• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्‍ध हालात में मौत, मौके से मिला सुसाइड नोट

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्‍ध हालात में मौत, मौके से मिला सुसाइड नोट

संदिग्‍ध हालात में महंत नरेंद्र गिरी की मौत के बाद पुलिस ने बारंबरी मठ को पूरी तरह से सील कर दिया है. (फाइल फोटो)

संदिग्‍ध हालात में महंत नरेंद्र गिरी की मौत के बाद पुलिस ने बारंबरी मठ को पूरी तरह से सील कर दिया है. (फाइल फोटो)

Mahant Narendra Giri Death: महंत नरेंद्र गिरी का शव प्रयागराज में बाघंबरी मठ उऩके कमरे में फंदे से लटका मिला. मठ को पुलिस ने पूरी तरह से सील कर दिया है. हालांकि अभी तक किसी भी तरह की जानकारी पुलिस नहीं दे रही है. सूत्रों के अनुसार महंत गिरी के शव के पास से एक सुसाइड नोट भी पुलिस को बरामद हुआ है.

  • Share this:

प्रयागराज. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की सोमवार को संदिग्‍ध हालात में मौत हो गई. जानकारी के अनुसार उनकी मौत प्रयागराज में हुई है. सूत्रों के अनुसार उनका शव बाघंबरी मठ में ही रस्सी के एक फंदे से लटकता मिला है. उल्लेखनीय है कि उनकी मौत साथ ही अखाड़ा परिषद के अंदर मतभेद की खबरें एक बार फिर उठ रही हैं. बताया जा रहा है कि महंत नरेंद्र गिरी का कमरा अंदर से बंद मिला था जिसके बाद शक होने पर उसे खोला गया तो अंदर उऩका शव मिला. उनके पास से एक सुसाइड नोट भी पुलिस को मिला है. जिसमें मानसिक तौर से परेशान होने का जिक्र भी किया गया है. इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई. बताया जा रहा है कि महंत नरेंद्र गिरी पिछले कुछ दिनों से परेशान चल रहे थे.

हत्या के मामले से किया इनकार
हालांकि प्रारंभिक जांच के बाद पुलिस ने हत्या की बात से इनकार किया है. सूत्रों के अनुसार महंत नरेंद्र गिरी ने आत्महत्या की है. हालांकि अभी पुलिस ने इस बात की पुष्टि नहीं की है कि उनकी मौत का कारण आत्महत्या है या कुछ और. खबर के बाद पुलिस ने पूरे इलाके को सील कर दिया है और किसी को भी बारंबरी मठ में घुसने की इजाजत नहीं दी जा रही है. फोरेंसिक टीम मौके पर जांच कर रही है.

शिष्य के साथ चल रहा था विवाद
वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार महंत नरेंद्र गिरी का अपने एक शिष्य आनंद गिरी से कुछ समय से विवाद चल रहा था. इस विवाद को लेकर महंत नरेंद्र गिरी और उनके शिष्य के बीच कुछ दिनों पहले ही सुलह हुई थी. शिष्य ने उनसे माफी मांगी थी जिसके बाद महंत गिरी ने भी उन्हें माफ कर दिया था. उल्लेखनीय है कि महंत नरेंद्र गिरी कुछ समय पहले ही कोरोना से संक्रमित भी हो गए थे हालांकि वो इसको हरा कर स्वस्‍थ्य हो गए थे.

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी के निधन की खबर आते ही अयोध्या में शोक की लहर फैल गई है. हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने कहा कि अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष के निधन की सूचना बेहद ही दुखद है. भगवान से प्रार्थना है कि मृत आत्मा को शांति प्रदान करें. नरेंद्र गिरी का निधन साधु समाज की अपार क्षति है. सनातन धर्म की रक्षा के लिए वो हमेशा समर्पित रहते थे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज