अपना शहर चुनें

States

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए लॉकडाउन में BHU ने 7 जिलों में लगवाई गिलोय की 600 नर्सरी

वाराणसी में BHU के रिटायर्ड प्रोफेसर समेत तीन और संक्रमित (file photo)
वाराणसी में BHU के रिटायर्ड प्रोफेसर समेत तीन और संक्रमित (file photo)

लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) ने लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए यूपी के वाराणसी और मिर्जापुर मंडल के 7 जिलों में गिलोय (Giloy) की नर्सरी लगवाई है.

  • Share this:
प्रयागराज. कोविड-19 (COVID-19) के मद्देनजर देशभर में लागू लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) ने लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश के वाराणसी और मिर्जापुर मंडल के 7 जिलों में गिलोय की नर्सरी लगवाई है. वाराणसी मंडल के चार जिलों- वाराणसी, जौनपुर, गाजीपुर, चंदौली और मिर्जापुर मंडल के तीन जिलों- मिर्जापुर, सोनभद्र और भदोही में ये नर्सरी लगवाई गई हैं.

गिलोय के दो लाख पौधों का करेंगे निःशुल्क वितरण
काशी हिंदू विश्वविद्यालय में चिकित्सा विज्ञान संस्थान के आयुर्वेद संकाय के डीन और उत्तर प्रदेश में गिलोय मिशन के परियोजना संयोजक डाक्टर वाई. बी. त्रिपाठी ने फोन पर बताया, ‘हमने लॉकडाउन के दौरान सात जिलों में गिलोय की 600 नर्सरी लगवाई है.’ उन्होंने बताया, ‘प्रदेश में दो महीने से यह परियोजना चल रही है. इसी लॉकडाउन के दौरान गिलोय की नर्सरी लगवाई गई. घर बैठे 500 किसानों से संपर्क कर उन्हें नर्सरी लगाने के लिए प्रेरित किया गया. लॉकडाउन खुलने पर सभाएं की जाएंगी, गिलोय के गुणों के बारे में लोगों को जागरूक किया जाएगा और गिलोय के दो लाख पौधों का निःशुल्क वितरण किया जाएगा.’

इम्यूनो बूस्टर है गिलोय
प्रयागराज में जड़ी बूटियों पर अनुसंधान कर रहे ‘आयुष रिसर्च सेंटर एंड हास्पिटल’ के आयुर्वेदाचार्य डाक्टर नरेंद्र नाथ केसरवानी ने बताया, ‘गिलोय में तीन प्रकार के एल्केलाइड- गिलोइनिन, ग्लूकोसाइड और बरबेरिन पाए जाते हैं जो श्वेत रक्त कणिकाओं (डब्लूबीसी) को बढ़ाते हैं और अधिक संख्या में डब्लूबीसी, शरीर की कोशिकाओं की रक्षा करते हैं और नई कोशिकाओं का निर्माण करते हैं. इसीलिए गिलोय को इम्यूनो बूस्टर भी कहा जाता है.’ त्रिपाठी ने बताया कि यदि यह प्रयोग सफल रहा तो और जिलों को इस परियोजना के दायरे में लाया जाएगा.



प्रतिदिन सुबह गिलोय का काढ़ा पिएं
उन्होंने बताया कि गिलोय को लेकर मुंबई के केईएम हास्पिटल में 1990-91 में अनुसंधान हो चुका है. गिलोय में बहुत से गुण हैं. यह किडनी को ठीक रखता है, बुखार को दूर करता है. इसलिए गिलोय को अमृता कहा जाता है. उन्होंने कहा कि आंवले की तरह ही गिलोय या गुडुच भी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बहुत मजबूत करता है और इसकी लता आसानी से कहीं भी लग जाती है. लोगों को इस बात के लिए प्रेरित किया जाएगा कि वे गिलोय का छह इंच डंठल तोड़कर उसका काढ़ा बनाएं और प्रतिदिन सुबह इसका सेवन करें ताकि उनका इम्यून सिस्टम मजबूत बने.

ये भी पढ़ें -

छात्र ने 11वीं मंजिल से कूदकर दी जान, ब्‍वॉयज लॉकर रूम केस में चल रही थी जांच

सास-ससुर ने बेटी की तरह विधवा बहू का विवाह कर घर से किया विदा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज