प्रतियोगी परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों ने यूपीपीएससी पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

प्रतियोगी परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों ने यूपीपीएससी पर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाया है. अभ्यर्थियों ने यूपी सिविल जज जू. डि. परीक्षा 2018 में भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाया है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 17, 2019, 4:03 PM IST
प्रतियोगी परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों ने यूपीपीएससी पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप
प्रतियोगी परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों ने यूपीपीएससी पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप.
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 17, 2019, 4:03 PM IST
प्रतियोगी परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों ने यूपीपीएससी पर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाया है. अभ्यर्थियों ने यूपी सिविल जज जू. डि. परीक्षा 2018 में भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाया है. यूपीपीएससी की परीक्षा में व्यापक पैमाने पर भ्रष्टाचार और धांधली के मामले में परीक्षा नियंत्रक अंजू लता कटियार की गिरफ्तारी हो चुकी है. इसके बाद प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षा निरस्त करने मांग की को लेकर पीसीएस जे 2018 के अभ्यर्थियों ने आयोग के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

सोमवार को आयोग के गेट के सामने बड़ी संख्या में इकट्ठा होकर प्रतियोगी छात्रों ने अंजू लता कटियार के कार्यकाल में हुई सभी भर्ती परीक्षाओं को रद्द करने की मांग की. अभ्यर्थियों ने इस दौरान जमकर नारेबाजी की.

इस दौरान प्रतियोगी छात्रों ने कहा कि यूपी लोकसेवा आयोग द्वारा आयोजित न्यायिक सेवा के इतिहास की सबसे बड़ी 610 पदों की यूपी सिविल जज (जू. डि.) परीक्षा 2018 की मुख्य परीक्षा का परिणाम 13 जून 2019 को घोषित किया गया था, जिसमें घोर भ्रष्टाचार एवं अनियमितता की गई है. इसलिए यूपी लोकसेवा आयोग द्वारा आयोजित की गई यूपी न्यायिक सेवा परीक्षा 2018 की प्रारम्भिक एवं मुख्य परीक्षा को तत्काल निरस्त किया जाए. मांगे नहीं माने जाने पर प्रतियोगी छात्र आमरण अनशन करने के लिए बाध्य होंगें.

रिपोर्ट – ज्योति राव फूले

ये भी पढ़ें - 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...