मुलायम सिंह यादव के भतीजे की चुनाव याचिका के खिलाफ BJP MP संघमित्रा मौर्य की आपत्ति खारिज
Allahabad News in Hindi

मुलायम सिंह यादव के भतीजे की चुनाव याचिका के खिलाफ BJP MP संघमित्रा मौर्य की आपत्ति खारिज
मुलायम सिंह यादव (फाइल फोटो)

इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के भतीजे धर्मेंद्र यादव की चुनाव याचिका के खिलाफ भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य (Sanghamitra Maurya) की आपत्तियों को खारिज कर दिया. 2019 के लोकसभा चुनाव में बदायूं संसदीय सीट से मौर्य ने अपने नामांकन में वैवाहिक स्थिति और पति की संपत्तियों का विवरण नहीं दिया है.

  • Share this:
प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के भतीजे धर्मेंद्र यादव (Dharmendra Yadav) द्वारा दायर चुनाव याचिका के खिलाफ भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य (Sanghamitra Maurya) की प्रारंभिक आपत्तियों को शुक्रवार को खारिज कर दिया. यादव ने 2019 के लोकसभा चुनाव में बदायूं संसदीय सीट से मौर्य के निर्वाचन को चुनौती दी है. भाजपा सांसद की प्रारंभिक आपत्तियों को खारिज करते हुए न्यायमूर्ति रमेश सिन्हा ने इस चुनाव याचिका में मुद्दे तय करने के लिए सुनवाई की अगली तारीख 6 मई, 2020 निर्धारित कर दी.

पूरी तरह से निराधार है वकील की यह दलील
उल्लेखनीय है कि पूर्व सांसद और बदायूं लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार रहे धर्मेंद्र यादव ने इस सीट पर संघमित्रा के निर्वाचन को चुनौती देते हुए यह चुनाव याचिका दायर की थी. संघमित्रा ने 2019 के चुनाव में इस सीट पर यादव को हराया था. उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी संघमित्रा मौर्य की आपत्तियों को खारिज करते हुए अदालत ने कहा, ‘मेरे विचार से संघमित्रा मौर्य के वकील ने दलील दी है कि इस चुनाव याचिका में धर्मेंद्र यादव ने जो बयान दिया है उस पर कार्रवाई का कोई आधार नहीं बनता. वकील की यह दलील पूरी तरह से निराधार है.’

तथ्यात्मक चीजों को दरकिनार नहीं किया जा सकता



अदालत ने कहा, ‘यह पूरी तरह से विधि द्वारा स्थापित है कि यदि चुनाव याचिका में तथ्यात्मक और सटीक बयान का उल्लेख है जिस पर वह चुनाव याचिका निर्भर है तो उन चीजों को दरकिनार नहीं किया जा सकता.’ सपा नेता और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के भतीजे धर्मेंद्र यादव ने मौजूदा चुनाव याचिका में अदालत से संघमित्रा मौर्य का चुनाव अवैध घोषित करने का अनुरोध किया है.



नामांकन में संघमित्रा की वैवाहिक स्थिति स्पष्ट नहीं
याचिकाकर्ता ने इस आधार पर संघमित्रा के निर्वाचन को चुनौती दी है कि यह उसके नामांकन को अनुचित रूप से स्वीकार किए जाने का मामला है. इस याचिका में यह दलील भी दी गई है कि नामांकन पत्र में संघमित्रा की वैवाहिक स्थिति एवं अन्य तथ्यों को स्पष्ट नहीं किया गया है. साथ ही उनके पति की संपत्तियों को भी सार्वजनिक नहीं किया गया है.

ये भी पढ़ें - 

UP में लॉकडाउन का उल्लंघन करने वाले 42,359 लोगों पर पुलिस ने दर्ज किया केस

COVID-19 Update: UP में 21 नए मामले, कुल केसों की संख्या बढ़कर 431 हुई
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading