया था. उन्होंने वीडियो में कहा था कि इन लोगों ने मुझे आत्महत्या करने के लिए मजबूर कर दिया.
पुलिस सूत्रों के अनुसार अब उस मोबाइल को सील कर दिया गया है और वीडियो पुलिस के पास सुरक्षित है क्योंकि वो एक अहम सबूत है.

नहीं मिले चोट के निशान
वहीं सीजेएम कोर्ट में पेश की गई पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार नरेंद्र गिरि के शरीर पर चोट के निशान नहीं मिले हैं उनकी मौत दम घुटने के कारण ही हुई है. रिपोर्ट में हैंगिंग की बात भी आई है. उनके गले पर वी शेप का निशान पाया गया है जो फंदा लगाने के कारण ही आता है. ऐसे में पुलिस कुछ हद तक स्पष्ट है कि नरेंद्र गिरि ने आत्महत्या की है और उनकी मौत फंदे से लटकने के कारण ही हुई है.

समय भी चला पता
पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार नरेंद्र गिरि की मौत दोपहर में 3 से साढ़े तीन बजे के बीच हुई है. इससे स्पष्ट है कि खाना खाने के बाद आराम करने गए नरेंद्र गिरि ने पहले वीडियो बनाया और उसके बाद सुसाइड नोट लिख कर आत्महत्या कर ली. काफी देर तक जब वे बाहर नहीं आए तो उनके शिष्यों ने दरवाजा तोड़कर देखा तो गिरि पंखे में रस्सी डालकर फंदे से लटके हुए थे. इसके बाद पुलिस को सूचित किया गया. लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी.

संदीप तिवारी गिरफ्तार
वहीं बुधवार को ही यूपी पुलिस ने एक और बड़ी कार्रवाई की है. उत्तर प्रदेश पुलिस ने मामले के तीसरे आरोपी संदीप तिवारी को भी गिरफ्तार कर लिया है. संदीप लेटे हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी का बेटा है. गौरतलब है कि पुलिस ने मामले में आनंद गिरि और आद्या तिवारी को पहले ही गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी आनंद गिरी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. उत्तर प्रदेश पुलिस ने आनंद गिरि को कोर्ट में पेश किया था जिसके बाद उसे न्यायिक हिरासत में भेजा गया.

Haridwar News: आनंद गिरि का आश्रम दूसरी बार हुआ सील, दर्ज हो सकती है FIR

अवैध निर्माण के चलते आनंद गिरि के हरिद्वार स्थित आश्रम को सील कर दिया गया है.

Uttarakhand News: अवैध निर्माण के चलते पहले भी रुड़की विकास प्राधिकरण ने मई में किया था सील, लेकिन नहीं रोका गया निर्माण कार्य, अब फिर कार्रवाई करते हुए कर दिया गया सील.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 20:01 IST
SHARE THIS:

हरिद्वार. महंत नरेंद्र गिरि आत्महत्या मामले में मुख्य आरोपी आनंद गिरि की मुश्किलें कम नहीं होती दिख रही हैं. गिरफ्तारी के बाद आनंद गिरी पर एक और परेशानी आ गई है. आनंद गिरि का हरिद्वार स्थित आश्रम को सील कर दिया गया है. ये आश्रम श्यामपुर में स्थित है और इसको सील करने की ये दूसरी बार हुई कार्रवाई है. बताया जा रहा है कि ये कार्रवाई रुड़की प्राधिकरण ने की है. बताया जा रहा है कि इस आश्रम में अवैध निर्माण हो रहा था जिसकी शिकायत मिलने पर प्राधिकरण ने मई में इसे सील किया था. लेकिन बताया जा रहा है कि इसके बाद भी आश्रम में अवैध निर्माण को नहीं रोका गया और अंदर लगातार कंस्ट्रक्‍शन होता रहा.
इस बात की जानकारी मिलने पर रुड़की विकास प्राधिकरण ने इसे बुधवार को एक बार फिर सील कर दिया. वहीं अब बताया जा रहा है ‌कि आश्रम संचालक और अन्य पदाधिकारियों के खिलाफ अब प्राधिकरण एफआईआर भी दर्ज करवा सकता है.

संगठन से भी बाहर हुआ आनंद
वहीं नरेंद्र गिरी को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोपी आनंद गिरी को अब युवा साधु संतों के संगठन युवा भारत साधु समाज ने भी अपने संगठन से निकाल दिया है. हरिद्वार स्थित गरीब दास आश्रम में बुधवार को बैठक का आयोजन किया गया. इस बैठक के दौरान संगठन ने कार्रवाई करते हुए आनंद गिरी को संगठने से निष्कासित कर दिया. आनंद गिरि संगठन के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर था, उसे इस पद से अब हटा दिया गया है.

14 दिन की न्यायिक हिरासत
वहीं महंत नरेंद्र गिरि आत्महत्या मामले में आरोपी आनंद गिरी को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. उत्तर प्रदेश पुलिस ने आनंद गिरि को कोर्ट में पेश किया था जिसके बाद उसे न्यायिक हिरासत में भेजा गया. गौरतलब है कि नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में आनंद गिरि, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था. जिसके बाद पुलिस ने आनंद गिरि को हरिद्वार से गिरफ्तार किया था.

Mahant Giri Suicide: महंत नरेंद्र आत्महत्या मामले में आनंद गिरि को 14 दिन की न्यायिक हिरासत

महंत नरेंद्र गिरी ने अपने सुसाइड लैटर में आनंद पर ब्लैकमेल करने और मानसिक तौर पर प्रताड़ित करने का अरोप लगाया था.

Mahant Narendra Giri Death: हरिद्वार से गिरफ्तार किया गया था आनंद गिरि को, महंत नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड लैटर में आनंद गिरि पर लगाया था मानसिक तौर पर प्रताड़ित करने का आरोप.

SHARE THIS:

प्रयागराज. महंत नरेंद्र गिरि आत्महत्या मामले में आरोपी आनंद गिरी की न्यायिक हिरासत को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. उत्तर प्रदेश पुलिस ने आनंद गिरि को कोर्ट में पेश किया था जिसके बाद उसे न्यायिक हिरासत में भेजा गया. आज सीजेएम कोर्ट में पोस्टमार्टम रिपोर्ट पेश हुई, जिसे सीजेएम हरेंद्र नाथ ने देखा. जानकारी के अनुसार पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हैंगिंग की बात सामने आई है. अपराध की गंभीरता को देखते हुए सीजेएम ने दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया. आरोपी आनन्द गिरि और आद्या प्रसाद तिवारी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में नैनी सेंट्रल जेल भेज दिया गया.

5 अक्टूबर को मामले की अगली सुनवाई होगी. एसआईटी अध्यक्ष सीओ अजीत सिंह चौहान, विवेचक इंस्पेक्टर महेश सिंह समेत टीम कोर्ट में मौजूद रही. विवेचक ने कोर्ट में मृतक के दो मोबाइल, चाकू, नायलान की रस्सी और सुसाइड नोट पेश किया. साक्ष्यों को देखने के बाद सीजेएम के आदेश पर सील कर दिया गया. डीजीसी क्रिमिनल गुलाब चंद्र अग्रहरि ने ये जानकारी दी.

गौरतलब है कि नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में आनंद गिरि, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था. जिसके बाद पुलिस ने आनंद गिरि को हरिद्वार से गिरफ्तार किया था. आनंद गिरि उस दौरान अपने आश्रम में था और उत्तराखंड पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया था. बाद में यूपी पुलिस की एक टीम ने पहुंच कर उसे गिरफ्तार कर यूपी लाई थी.

आनंद का आश्रम भी सील
वहीं हरिद्वार स्थित आनंद गिरि का आश्रम सील कर दिया गया है. श्यामपुर स्थित इस आश्रम पर ये दूसरी बार कार्रवाई हुई है. बताया जा रहा है कि रुड़की विकास प्राधिकरण ने ये सीलिंग की कार्रवाई की है. प्राधिकरण ने अवैध निर्माण के चलते मई में भी आश्रम को सील कर दिया था. इसके बावजूद यहां पर निर्माण कार्य चलता रहा. अब एक बार फिर आश्रम को सील कर दिया गया है. वहीं बताया जा रहा है कि नियमों के उल्लंघन पर अब एफआईआर भी दर्ज की जा सकती है.

नरेंद्र गिरि को दी गई समाधि
वहीं बुधवार को ही अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और बाघम्बरी मठ के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को मंत्रोच्चार और विधि-विधान के साथ श्री मठ बाघंबरी गद्दी में उनके गुरु के बगल में भू-समाधि दे दी गई. महंत नरेंद्र गिरि पद्मासन मुद्रा में ब्रह्मलीन हुए. अब एक साल तक यह समाधि कच्ची ही रहेगी. इस पर शिवलिंग की स्थापना कर रोज पूजा अर्चना की जाएगी. इसके बाद समाधि को पक्का बनाया जाएगा.

आज गमगीन माहौल में महंत नरेंद्र गिरि को अंतिम विदाई दी गई. उन्हें पद्मासन मुद्रा में समाधि दी गई है. उन्हें योग की मुद्रा में बैठाया गया. इसके बाद मिट्टी, चंदन, इत्र डाला गया. यही नहीं गुलाब की पत्तियों से पूरे समाधि स्थल को भरा गया.

Mahant Narendra Suicide: आनंद और आद्या के बाद संदीप तिवारी को भी किया गिरफ्तार

महंत नरेंद्र गिरि आत्महत्या मामले में संदीप की गिरफ्तारी के साथ ही पुलिस को कुछ अहम जानकारी मिलने की उम्मीद है.

Mahahnt Narendra Giri Death: आनंद गिरि और लेटे हनुमान जी मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी की गिरफ्तारी के बाद अब यूपी पुलिस ने तीसरे आरोपी संदीप तिवारी को भी गिरफ्तार कर लिया है. संदीप आद्या तिवारी का बेटा है.

SHARE THIS:

प्रयागराज. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि के आत्महत्या मामले में अब यूपी पुलिस ने एक और बड़ी कार्रवाई की है. उत्तर प्रदेश पुलिस ने मामले के तीसरे आरोपी संदीप तिवारी को भी गिरफ्तार कर लिया है. संदीप लेटे हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी का बेटा है. गौरतलब है कि पुलिस ने मामले में आनंद गिरि और आद्या तिवारी को पहले ही गिरफ्तार कर लिया है. उल्लेखनीय है कि महंत नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में खुद की मौत के लिए जिम्मेदार आनंद गिरि, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी को बताया था.
नरेंद्र गिरि ने लिखा था कि तीनों उन्हें ब्लैकमेल करते हैं और मानसिक तौर पर प्रताड़ित करते हैं. साथ ही उन्होंने पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों से इन तीनों पर कड़ी कानूनी कार्रवाई करने की भी मांग की थी.

14 दिन की न्यायिक हिरासत में आनंद
वहीं महंत नरेंद्र गिरि आत्महत्या मामले में आरोपी आनंद गिरी की न्यायिक हिरासत को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. उत्तर प्रदेश पुलिस ने आनंद गिरि को कोर्ट में पेश किया था जिसके बाद उसे न्यायिक हिरासत में भेजा गया. गौरतलब है कि नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में आनंद गिरि, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था. जिसके बाद पुलिस ने आनंद गिरि को हरिद्वार से गिरफ्तार किया था.

संगठन से भी बाहर हुआ आनंद
वहीं नरेंद्र गिरी को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोपी आनंद गिरी को अब युवा साधु संतों के संगठन युवा भारत साधु समाज ने भी अपने संगठन से निकाल दिया है. हरिद्वार स्थित गरीब दास आश्रम में बुधवार को बैठक का आयोजन किया गया. इस बैठक के दौरान संगठन ने कार्रवाई करते हुए आनंद गिरी को संगठने से निष्कासित कर दिया. आनंद गिरि संगठन के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर था, उसे इस पद से अब हटा दिया गया है.

UPMSCL Recruitment 2021: यूपी में स्नातक पास अभ्यर्थियों के लिए निकली है नौकरियां, जानें डिटेल

UPMSCL Recruitment 2021: पदों के लिए 30 सितंबर 2021 तक आवेदन कर सकते हैं.

UPMSCL Recruitment 2021: यूपी चिकित्सा आपूर्ति निगम लिमिटेड ने विभिन्न पदों के लिए भर्तियां निकाली हैं. इन पदों के लिए अभ्यर्थी निर्धारित अंतिम तिथि तक आवेदन कर सकते हैं. अभ्यर्थियों का चयन इंटरव्यू के जरिए किया जाएगा.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 18:01 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली (UPMSCL Recruitment 2021). उत्तर प्रदेश चिकित्सा आपूर्ति निगम लिमिटेड (Uttar Pradesh Medical Supplies Corporation Limited) ने फार्मासिस्ट सहित विभिन्न पदों पर भर्तियां (UPMSCL Recruitment 2021) निकाली हैं. इन पदों के लिए 6 सितंबर 2021 से आवेदन की प्रक्रिया जारी है. अभ्यर्थी इन पदों के लिए 30 सितंबर 2021 तक आवेदन कर सकते हैं.

अभ्यर्थी इस भर्ती से संबंधित अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जारी नोटिफिकेशन को देख सकते हैं. चयनित अभ्यर्थी की नियुक्ति प्रदेश के विभिन्न जिलों में रिक्त पदों पर की जाएगी.

UPMSCL Recruitment 2021: रिक्त पदों की संख्या
असिस्टेंट मैनेजर (वेयरहाउस) सप्लाई चेन – 3 पद
बायोमेडिकल इंजीनियर (क्वालिटी कंट्रोल) – 1 पद
पर्सनल असिस्टेंट (मैनेजिंग डायरेक्टर और एडिशनल मैनेजिंग डायरेक्टर) – 2 पद
फार्मासिस्ट (ड्रग प्रोक्योरमेंट) – 2 पद
ऑफिस असिस्टेंट – 3 पद
कंपनी सचिव – 1
जनरल मैनेजर –  1
मैनेजर – 1
मैनेजर (एचआर) – 1
मैनेजर (लीगल) – 1

UPMSCL Recruitment 2021: शैक्षणिक योग्यता
कंपनी सचिव पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थी के पास सीएस की डिग्री होनी चाहिए. जनरल मैनेजर पद के लिए अभ्यर्थी के पास बीटेक की डिग्री होनी चाहिए. पर्सनल असिस्टेंट और ऑफिस असिस्टेंट पद के लिए अभ्यर्थी का कंप्यूटर स्ट्रीम में ग्रेजुएशन होना अनिवार्य हैं.

UPMSCL Recruitment 2021: आयु सीमा
इन पदों के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थी की उम्र 40 वर्ष से 45 वर्ष के बीच होनी चाहिए. अभ्यर्थियों के आयु गणना 31 जुलाई 2021 से की जाएगी.

UPMSCL Recruitment 2021: चयन प्रक्रिया
इन पदों पर अभ्यर्थियों का चयन इंटरव्यू के जरिए किया जाएगा. अंतिम चयन इंटरव्यू के आधार पर तैयार की गई मेरिट लिस्ट के जरिए किया जाएगा.

यह भी पढ़ें –

Sarkari Naukri Result 2021: 10वीं से लेकर ग्रेजुएशन पास तक के लिए निकली है नौकरियां, यहां देखे पूरी डिटेल
Allahabad HC APS Recruitment 2021: इलाहाबाद हाईकोर्ट में APS भर्ती के लिए आवेदन शुरू, जानें पूरी प्रक्रिया

UPMSCL Recruitment 2021: इन तिथियों का रखें ध्यान
आवेदन शुरू होने की तिथि – 6 सितंबर 2021
आवेदन की अंतिम तिथि- 30 सितंबर 2021

यहां देखें नोटिफिकेशन

महंत नरेंद्र गिरि सुसाइड पर अखाड़ा परिषद को संदेह: अब संत करेंगे जांच, 16 दिन बाद फैसला

महंत नरेंद्र गिरि सुसाइड पर अखाड़ा परिषद को संदेह है.

Mahant Narendra Giri Death Investigation: महंत नरेंद्र गिरि की मौत को अखाड़ा परिषद भी संदिग्ध मानते हुए इसकी अपने स्तर से जांच शुरू करने जा रहा है. संतों की ओर से कहा गया है कि 16 दिन बाद सोलसी भंडारे का आयोजन किया जाएगा. भंडारे के बाद इस पर इस पर चर्चा की जाएगी.

SHARE THIS:

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परि​षद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) खुदकुशी मामले में अब अखाड़ा परिषद (Akhara Parishad) की ओर से बड़ा बयान सामने आया है. महंत नरेंद्र गिरि की मौत को अखाड़ा परिषद भी संदिग्ध मानते हुए इसकी अपने स्तर से जांच शुरू करने जा रहा है. संतों की ओर से कहा गया है कि 16 दिन बाद सोलसी भंडारे का आयोजन किया जाएगा. भंडारे के बाद इस पर इस पर चर्चा की जाएगी. अखाड़ा परिषद की ओर से कहा गया है कि 16 दिन बाद शायद सरकारी जांच से भी कुछ जानकारी सामने आ जाएगी.

महंत नरेंद्र गिरि का शव फंदे पर लटका मिलने और सुसाइड नोट सामने आने के बाद कई तरह के सवाल शुरू से ही उठते रहे हैं. पोस्टमार्टम के बाद बुधवार को महंत नरेंद्र गिरि का भू समाधि दिए जाने के बाद भी तस्वीर साफ नहीं है. इसी बीच बलवीर गिरि को उत्तराधिकारी घोषित करने पर फैसला भी टाल दिया गया है. इसको लेकर निरंजनी अखाड़े के पंच परमेश्वरकी बैठक 25 सितंबर के बाद होगी, जिसमें मठ के उत्तराधिकारी का फैसला हो गा. निरंजनी अखाड़े के पंच परमेश्वरों की बैठक में उत्तराधिकारी घोषित करने पर निर्णय किए जाने की बात कही गई है.

महंत नरेंद्र गिरि ने जो सुसाइड नोट छोड़ा है उसमें बलवीर गिरि को उत्तराधिकारी बनाने की बात लिखी गई. जबकि निरंजनी अखाड़े के सचिव रवीन्द्र पुरी ने सुसाइड लेटर को ही फर्जी बताया है.

महंत को दी गई अंतिम विदाई

गमगीन माहौल में महंत नरेंद्र गिरि को अंतिम विदाई दी गई. उन्हें पद्मासन मुद्रा में समाधि दी गई है. उन्हें योग की मुद्रा में बैठाया गया. इसके बाद मिट्टी, चंदन, इत्र डाला गया. यही नहीं गुलाब की पत्तियों से पूरे समाधि स्थल को भरा गया.

इस दौरान बड़े-बड़े संतों ने अपनी अंतिम विदाई दी. पूरी वैदिक परंपरा और सनातन धर्म की परंपरा के मुताबिक उन्हें अंतिम विदाई दी गई. हालांकि अभी भी उनकी मौत की जांच लगातार चल रही है, कई किरदार सामने आए हैं. कई किरदार सामने आने बाकी हैं लेकिन इस बीच उनके भक्तों ने उनके शिष्यों ने और संतों ने उन्हें पूरी सनातन धर्म की परंपरा के साथ अंतिम विदाई दी.

महंत के शिष्य बलबीर गिरि, जिन्हें उन्होंने उत्तराधिकारी बनाया, वह भी इस दौरान मौजूद रहे. सभी संतों के चेहरों पर गम दिखा यही नहीं उनके मन में गुस्सा भी दिखाई दे रहा है कि आखिर ऐसा क्यों हुआ? कई संतों का कहना था कि जो उनकी समाज के अगुआ थे, अपनी बातों को प्रखर तरीके से रखे थे. आखिर ऐसी घटना क्यों हुई?

UP Education News: यूपी में 8वीं कक्षा का हेडमास्टर बनने के लिए देनी होगी परीक्षा, जानें डिटेल

UP Education News: यूपी में 8वीं तक रिक्त हेडमास्टर के पदों को जल्द भरा जाएगा.

UP Education News: यूपी में जल्द ही प्राथमिक स्कूलों में हेडमास्टर के रिक्त पदों को भरा जाएगा. राज्य सरकार इस वर्ष के अंत तक इन रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया पूरी करेगी.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 17:39 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली (UP Education News).  यूपी में कक्षा 8वीं का हेडमास्टर बनने के लिए अब नियुक्त सरकारी शिक्षकों को परीक्षा देनी होगी. प्रदेश में हजारों की संख्या में प्राथमिक और 8वीं तक के हेडमास्टरों के पद रिक्त हैं. इन रिक्त पदों को राज्य सरकार इस वर्ष तक भरेगी. वहीं कुछ रिक्त पदों पर निर्धारित किए गए मानकों के आधार पर पदोन्नति भी की जाएगी.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में 1.59 लाख प्राइमरी व जूनियर स्कूलों में प्रधानाध्यापकों के 52,317 पद रिक्त हैं, इनमें 30,426 पद जूनियर हाईस्कूल के प्रधानाध्यापकों के शामिल हैं.

ये भी पढ़ें
Sarkari Naukri: स्नातक पास अभ्यर्थियों के लिए निकली है नौकरियां, जानें डिटेल
Teacher Jobs : प्राइमरी टीचर्स की 9300 से अधिक नौकरियां, देखें डिटेल

इस आधार पर भरे जाएंगे रिक्त पद
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार हेडमास्टरों के रिक्त पदों पर 40 फीसदी नियुक्ति विभागीय परीक्षा के जरिए की जाएगी, जबकि 60 फीसदी पदों पर निर्धारित किए गए मानकों के आधार पर पदोन्नति के जरिए भरा जाएगा. केंद्र सरकार ने प्रदेश सरकार के इस वर्ष के अंत तक इस प्रक्रिया को पूरा करने का निर्देश दिया है. वहीं वार्षिक कार्य योजना की बैठक में केंद्र सरकार के प्रदेश सरकार ने लिखित रूप से आश्वासन दिया है कि वह इन रिक्त पदों को विभागीय परीक्षाओं व मानकों के आधार पर प्रोन्नति देकर प्राथमिकता के आधार पर भरेगा.

ब्रह्मलीन हुए महंत नरेंद्र गिरि, बाघम्बरी मठ में दी गई भू-समाधि, जानिए पूरा विधि-विधान

महंत नरेंद्र गिरी को दी गई अंतिम विदाई

Prayagraj News: बाघम्बरी मठ में महंत नरेंद्र गिरि को अंतिम विदाई दी गई. उन्हें पद्मासन मुद्रा में समाधि दी गई है. उन्हें योग की मुद्रा में बैठाया गया. इसके बाद मिट्टी, चंदन, इत्र डाला गया. यही नहीं गुलाब की पत्तियों से पूरे समाधि स्थल को भरा गया.

SHARE THIS:

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और बाघम्बरी मठ के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) के पार्थिव शरीर को मंत्रोच्चार और विधि-विधान के साथ श्री मठ बाघंबरी गद्दी में उनके गुरु के बगल में भू-समाधि दे दी गई. महंत नरेंद्र गिरि पद्मासन मुद्रा में ब्रह्मलीन हुए. अब एक साल तक यह समाधि कच्ची ही रहेगी. इस पर शिवलिंग की  स्थापना कर रोज पूजा अर्चना की जाएगी. इसके बाद समाधि को पक्का बनाया जाएगा.

आज गमगीन माहौल में महंत नरेंद्र गिरि को अंतिम विदाई दी गई. उन्हें पद्मासन मुद्रा में समाधि दी गई है. उन्हें योग की मुद्रा में बैठाया गया. इसके बाद मिट्टी, चंदन, इत्र डाला गया. यही नहीं गुलाब की पत्तियों से पूरे समाधि स्थल को भरा गया.

इस दौरान बड़े-बड़े संतों ने अपनी अंतिम विदाई दी. पूरी वैदिक परंपरा और सनातन धर्म की परंपरा के मुताबिक उन्हें अंतिम विदाई दी गई. हालांकि अभी भी उनकी मौत की जांच लगातार चल रही है, कई किरदार सामने आए हैं. कई किरदार सामने आने बाकी हैं लेकिन इस बीच उनके भक्तों ने उनके शिष्यों ने और संतों ने उन्हें पूरी सनातन धर्म की परंपरा के साथ अंतिम विदाई दी.

महंत के शिष्य बलबीर गिरि, जिन्हें उन्होंने उत्तराधिकारी बनाया, वह भी इस दौरान मौजूद रहे. सभी संतों के चेहरों पर गम दिखा यही नहीं उनके मन में गुस्सा भी दिखाई दे रहा है कि आखिर ऐसा क्यों हुआ? कई संतों का कहना था कि जो उनकी समाज के अगुआ थे, अपनी बातों को प्रखर तरीके से रखे थे. आखिर ऐसी घटना क्यों हुई?

श्री मठ बाघम्बरी गद्दी में उनके गुरु भगवान गिरी की समाधि के बगल में नींबू के पेड़ के नीचे उन्हें भू-समाधि दी गई. संत परम्परा के मुताबिक वैदिक मंत्रोचार और पूजन के साथ भू-समाधि की रस्में निभाई गर्इं. महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को पद्मासन की मुद्रा में विधि-विधान से पूजन के बाद समाधिस्थ किया गया. नम आंखों से शिष्यों, अनुयायियों और साधु संतों ने पुष्प वर्षा कर उन्हें अंतिम विदाई दी.

एक वर्ष तक नियमित पूजा अर्चना कर समाधि स्थल को जागृत किया जाएगा. इसके बाद यहां पर पक्की समाधि का निर्माण कर शिव‌लिंग और महंत नरेंद्र गिरि की भव्य प्रतिमा भी स्थापित की जाएगी.

जानिए कब क्या हुआ

सुबह 7 बजे महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को पोस्टमार्टम के लिए शव वाहन में एसआरएन अस्पताल ले जाया गया.

पोस्टमार्टम के बाद दोबारा शव श्री मठ बाघम्बरी गद्दी लाया गया. जिसके बाद फूलों से सजे एक विशेष वाहन से शव यात्रा गाजे बाजे के साथ निकाली गई.

शव यात्रा संगम तट पर पहुंची, जहां पर त्रिवेणी के जल से उन्हें स्नान कराया गया.

इसके बाद पार्थिव शरीर बड़े हनुमान मंदिर लाया गया.

यहां पर विशेष विमान में ही आरती उतारी गई और मंदिर के जल का छिड़काव किया गया, जिसके बाद पार्थिव शरीर श्री मठ बाघम्बरी गद्दी लाया गया. जहां पर महंत नरेंद्र गिरि को ब्रह्मलीन होने पर समाधि दी गई.

इस मौके पर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री महंत हरि गिरी, निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद ब्रह्मा चारी, निरंजनी अखाड़े के सचिव रवीन्द्र पुरी, महानिर्वाणी अखाड़े के सचिव यमुनापुरी, जूना अखाड़े के प्रवक्ता नारायण गिरी समेत कई अन्य अखाड़ों के महंत और श्री महंत मौजूद रहे. इस मौके पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भी महंत नरेंद्र गिरि ने अंतिम दर्शन किए.

क्‍या एक लड़की की फोटो रही नरेंद्र गिरि की आत्महत्या की वजह, पढ़िए सुसाइड नोट में आनंद गिरि पर लगाया क्या आरोप?

महंत नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में स्वामी आनंद गिरि को मौत का जिम्मेदार ठहराया है.

Mahant Narendra Giri Suicide Note: महंत नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट में लिखा है कि 'हरिद्वार से सूचना मिली कि आनंद एक लड़की के साथ मेरा फोटो जोड़कर गलत काम करते हुए फोटो वायरल करने वाला है. वह मुझे बदनाम कर देगा, मैं किस-किस को सफाई दूंगा. इससे बेहतर मर जाना है.'

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 17:05 IST
SHARE THIS:

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) के सुसाइड नोट (Suicide Note) से इस बात का खुलासा हुआ है कि उन्होंने आत्महत्या जैसा कदम इसलिए उठाया, क्योंकि उनका शिष्य स्वामी आनंद गिरि उनकी फाेटो के सााथ छेड़छाड़ कर एक लड़की के साथ जोड़कर उन्हें ब्लैकमेल कर रहा था. महंत नरेंद्र गिरि ने सुसाइड नोट में लिखा है कि मैंने पूरा जीवन सम्मान से जिया है. अगर ये फोटो बाहर आ जाएगी तो मैं समाज में सम्मान से जी नहीं पाऊंगा. इससे बेहतर मर जाना है. सुसाइड नोट में यह भी लिखा है कि 13 सितंबर को भी खुदकुशी की कोशिश की थी.

पुलिस के पास मौजूद सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र गिरि ने लिखा है क‍ि “आनंद गिरि के कारण आज मैं विचलित हो गया. हरिद्वार से सूचना मिली कि आनंद कंप्यूटर के माध्यम से एक लड़की के साथ मेरा फोटो जोड़कर गलत काम करते हुए फोटो वायरल करने वाला है. वह मुझे बदनाम करने जा रहा है. मैंने सोचा कि एक बार बदनाम हो गया तो कहां-कहां सफाई दूंगा. बदनाम हो गया तो जिस पद पर हूं उसकी गरिमा चली जाएगी. इससे अच्छा तो मर जाना ठीक है. मेरे मरने के बाद सच्चाई तो सामने आ ही जाएगी. आगे नरेंद्र गिरि ने लिखा कि मैं जिस सम्मान से जी रहा हूं अगर मेरी बदनामी हो गई तो मैं समाज मैं कैसे रहूंगा, इससे अच्छा मर जाना ठीक रहेगा.

mahant narendra giri death, mahant narendra giri suicide note

सामने आया महंत नरेंद्र गिरि का सुसाइड नोट

“13 सितंबर को ही करने वाला था आत्महत्या”
महंत नरेंद्र गिरि ने सुसाइड नोट में लिखा है कि वे 13 सितंबर को ही आत्महत्या करने वाले थे. लेकिन हिम्मत नहीं कर पाया. आज जब हरिद्वार से सूचना मिली की आनंद एक दो दिन में फोटो वायरल करने वाला है, तो बदनामी से अच्छा मर जाना है. मेरी आत्महत्या का जिम्मेदार आनंद गिरि, पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी और उनका लड़का संदीप तिवारी है. तीनों आरोपियों के नाम के साथ लिखा है कि मैं पुलिस अधिकारियों व प्रशासनिक अधिकारियों से प्रार्थना करता हूं कि इन तीनों के साथ कानूनी कार्रवाई की जाए, जिससे मेरी आत्मा को शांति मिल सके.

बलवीर गिरि को बनाया उत्तराधिकारी
महंत नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में शिष्य बलवीर गिरि को उत्तराधिकारी बनाया है. महंत नरेंद्र गिरि ने लिखा कि प्रिय बलवीर ‌गिरि मठ मंदिर की व्यवस्‍था का प्रयास करना, जिस तरह से मैं किया करता था. साथ ही उन्होंने अपने कुछ शिष्यों का ध्यान रखने की भी बात कही. इसके साथ उन्होंने महंत हरी गोविंद पुरी के लिए उन्होंने लिखा कि आप से निवेदन है कि मढ़ी का महंत बलवीर गिरि को ही बनाना. साथ ही महंत रविन्द्र पुरी जी के लिए उन्होंने लिखा कि आप ने हमेशा साथ दिया है, मेरे मरने के बाद भी मठ की गरिमा को बनाए रखना.

Mahant Giri Suicide: निरंजनी अखाड़े के सचिव रविंद्र ने सुसाइड लैटर को बताया फर्जी, बलवीर के उत्तराधिकारी बनने पर विवाद

निरंजनी अखाड़े के सचिव रविंद्र पुरी ने कहा कि महंत नरेंद्र गिरि का सुसाइड नोट फर्जी है. (फाइल फोटो)

Mahant Narendra Giri Death: पंच परमेश्वर की बैठक में नहीं हुआ महंत नरेंद्र गिरि के उत्तराधिकारी पर फैसला, अब 25 सितंबर के बाद होगी अगली बैठक.

SHARE THIS:

प्रयागराज. महंत नरेंद्र गिरी की आत्महत्या के मामले में बुधवार को नया मोड़ आ गया. प्रयागराज में हुई पंच परमेश्वर की बैठक में महंत नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट को फर्जी करार दिया गया. इसके साथ ही उनके उत्तराधिकारी को घोषित करने की बात पर भी विवाद खड़ा हो गया. निरंजनी अखाड़े के सचिव रविंद्र पुरी ने सुसाइड लैटर को फर्जी बताते हुए उत्तराधिकारी की घोषणा करने से मना कर दिया. अब संत बलवीर के उत्तराधिकारी बनने पर फैसला टल गया है. अब बैठक के लिए अगली तारीख 25 सितंबर घोषित की गई है. इसी दिन महंत नरेंद्र गिरि के उत्तराधिकारी पर फैसला होगा और घोषणा की जाएगी.
हालांकि रविंद्र पुरी ने बलवीर गिरि पर किसी भी तरह का कोई आरोप नहीं लगाया लेकिन उन्होंने सुसाइड लैटर की सत्यता पर सवाल उठाया. गौरलतब है कि बलवीर गिरि भी निरंजनी अखाड़े के पंच परमेश्वर के सदस्य हैं.

अखाड़ा परिषद भी कर रहा है जांच
इससे पहले अखाड़ा परिषद का एक बड़ा बयान आया है. महंत नरेंद्र गिरि की मौत की जांच अब अखाड़ा परिषद भी कर रही है. अखाड़ा 16 दिन बाद सोलसी भंडारे का आयोजन करेगा. अखाड़ा परिषद के अनुसार उसके बाद ही जांच के बारे में बात करेंगे और मौत के संबंध में जानकारी भी देंगे. अखाड़ा परिषद का कहना है कि 16 दिन बाद सरकारी जांच के भी परिणाम सामने आने लगेंगे.

नरेंद्र गिरि को दी गई समाधि
वहीं बुधवार को ही अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और बाघम्बरी मठ के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को मंत्रोच्चार और विधि-विधान के साथ श्री मठ बाघंबरी गद्दी में उनके गुरु के बगल में भू-समाधि दे दी गई. महंत नरेंद्र गिरि पद्मासन मुद्रा में ब्रह्मलीन हुए. अब एक साल तक यह समाधि कच्ची ही रहेगी. इस पर शिवलिंग की स्थापना कर रोज पूजा अर्चना की जाएगी. इसके बाद समाधि को पक्का बनाया जाएगा.

आज गमगीन माहौल में महंत नरेंद्र गिरि को अंतिम विदाई दी गई. उन्हें पद्मासन मुद्रा में समाधि दी गई है. उन्हें योग की मुद्रा में बैठाया गया. इसके बाद मिट्टी, चंदन, इत्र डाला गया. यही नहीं गुलाब की पत्तियों से पूरे समाधि स्थल को भरा गया.

ब्रह्मलीन हुए महंत नरेंद्र गिरि, विधि-विधान के साथ बाघंबरी मठ में दी गई भू-समाधि

महंत नरेंद्र गिरि को आज दोपहर में दी जाएगी  समाधि

Narendra Giri Death Case: जानकारी के मुताबिक पोस्टमॉर्टम के बाद आज ही महंत नरेंद्र गिरि को मठ बाघंबरी गद्दी में ही भू-समाधी दी जाएगी. अपने सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र गिरि में लिखा है कि उन्हें उनके गुरु की समाधि के बगल में ही स्थित नींबू के पेड़ के पास समाधि दी जाए.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 16:03 IST
SHARE THIS:

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhara Parishad) के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) के शव का पोस्टमॉर्टम (Postmortem) बुधवार को सुबह आठ बजे एसआरएन हॉस्पिटल में शुरू हो गया. पांच डॉक्टरों का पैनल द्वारा शव का पोस्टमॉर्टम कराया जा रहा है. पोस्टमॉर्टम की वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही यह तय हो पाएगा कि महंत नरेंद्र गिरि ने आत्महत्या की थी या हत्या कर उनके शव को फंदे से टांग दिया गया था. इस बीच आज ही अखाड़ा परिषद की बैठक भी होनी है जिसमें यह तय होगा कि महंत नरेंद्र गिरि का उत्तराधिकारी कौन होगा। महंत नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट के मुताबिक उन्होंने बलवीर गिरि को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया है. मिल रही जानकारी के मुताबिक पोस्टमॉर्टम के बाद आज ही महंत नरेंद्र गिरि को मठ बाघंबरी गद्दी में ही भू-समाध‍ि दी जाएगी. अपने सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र गिरि में लिखा है कि उन्हें उनके गुरु की समाधि के बगल में ही स्थित नींबू के पेड़ के पास समाधि दी जाए. हालांकि पहले यह तय हुआ था कि महंत नरेंद्र गिरि को 23 सितंबर को समाधि दी जाएगी. लेकिन पोस्टमॉर्टम के बाद बॉडी को ज्यादा देर रखना उचित नहीं होता, लिहाजा उन्हें आज ही पूरे विधि विधान के साथ समाधि दी जाएगी. महंत नरेंद्र गिरी के समाधि कार्यक्रम के चलते शिक्षा विभाग ने बुधवार को स्कूल बंद रखने का आदेश जारी किया है.

महंत नरेंद्र गिरि से पहले भी MP के इस संत की हत्या-आत्महत्या के बीच उलझ गई थी कहानी

महंत नरेंद्र गिरि से पहले भी भैय्यू जी महाराज की हत्या या आत्महत्या को लेकर लोग सवाल पूछ रहे थे.

Narendra Giri Death Case: महंत नरेंद्र गिरि की मौत पहला मामला नहीं है, जब देश में किसी संत की खुदकुशी पर सवाल उठे हों. तीन साल पहले भी एमपी के इंदौर में संत और कथावाचक भैय्यू जी महाराज की आत्महत्या को लेकर लोग इस तरह के ही सवाल पूछ रहे थे.

SHARE THIS:

नई दिल्ली. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और बाघम्बरी पीठ के महंत नरेंद्र गिरि (Narendra Giri Death) की हत्या या आत्महत्या की गुत्थी को सुलझाने में यूपी पुलिस का पूरा महकमा लगा हुआ है. पुलिस की शुरुआती तफ्तीश में आत्महत्या की बात सामने आ रही है. नरेंद्र गिरि के करीबियों का कहना है कि वह कभी भी आत्महत्या नहीं कर सकते हैं. इसलिए इस पूरे मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए. आपको बता दें कि यह देश में कोई पहला मामला नहीं है, जब किसी संत की खुदकुशी बताए जाने पर लोगों ने सवाल किया है. तीन साल पहले भी संत और कथावाचक भैय्यू जी महाराज की आत्महत्या को लेकर लोग इसी तरह के सवाल पूछ रहे थे. ऐसे में सवाल उठता है कि दूसरों को ज्ञान और सत्य का मार्ग दिखाने वाले ये साधु-संत खुद क्यों ऐसे मार्ग चुन लेते हैं, जिस पर चलने का लोगों को भी विश्वास नहीं होता है. क्यों संतों की हत्या और आत्महत्या के बीच कहानी उलझ कर रह जाती है?

बीते दो दिनों की तफ्तीश में यूपी पुलिस ने आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में महंत नरेंद्र गिरि के एक शिष्य आनंद गिरि और बड़े हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी को गिरफ्तार किया है. इस पूरे मामले की तफ्तीश के लिए योगी सरकार ने एसआईटी का भी गठन कर दिया है. मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी ने भी महंत नरेंद्र गिरि को श्रद्धांजलि देने के बाद कहा था कि पूरे मामले में एक-एक राज का पर्दाफाश होगा.

प्रसिद्ध संत और कथावाचक भैय्यूजी महाराज ने भी इंदौर स्थित अपने घर में कथित रूप से गोली मार कर आत्महत्या कर ली थी.

क्यों लोगों को संतों के सुसाइड पर विश्वास नहीं होता?
अयोध्या के पूर्व सांसद और संत रामविलास वेदांती ने महंत नरेंद्र गिरि की मौत के मामले में सीबीआई जांच की मांग की है. राम विलास वेदांती ने कहा कि 12 पन्ने के सुसाइड नोट की भी जांच होनी चाहिए. दोषियों पर कार्रवाई होनी चाहिए. राम विलास वेदांती का बयान संत समाज बैठक करके आगे का निर्णय लेगा. अयोध्या के संत वेदांती का कहना है कि ऐसे संत नहीं थे जो आत्महत्या कर सकते थे. लिहाजा इस पूरे मामले की गंभीरता से जांच होनी चाहिए जिससे दोषी बच ना सकें.

भैय्यू जी महाराज ने भी सुसाइड किया था?
गौरतलब है कि साल 2018 में ही प्रसिद्ध संत और कथावाचक भैय्यू जी महाराज ने भी इंदौर स्थित अपने घर में कथित रूप से गोली मार कर आत्महत्या कर ली थी. भैय्यू जी तब तक देश के जाने माने संत और कथावाचक बन चुके थे. उनके निधन से भी देशभर में लोग चौंक गए थे. उनकी लाश के पास से ही पिस्टल और सुसाइड नोट बरामद किया गया था. इस मामले की भी सीबीआई से जांच कराने की मांग उठी थी. हालांकि, आज तक इस मौत की गुत्थी सुलझ नहीं पाई है. इस घटना के सात महीने बाद भैय्यू जी महाराज के दो विश्वस्त सहयोगियों को एक युवती के साथ गिरफ्तार भी किया गया था. कहा जा रहा है कि भैय्यू जी महाराज के नजदीक रही युवती उन पर शादी के लिए कथित रूप से दबाव बना रही थी, जबकि अधेड़ उम्र के आध्यात्मिक गुरु पहले से शादीशुदा थे. उनकी आत्महत्या को लेकर भी परिवार वालों की तरफ से कई तरह के सवाल उठाए गए थे और उस वक्त कई तरह की थ्योरी भी सामने आई थी.

मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि जब कोई आदमी आत्महत्या करने के बारे में सोचने लगता है तो दिमाग से निकल जाता है कि वह साधु है संत.

मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि जब कोई आदमी आत्महत्या करने के बारे में सोचने लगता है तो दिमाग से निकल जाता है कि वह साधु है संत.

क्या कहते हैं मनोवैज्ञानिक
मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि जब कोई आदमी आत्महत्या करने के बारे में सोचने लगता है तो दिमाग से निकल जाता है कि वह साधु है संत. दिमाग से यह भी निकल जाता है कि उसके मौत के बाद लोग उशके बारे में क्या सोचेंगे और क्या विचार रखेंगे? इस स्थिति को मनोचिकित्सक सुसाइडल आइडिएशन कहते हैं यानी लोगों के मनों में आत्महत्या का ख्याल आना शुरू हो जाता है. इसके लिए जरूरी नहीं है कि कोई एक ही वजह हो. कई वजहों से भी इंसान सुसाइड करने के बारे में सोचता है. विशेषज्ञों की राय में जब किसी शख्स को कोई दूसरा रास्ता नहीं मिलता है या यूं कहें कि किसी मुश्किल परिस्थिति से निकलने का कोई रास्ता नहीं मिलता है तो वह शख्स अपना जीवन समाप्त कर लेता है या उसके बार में सोचने लगता है.

ये भी पढ़ें: Bihar: CM नीतीश के जनता दरबार में रिटायर्ड शिक्षक की अनोखी फरियाद, कहा- मेरे गांव को UP में शामिल करवाइए

सुसाइड की स्थिति आने पर मनुष्य क्या सोचता है?
दिल्ली विश्वविद्यालय के मनोविज्ञान विभाग के प्रोफेसर डॉ नवीन कुमार कहते हैं, ‘लोगों के मन में सुसाइड का विचार आना नेचुरल नहीं होता है. उस समय मनुष्य के मस्तिष्क में बायोन्यूरोलॉजिकल बदलावों के चलते लगने लगता है कि जीवन अब किसी काम का नहीं है. हमने जो अर्जित किया है, वह बेकार है. इसके बाद ही व्यक्तियों के मन में आत्महत्या करने का विचार पनपने लगता है. सुसाइड के 90 प्रतिशत से ज्यादा मामले मानसिक विकार के चलते होते हैं. हालांकि, व्यक्ति के मन में नकारात्मक ख्यालों का आना नई बात नहीं है. कई बार ऐसे ख्याल कुछ ही पलों के लिए आते हैं, लेकिन कुछ लोगों में ये धीरे-धीरे बढ़ने लगता है.’

Mahant Narendra Giri Postmortem Report: गले पर मिला V का निशान, दम घुटने से हुई मौत

सूत्रों के मुताबिक महंत नरेंद्र गिरि की मौत दम घुटने से हुई

Narendra Giri Death Case: सूत्रों के मुताबिक उनके गले पर 'V' का निशान मिला है. फ़िलहाल पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टरों ने उनका विसरा सुरक्षित रख लिया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर ही एसआईटी अपनी जांच आगे बढ़ाएगी.

SHARE THIS:

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhara Parishad) के अध्यक्ष  नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) के पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट (Postmortem Report) में दावा किया गया है कि उनकी मौत दम घुटने से हुई. सूत्रों के मुताबिक उनके गले पर ‘V’ का निशान मिला है. फ़िलहाल पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टरों ने उनका विसरा सुरक्षित रख लिया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर ही एसआईटी अपनी जांच आगे बढ़ाएगी. विवेचना में पोस्टमार्टम रिपोर्ट एक महत्वपूर्ण साक्ष्य होगी. बता दें आज सुबह पांच डॉक्टरों की टीम ने एसआरएन अस्पताल में किया था. इस दौरान पूरे पोस्टमॉर्टम प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी करवाई गई थी. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट को सील बंद लिफाफे में संबंधित अधिकारियों को सौंप दिया गया है.

गौरतलब है कि सोमवार शाम लगभग 5:30 बजे संदिग्ध परिस्थितियों में महंत नरेंद्र गिरी की मौत हो गई थी. महंत नरेंद्र गिरी अपने कमरे में फांसी के फंदे पर लटके पाए गए थे. जिसके बाद सबसे पहले उनके आत्महत्या किए जाने की पुष्टि आईजी के पी सिंह ने की थी. लेकिन इस मामले में एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ, जिसमें उनके पूर्व शिष्य स्वामी आनंद गिरी, बड़े हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी को इसके लिए जिम्मेदार बताया गया. इसी पत्र के आधार पर स्वामी आनंद गिरी को हरिद्वार से यूपी पुलिस ने गिरफ्तार किया, जबकि आद्या प्रसाद तिवारी और  उनके बेटे संदीप तिवारी को श्री मठ बाघम्बरी गद्दी से ही गिरफ्तार किया गया.

SIT कर रही पूछताछ
तीनों  दोनों आरोपियों को पुलिस आज कोर्ट में पेश करेगी. गिरफ्तार स्वामी आनंद गिरि और बड़े हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी से एसआईटी ने कई घंटों से पूछताछ कर रही है. खबर है कि इस दौरान दोनों ने ही कोई राज़ नहीं उगला है. सुसाइड नोट में जिसका जिक्र आया, उस वीडियो की बात से भी दोनों ने इनकार किया. एसआईटी अभी भी दोनों से पूछताछ कर रही है. शाम चार बजे कोर्ट में दोनों आरोपियों को एसआईटी पेश करेगी. महंत नरेंद्र गिरि ने अपने कथित सुसाइड नोट में आत्महत्या के लिए मजबूर होने के पीछे शिष्य आनन्द गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी को भी आरोपी बताया था.

सबसे पढ़े-लिखे साधुओं का अखाड़ा है निरंजनी, जिसके सचिव थे नरेंद्र गिरि

कैसा है निरंजनी अखाड़ा, कैसे काम करता है (फोटो - न्यूज 18)

महंत नरेंद्र गिरि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष तो थे ही साथ ही निरंजनी अखाड़े के सचिव थे. ये अखाड़ा कई मायनों में दूसरे अखाड़ों से अलग और खास है. सबसे ज्यादा धनी होने के साथ इसके साथ सबसे ज्यादा पढ़े लिखे साधू जुड़े हैं. जानते हैं इस अखाड़े के बारे में

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 12:59 IST
SHARE THIS:

महंत नरेंद्र गिरि का अंतिम संस्कार प्रयाग में हो रहा है. उन्हें उनके गुरु के बगल में भू-समाधि दी जाएगी. वह अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के तो अध्यक्ष थे ही साथ में निरंजनी अखाड़े के सचिव और प्रमुख की हैसियत रखने वाले भी. इस अखाड़े को सबसे धनी अखाड़ों में माना ही जाता है. साथ ही इसकी खासियत ये भी है कि इसमें खासे पढ़े लिखे साधु भी हैं. कुछ तो आईआईटी में पढ़े हुए हैं.

निरंजनी अखाड़े को हमेशा भारतीय धार्मिक क्षेत्र में परिपाटी स्थापित करने वाला माना गया. जब हरिद्वार कुंभ के दौरान कोविड का सबसे ज्यादा असर था. तब इस अखाड़े ने सबसे पहले इससे नाम वापस लेने की घोषणा करके राज्य सरकार को एक तरह से राहत दी. इसके बाद दूसरे अखाड़ों ने भी कुंभ से हटना शुरू किया।

इस अखाड़े का पूरा नाम श्री पंचायती तपोनिधि निरंजन अखाड़ा है. इसका मुख्य आश्रम मायापुर, हरिद्वार में स्थित है.अगर साधुओं की संख्या की बात की जाए तो निरंजनी अखाड़ा देश के सबसे बड़े और प्रमुख अखाड़ों में है. जूना अखाड़े के बाद उसे सबसे ताकतवर माना जाता है. वो देश के 13 प्रमुख अखाड़ों में एक है.

सबसे पढ़े लिखे साधू
इस अखाड़े में सबसे ज्यादा पढ़े-लिखे साधू हैं, जिसमें डॉक्टर, प्रोफेसर और प्रोफेशनल शामिल हैं. एक रिपोर्ट की मानें तो शैव परंपरा के निरंजनी अखाड़े के करीब 70 फीसदी साधु-संतों ने उच्च शिक्षा प्राप्त की है. इसमें संस्कृत के विद्वान और आचार्य भी हैं. निरंजनी अखाड़े की हमेशा एक अलग छवि रही है. जानते हैं निरंजनी अखाड़े के बारे में. जिसके बारे में कहा जाता है कि ये हजारों साल पुराना है.

हजारों साल पुराना इतिहास
निरंजनी अखाड़ा की स्थापना सन् 904 में विक्रम संवत 960 कार्तिक कृष्णपक्ष दिन सोमवार को गुजरात की मांडवी नाम की जगह पर हुई थी. महंत अजि गिरि, मौनी सरजूनाथ गिरि, पुरुषोत्तम गिरि, हरिशंकर गिरि, रणछोर भारती, जगजीवन भारती, अर्जुन भारती, जगन्नाथ पुरी, स्वभाव पुरी, कैलाश पुरी, खड्ग नारायण पुरी, स्वभाव पुरी ने मिलकर अखाड़ा की नींव रखी. अखाड़ा का मुख्यालय तीर्थराज प्रयाग में है. उज्जैन, हरिद्वार, त्रयंबकेश्वर व उदयपुर में अखाड़े के आश्रम हैं.

निरंजनी अखाड़े के पास कितनी संपत्ति
प्रयागराज और आसपास के इलाकों में निरंजनी अखाड़े के मठ, मंदिर और जमीन की कीमत 300 करोड़ से ज्यादा की है, जबकि हरिद्वार और दूसरे राज्यों में संपत्ति की कीमत जोड़े तो वो हजार करोड़ के पार है. महंत नरेंद्र गिरि इसी अखाड़े के प्रमुख थे. निरंजनी के अखाड़े के पास प्रयागराज, हरिद्वार, नासिक, उज्जैन, मिर्जापुर, माउंटआबू, जयपुर, वाराणसी, नोएडा, वड़ोदरा में मठ और आश्रम हैं.

10,000 से ज्यादा नागा संन्यासी
फिलहाल इस अखाड़े में दस हजार से अधिक नागा संन्यासी हैं. जबकि महामंडलेश्वरों की संख्या 33 है. जबकि महंत व श्रीमहंत की संख्या एक हजार से अधिक है. वैसे निरंजनी अखाड़े ने भव्य पेशवाई के साथ कुंभ में अपनी शुरुआत की थी. इसमें कई रथ, हाथी और ऊंट शामिल हुए थे. करीब 50 रथों पर चांदी के सिंहासन पर आचार्य महामंडलेश्वर और महामंडलेश्वर विराजमान थे. बड़ी संख्या में नागा साधुओं ने भगवान शिव का तांडव किया था.

कौन बन सकता है महामंडलेश्वर
अखाड़े का महामंडलेश्वर बनने के लिए कोई निश्चित शैक्षणिक योग्यता की जरूरत नहीं होती है. इन अखाड़ों में महामंडलेश्वर बनने के लिए व्यक्ति में वैराग्य और संन्यास का होना सबसे जरूरी माना जाता है. महामंडलेश्वर का घर-परिवार और पारिवारिक संबंध नहीं होने चाहिए.
हालांकि इसके लिए आयु का कोई बंधन नहीं है लेकिन यह जरूरी होता है कि जिस व्यक्ति को यह पद मिले उसे संस्कृत, वेद-पुराणों का ज्ञान हो और वह कथा-प्रवचन दे सकता हो. कोई व्यक्ति या तो बचपन में अथवा जीवन के चौथे चरण यानी वानप्रस्थाश्रम में महामंडलेश्वर बन सकता है. लेकिन इसके लिए अखाड़ों में परीक्षा ली जाती है

विवादों में भी घिर चुका है अखाड़ा
कुछ सालों पहले डिस्कोथेक और बार संचालक रियल इस्टेट कारोबारी सचिन दत्ता को इस अखाड़े का महामंडलेश्वर सच्चिदानंद गिरि बनाया गया था. जिसके बाद निरंजनी अखाड़ा विवादों में घिर गया था.

Narendra Giri Death: आनंद गिरि और आद्या तिवारी से SIT ने घंटों पूछताछ की, आरोपियों ने नहीं उगले राज

महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत के मामले में प्रमुख आरोपी आनंद गिरि है.

महंत नरेंद्र गिरि की कथित आत्महत्या के मामले में सुसाइड नोट के आधार पर जांच कर रही एसआईटी अब भी दोनों मुख्य आरोपियों से पूछताछ कर रही है, लेकिन बड़ी खबर है कि आरोपी गोलमोल जवाब ही दे रहे हैं.

SHARE THIS:

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि के मौत मामले में गिरफ्तार स्वामी आनंद गिरि और बड़े हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी से एसआईटी ने कई घंटों से पूछताछ कर रही है. खबर है कि इस दौरान दोनों ने ही कोई राज़ नहीं उगला है. सुसाइड नोट में जिसका जिक्र आया, उस वीडियो की बात से भी दोनों ने इनकार किया. एसआईटी अभी भी दोनों से पूछताछ कर रही है. शाम चार बजे कोर्ट में दोनों आरोपियों को एसआईटी पेश करेगी. महंत नरेंद्र गिरि ने अपने कथित सुसाइड नोट में आत्महत्या के लिए मजबूर होने के पीछे शिष्य आनन्द गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी को भी आरोपी बताया था.

महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत के मामले में एसआईटी जांच से जुड़ी बड़ी खबर आ रही है कि पूछताछ में एसआईटी के सामने आनन्द गिरि गोलमोल जवाब देता रहा. यह भी जानकारी है कि बड़े हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी ने भी कोई राज नहीं उगले. महंत ने सुसाइड नोट में किसी महिला के साथ वीडियो बनाने का ज़िक्र किया था, लेकिन आनंद गिरि ने इस बारे में न तो कोई इकबालिया बयान दिया और न ही कोई सुराग बताया.

ये भी पढ़ें : UP Election 2022 : उलेमा परिषद और पीस पार्टी ने मिलाया हाथ, कहा – सभी पार्टियों को देंगे चैलेंज

कैसे लिये गए हिरासत में आरोपी?
उत्तराखंड स्थित हरिद्वार से आनंद गिरि को मंगलवार को यूपी पुलिस ने हिरासत में लिया था. एडीजी प्रशांत कुमार के मुताबिक आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किए जाने के बाद आनंद गिरि के खिलाफ कवायद की गई. इससे पहले सोमवार को इलाहाबाद स्थित बाघम्बरी मठ में महंत नरेंद्र गिरि मृत पाए गए थे. उनके शव के पास सात पन्नों का एक सुसाइड नोट मिला था, जिसमें तीन लोगों के नाम बतौर आरोपी खास तौर से दर्ज थे. कुमार ने कहा कि इस केस में सबूत जुटाए जा रहे हैं और इसी के लिए आनंद गिरि से पूछताछ की जा रही है.

ऐसे बनाई गई थी एसआईटी
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) मामले की जांच के लिए डीआईजी, प्रयागराज ने विशेष जांच दल (SIT) का गठन मंगलवार को किया था. डिप्टी एसपी अजीत सिंह चौहान को इसकी कमान सौंपी गई थी, जिसमें दो सीओ समेत इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर स्तर के 18 जांच अधिकारी शामिल किए गए. यह भी गौरतलब है कि एफआईआर दर्ज होने के बाद पुलिस आरोपी आनंद गिरि को प्रयागराज ले आई थी और दो अन्य आरोपियों को भी हिरासत में लिया था.

Explainer : अखाड़ों के पास कहां से आता है धन, कौन सा अखाड़ा कितना धनी

धार्मिक आयोजनों और कुंभ आदि के दौरान अखाड़ा का जुलूस और प्रदर्शन काफी वैभवपूर्ण होता है (फोटो शटरस्टॉक)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और निरंजनी अखाड़े के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि की मृत्यु के बाद अखाड़ों की संपत्ति और उनसे जुड़े विवाद भी चर्चा में हैं. जानते हैं कि इन अखाड़ों के पास कहां से आता है धन और इनके खर्च किस तरह के होते हैं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 12:22 IST
SHARE THIS:

उत्तर से लेकर दक्षिण तक भारतीय मंदिरों, अखाड़ों और मठों के पास अकूत धन की जानकारियां मिलती रहती हैं. धर्म से जुड़ी इन जगहों पर अगर मोटे चढ़ावे से प्रचुर धन आता है तो इनके पास चल अचल संपत्तियां भी कम नहीं. महंत नरेंद्र गिरी जिस बाघंबरी मठ और निरंजनी अखाड़े के प्रमुख थे, उसके पास अकूत धन के अलावा देश-विदेश में खासी संपत्ति बताई जाती है.

ये बड़ा सवाल है कि देश में धार्मिक अखाड़ों के पास कहां से इतना पैसा और संपत्ति आती है. क्या इन्हें मिला हुआ पैसा आयकर के दायरे में होता है. आयकर कानून इन पर किस तरह से लागू होते हैं. क्या आपको मालूम है कि अक्सर आयकर विभाग अखाड़ों और तमाम धार्मिक संस्थाओं को नोटिस भी देता रहा है.

देश के बड़े मंदिरों में धन के आने की बात तो पता चलती है. यहां हजारों श्रृद्धालु रोज आते हैं. कई बड़े मंदिर तो ऐसे हैं जिनके पास एक महीने में दान दक्षिणा के जरिए करोड़ों रुपए आते हैं. लेकिन अखाड़ों में धन कैसे आता है.

दरअसल कई ऐसे अखाड़े हैं जो मंदिरों का संचालन करते हैं. साथ ही अखाड़ों को सीधे भी भक्तों के जरिए जमीन से लेकर धन और मकान तक दान में दिये जाते रहे हैं. देश में 13 अखाड़ों को धार्मिक तौर पर मान्यता प्राप्त अखाड़े माना जाता है. इनकी स्थापना सैकड़ों सालों पहले शंकराचार्य ने खुद की थी. तब से वो चले आ रहे हैं. कुंभ और बड़े धार्मिक आयोजनों के दौरान राज्य सरकारें भी उन्हें आर्थिक तौर पर मदद देती हैं.

अखाड़ों को कैसे मिलती है धन और संपत्ति
– अखाड़ों द्वारा संचालित मंदिरों के जरिए
– भक्तों के दान और चढ़ावा से
– अखाड़ों द्वारा संचालित स्कूलों और गौशालाओं से
– चंदों से
– संपत्ति के जरिए आने वाले किराए से
– एक जमाने में राजा-महाराजा और बड़े सेठ अखाड़ों को मोटा दान करते थे और जमीनें देते थे

निरंजनी अखाड़े को सभी अखाड़ों में सबसे धनी बताया जाता है. उसके पास काफी संपत्ति है.

किस तरह के होते हैं अखाड़ों के खर्च
– बड़े धार्मिक आयोजन
– धार्मिक उत्सवों मसलन कुंभ आदि में बड़े बड़े पंडाल
– रथ, घोड़े और पालकी पर सवारी
– अखाड़ों की संपत्ति के रखरखाव
– अखाड़ों के कर्मचारियों का खर्च
– अखाड़ों के संतों का देश-विदेश में आवाजाही

निरंजनी अखाड़े के पास कितनी संपत्ति
प्रयागराज और आसपास के इलाकों में निरंजनी अखाड़े के मठ, मंदिर और जमीन की कीमत 300 करोड़ से ज्यादा की है, जबकि हरिद्वार और दूसरे राज्यों में संपत्ति की कीमत जोड़े तो वो हजार करोड़ के पार है. महंत नरेंद्र गिरि इसी अखाड़े के प्रमुख थे. निरंजनी के अखाड़े के पास प्रयागराज, हरिद्वार, नासिक, उज्जैन, मिर्जापुर, माउंटआबू, जयपुर, वाराणसी, नोएडा, वड़ोदरा में मठ और आश्रम हैं.

दूसरे अखाड़ों के पास कितनी संपत्ति
निर्वाणी अखाड़ा-इसके साधु बहुत ही धनी हैं. फैजाबाद, गोंडा, बस्ती, प्रतापगढ़ में इनकी काफी भूमि है. फैजाबाद में इनके अधीन कुछ गांव भी थे.
निर्मोही – निर्माहियों के पास काफी भूमि, बस्ती, मानकपुर, खुर्दाबाद आदि स्थानों पर है.
खाकी – शुजाउद्दौला के समय में नवाब से चार बीघा भूमि प्राप्त कर इस अखाड़े की नींव डाली गई थी. बस्ती में इनकी भूमि है.
निरावलम्बी -इनकी सम्पत्ति थोड़ी सी है. निरावलम्बी का अर्थ आलम्बनहीन है.

अगर कानून की बात करें तो धार्मिक अखाड़े भी उसके दायरे में आते हैं. उन्हें सोसायटी एक्ट में रजिस्टर्ड होना होता है और वो इनकम टैक्स कानून के दायरे में भी आते हैं.

किस तरह होते हैं कानून के दायरे में
अखाड़ों का सोसायटी एक्ट के तहत रजिस्ट्रेशन कराना होता है. सभी अखाड़े इस एक्ट के तहत आते हैं. आयकर अधिनियम के 12ए नियम के तहत दानदाताओं को इनकम टैक्स से छूट मिलती है.
अखाडो़ं और सभी धार्मिक संस्थाओं को अपने दान और खर्चों का खाता बनाकर इसे पेश करना होता है. हर साल इनकम डिपार्टमेंट को अपनी आय-व्यय का ब्योरा भेजना होता है.

क्या इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से इन्हें नोटिस भी मिलती है
प्रयाग कुंभ के बाद इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 13 अखाडो़ं को नोटिस दिया था. इसमें महंत नरेंद्र गिरि को भेजी गई नोटिस भी शामिल है. आयकर अधिनियम के तहत जो संस्थाएं आमदनी प्राप्त कर रही हैं, उन्हें अपनी आय का 85 प्रतिशत चैरिटी के लिए हर हाल में खर्च करना होगा. शेष 15 प्रतिशत आय अगले वर्ष खर्च की जा सकती हैं.

अपराधियों की रॉबिनहुड जैसी छवि बना देती हैं राजनीतिक पार्टियां- इलाहाबाद हाईकोर्ट

पार्टियां अपराधियों को देती हैं टिकट, इस पर अंकुश की जरूरत: इलाहाबाद हाईकोर्ट

Allahabad High Court: हाईकोर्ट ने मंगलवार को कहा कि इन अपराधियों को चुनाव लड़ने के लिए टिकट दिए जाते हैं. कभी कभी वे जीत भी जाते हैं, इसलिए इस रुख पर जितनी जल्दी हो सके, अंकुश लगाने की जरूरत है.

SHARE THIS:

प्रयागराज. राजनीतिक दलों में गैंगस्टर और अपराधियों का स्वागत किए जाने पर चिंता जाहिर करते हुए इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने कहा कि इस पर अंकुश लगाने की जरूरत है. हाईकोर्ट ने मंगलवार को कहा कि इन अपराधियों को चुनाव लड़ने के लिए टिकट दिए जाते हैं. कभी कभी वे जीत भी जाते हैं, इसलिए इस रुख पर जितनी जल्दी हो सके, अंकुश लगाने की जरूरत है. कानपुर के बिकरू कांड मामले में एसएचओ विनय कुमार तिवारी और एसआई केके शर्मा की जमानत याचिका खारिज करते हुए न्यायमूर्ति प्रदीप कुमार श्रीवास्तव ने यह टिप्पणी की.

उन्होंने कहा कि यह प्रत्यक्ष प्रमाण है कि इन आरोपियों को पुलिस कार्रवाई के बारे में पहले से जानकारी थी. उन्होंने स्पष्ट रूप से इसका खुलासा गैंगस्टर को किया. गैंगस्टर विकास दूबे के खिलाफ पुलिस कार्रवाई के बारे में सूचना कथित तौर पर लीक करने के लिए एसएचओ विनय कुमार तिवारी और एसआई केके शर्मा को गिरफ्तार किया गया था. इस सूचना के लीक होने से तीन जुलाई, 2020 को बिकरू गांव में पुलिस पर घात लगाकर हमला किया गया जिसमें आठ पुलिसकर्मी मारे गए थे.

अदालत ने कहा, “यह चिंताजनक रुख देखने में आया है कि एक या दूसरी राजनीतिक पार्टी सगंठित अपराध में शामिल गैंगस्टरों और अपराधियों का अपने यहां स्वागत करती हैं और उन्हें संरक्षण देने एवं बचाने की कोशिश करती हैं, ऐसे में उनकी राबिनहुड जैसी छवि बनाती हैं. उन्हें चुनाव लड़ने के लिए टिकट दिया जाता है और कभी कभी वे चुनाव जीत भी जाते हैं. इस रुख पर जितनी जल्दी हो सके, अंकुश लगाने की जरूरत है.”

अदालत ने कहा, “सभी राजनीतिक दलों को साथ बैठकर यह निर्णय करने की जरूरत है कि गैंगस्टरों और अपराधियों को राजनीति में आने से हतोत्साहित किया जाए और कोई भी पार्टी उन्हें टिकट न दें” अदालत ने कहा, “राजनीतिक दलों को यह बात ध्यान में रखनी चाहिए कि “मेरा अपराधी” और “उसका अपराधी” या “मेरा आदमी” और “उसका आदमी” जैसी कोई अवधारणा नहीं हो सकती, क्योंकि गैंगस्टर केवल गैंगस्टर होता है और एक दिन ये गैंगस्टर और अपराधी “भस्मासुर” बन जाएंगे और इस देश को इतनी गंभीर चोट पहुंचाएंगे जिसे ठीक नहीं किया जा सकेगा.”

अदालत ने कहा, “यहां ऐसे पुलिसकर्मी हैं भले ही उनकी संख्या बहुत कम है जो अपनी निष्ठा अपने विभाग से कहीं अधिक ऐसे गैंगस्टरों के प्रति दिखाते हैं और इसका कारण वे अच्छी तरह से जानते हैं. इन आरोपियों के कृत्य ने न केवल गैंगस्टरों को सचेत किया, बल्कि उन्हें जवाबी हमले के लिए कमर कसने की भी सहूलियत दी जिससे यह मुठभेड़ हुई जिसमें आठ पुलिसकर्मियों को अपनी जान गंवानी पड़ी. ’’

उल्लेखनीय है कि तिवारी और अन्य पुलिसकर्मी को 2020 में गिरफ्तार किया गया. इनके खिलाफ भादंसं की धारा 147, 148, 504, 323, 364, 342 और 307 एवं आपराधिक कानून संशोधन अधिनियम, 1932 की धारा 7 के तहत एफआईआर दर्ज किया गया था.

राज्य सरकार के वकील ने दलील दी कि शर्मा, “विकास दूबे और उसके गिरोह के नियमित संपर्क में था और उसके जरिए एसओ विनय तिवारी भी दूबे के संपर्क में था. इन दोनों आरोपियों ने निश्चित तौर पर उनकी मदद की और गिरोह की आपराधिक गतिविधियों की हमेशा अनदेखी की.”

कैसे होता है हिंदू धर्म में साधू संतों का अंतिम संस्कार

महंत नरेंद्र गिरि को प्रयाग में भू समाधि दी जाएगी. (फोटो - न्यूज 18 ग्राफिक)

महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) को आज प्रयाग (Prayag) में अंतिम विदाई दी जाएगी. जब एक साधू संत (Hindu Sadhu) की मृत्यु होती है तो उसका अंतिम संस्कार (Last rites) किस तरीके से किया जाता है, हिंदू धर्म में इसके कितने तरीके हैं. दूसरे धर्मों में क्या होता है. आइए जानते हैं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 10:18 IST
SHARE THIS:

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को आज अंतिम विदाई दी जाएगी. कैसे होता है हिंदू धर्म के साधू और संतों का अंतिम संस्कार. किस तरीके से उन्हें अंतिम विदाई दी जाएगी. आइए जानते हैं ये कैसे होता है.

नरेंद्र गिरि की अंतिम यात्रा प्रयागराज में होगी. संत परम्परा में अंतिम संस्कार उनके सम्प्रदाय के अनुसार ही तय होता है. वैष्णव संतों को ज्यादातर अग्नि संस्कार दिया जाता है, लेकिन सन्यासी परंपरा के संतों के लिए तीन संस्कार बताए गए हैं.

कौन से हैं तीन तरीके
इन तीन अंतिम संस्कारों में वैदिक तरीके से दाह संस्कार तो है ही इसके अलावा जल समाधि और भू-समाधि भी है. कई बार संन्यासी की अंतिम इच्छा के अनुसार उनकी देह को जंगलों में छोड़ दिया जाता है.

अब क्यों नहीं दी जाती जल समाधि
वृंदावन के प्रमुख संत देवरहा बाबा को जल समाधि दी गयी थी जबकि दूसरे अन्य कई संतों का अंतिम संस्कार भी इसी तरह हुआ. बाबा जयगुरुदेव को अंतिम विदाई दाह संस्कार के जरिए दी गई थी. हालांकि इस पर विवाद भी हो गया था. तब जयगुरुदेव आश्रम के प्रमुख अनुयायियों ने कहा था कि बाबा की इच्छा के अनुरूप ही वैदिक तरीके से उनका दाह संस्कार किया जा रहा है. रामायण, महाभारत और अन्य हिंदू पौराणिक ग्रंथों में भारतीय संतों को जल समाधि देने का ही जिक्र आता है.

साधु संतों को पहले आमतौर पर जलसमाधि ही दी जाती थी लेकिन नदियों के जल में प्रदूषण के बाद अब भू समाधि दी जाने लगी है.

अब दी जाती है भू-समाधि
संन्यासी परंपरा में जरूर जल या भू-समाधि देने की परिपाटी रही है, लेकिन वैष्णव मत में पहले भी कई बड़े संतों का अग्नि संस्कार किया गया है.वैसे आमतौर पर साधुओं को पहले जल समाधि दी जाती थी, लेकिन नदियों का जल प्रदूषित होने के चलते अब आमतौर पर उन्हें जमीन पर समाधि दी जाती है.नरेंद्र गिरि को प्रयागराज में ही पूजा – अर्चना के बाद उनके ही गुरु की समाधि के बगल में भू समाधि दी जाएगी.

भू समाधि में किस मुद्रा में बिठाया जाता है
भू समाधि में साधू को समाधि वाली स्थिति में बिठाकर ही उन्हें विदा दी जाती है. जिस मुद्रा में उन्हें बिठाया जाता है, उसे सिद्ध योग की मुद्रा कहा जाता है. आमतौर पर साधुओं को इसी मुद्रा में समाधि देते हैं. महंत नरेंद्र गिरि की समाधि भी इसी तरह होगी.

अघोरी साधु जीवित रहते हुए ही अपना अंतिम संस्कार कर देते हैं. अघोरी को साधु बनने की प्रक्रिया में सबसे पहले अपना अंतिम संस्कार करना होता है.

अघोरी साधुओं का अंतिम संस्कार कैसे होता है
अघोरी साधु जीवित रहते हुए ही अपना अंतिम संस्कार कर देते हैं. अघोरी को साधु बनने की प्रक्रिया में सबसे पहले अपना अंतिम संस्कार करना होता है. अघोरी पूरे तरीके से परिवार से दूर रहकर पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करते हैं और इस वक्त ये अपने परिवार को भी त्याग देने का प्रण लेते हैं. अंतिम संस्कार के बाद ये परिजनों और बाकी दुनिया के लिए भी ये मृत हो जाते हैं.

अन्य धर्मों में क्या होता है
मुस्लिम धर्म में उनके धार्मिक शख्सियत के शव को सीधा लिटाकर दफनाया जाता है. ईसाई तौरतरीकों में भी पादरी, बिशप और अन्य धार्मिक लोगों के शव का जुलूस निकालकर उन्हें दफनाया जाता है. पारसियों में धार्मिक गुरुओं को उनके धर्म की परिपाटी की तरह एक खास छत पर खुला छोड़ दिया जाता है, जहां गिद्ध और चील उन्हें खाते हैं.

महंत नरेंद्र गिरि की अंतिम यात्रा: देश के कोने-कोने से पहुंच रहे साधु-संत, कोलकाता, पुणे और काशी से मंगाए गए फूल

महंत नरेंद्र गिरी को आज दी जाएगी अंतिम विदाई

Mahant Narendra Giri Final Journey: महंत नरेंद्र गिरि की अंतिम इच्छा के मुताबिक उनकी समाधि उनके गुरु भगवान गिरि की समाधि के बगल में नींबू के पेड़ के नीचे बनाई जाएगी. उन्हें समाधि देने के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं.

SHARE THIS:

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) को बुधवार को अंतिम विदाई दी जाएगी. उनके अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए देश के कोने-कोने से साधु-संत प्रयागराज (Prayagraj) पहुंच रहे हैं. महंत नरेंद्र गिरी के शव को पोस्टमार्टम के बाद श्री मठ बाघम्बरी गद्दी लाया जाएगा, जहां पर महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को फूलों से सजाया जाएगा. जिसके बाद फूलों से सजाये गये विशेष रथ से शव को संगम ले जाया जाएगा. वहां पर पार्थिव शरीर को संगम स्नान कराने के बाद शव को दोबारा श्री मठ बाघम्बरी गद्दी लाया जाएगा. महंत नरेंद्र गिरि की अंतिम इच्छा के मुताबिक उनकी समाधि उनके गुरु भगवान गिरि की समाधि के बगल में नींबू के पेड़ के नीचे बनाई जाएगी. उन्हें समाधि देने के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. एक बड़ा गड्ढा भी बनाया गया है. कई टन फूल कोलकाता, पुणे व काशी से मंगाए गए हैं. संत परंपरा के मुताबिक महंत नरेंद्र गिरी को अंतिम विदाई दी जाएगी.

इस मौके पर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री और जूना अखाड़े के संरक्षक महंत हरि गिरी भी मौजूद रहेंगे. इसके साथ ही साथ दूसरे अखाड़ों के महंत और श्री महंत भी बड़ी संख्या में मौजूद रहेंगे. गौरतलब है कि सोमवार शाम लगभग 5:30 बजे संदिग्ध परिस्थितियों में महंत नरेंद्र गिरी की मौत हो गई थी. महंत नरेंद्र गिरी अपने कमरे में फांसी के फंदे पर लटके पाए गए थे. जिसके बाद सबसे पहले उनके आत्महत्या किए जाने की पुष्टि आईजी के पी सिंह ने की थी. लेकिन इस मामले में एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है, जिसमें उनके पूर्व शिष्य स्वामी आनंद गिरी,बड़े हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी को इसके लिए जिम्मेदार बताया गया है.

दो आरोपियों की कोर्ट में पेशी आज
इसी पत्र के आधार पर स्वामी आनंद गिरी को हरिद्वार से यूपी पुलिस ने गिरफ्तार किया, जबकि आद्या प्रसाद तिवारी को श्री मठ बाघम्बरी गद्दी से ही गिरफ्तार किया गया. दोनों आरोपियों को पुलिस आज कोर्ट में पेश करेगी. हालांकि तीसरे आरोपी संदीप तिवारी को लेकर भी गिरफ्तारी की बात कही जा रही थी. लेकिन डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने कहा है फिलहाल दो ही आरोपियों की गिरफ्तारी हुई है और दोनों को ही आज कोर्ट में पेश किया जाएगा‌. तीसरा आरोपी संदीप तिवारी को अभी गिरफ्तार नहीं किया गया है.

Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज