जन्म प्रमाण पत्र केस: सपा सांसद आजम खान को इलाहाबाद HC से मिली जमानत, लेकिन जेल से नहीं आ सकेंगे बाहर

सपा सांसद आजम खान की बढ़ी मुश्किलें (file photo)
सपा सांसद आजम खान की बढ़ी मुश्किलें (file photo)

सपा सांसद आज़म खान (Mohd. Azam Khan) उनकी पत्नी रामपुर से विधायक तंजीन फातिमा और बेटे अब्दुल्लाह आज़म को मिली दो जन्म प्रमाण पत्र मामलों में जमानत मिल गई है. लेकिन, फिलहाल ये तीनों जेल में ही रहेंगे.

  • Share this:
प्रयागराज. उत्तर प्रदेश के रामपुर से समाजवादी पार्टी (सपा) सांसद आजम खान (Mohd. Azam Khan) को इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) से दो जन्म प्रमाण पत्र मामले में जमानत मिल गई है. दो जन्म प्रमाण पत्र के मामले में उनकी पत्नी रामपुर से विधायक तंजीन फातिमा (Tanzeen Fatma) और बेटे अब्दुल्लाह आज़म (Abdullah Azam) को भी कोर्ट से बेल मिल गई है. हालांकि ये तीनों फिलहाल जेल से बाहर नहीं आ पाएंगे. अभी कई और जमानत के केस हाईकोर्ट में ही विचाराधीन हैं. बता दें कि भाजपा नेता आकाश सक्सेना ने तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया था. अब आकाश सक्सेना का कहना है कि हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ वह अब सुप्रीम कोर्ट जाएंगे. हाई कोर्ट के आज के ऑर्डर के मुताबिक, आजम खान को तब तक जमानत नहीं मिलेगी जब तक शिकायतकर्ता आकाश सक्सेना के ट्रायल कोर्ट में बयान दर्ज नहीं होंगे.

बता दें कि सांसद आजम खान की विधायक पत्नी तंजीन फातिमा और बेटे अब्दुल्ला आजम  को रामपुर के एमपी-एमएलए स्पेशल कोर्ट से हाल ही में तीन मामलों में जमानत मिल गई थी. ये जमानत जौहर यूनिवर्सिटी में किसानों की जमीन कब्जे के 3 मामलों में मिली. सपा सांसद आजम खान, पत्नी तंजीन फातिमा और बेटे अब्दुल्ला आजम इन दिनों सीतापुर जेल में बंद हैं. जमानत मिलने के बाद भी अभी उनकी जेल से रिहाई नहीं हो पाई, क्योंकि अभी दो जन्मप्रमाण पत्र का मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन था.





सरकार में हुई आजम के खिलाफ कार्रवाई
गौरतलब है कि योगी सरकार के सत्ता में आने के बाद से ही आजम खान पर ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी है. जहां एक ओर आजम खान को भू-माफिया घोषित किया गया. वहीं जौहर यूनिवर्सिटी में किसानों की जमीन कब्‍जा करने के आरोप में करीब 27 किसानों ने आजम खान के ऊपर मुकदमे दर्ज करवाए. इसके अतिरिक्त यतीमखाना प्रकरण में लूटपाट और मकान तोड़ने के आरोप में भी दर्जन भर मुकदमे दर्ज हुए.

ये भी पढ़ें: Bihar Election 2020: बागी तेवर दिखाने वाले 15 नेताओं पर गिरी गाज, JDU से 6 साल के लिए निष्कासित 

इसके अलावा आजम खान के पुत्र अब्दुल्ला आजम पर जन्मतिथि में हेराफेरी कर विधानसभा चुनाव लड़ने के आरोप में भी मुकदमा दर्ज हुआ. इसके बाद हाईकोर्ट ने अब्दुल्ला आजम का निर्वाचन भी रद्द कर दिया था. दर्जनों मामलों में आजम, तंजीन और अब्‍दुल्‍ला के नाम शामिल हैं. साल के शुरुआत में ही कोर्ट के बार-बार तलब करने पर भी गैर हाजिर होने के बाद तीनों को गिरफ़्तारी का आदेश दिया गया. इसके बाद कोर्ट ने तीनों को सुरक्षा की दृष्टि से सीतापुर जेल में भेज दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज