लाइव टीवी

UPPSC परीक्षाओं में धांधली: सीबीआई ने कसा शिकंजा, कई पूर्व अधिकारियों से सख्त पूछताछ

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: October 25, 2019, 7:42 PM IST
UPPSC परीक्षाओं में धांधली: सीबीआई ने कसा शिकंजा, कई पूर्व अधिकारियों से सख्त पूछताछ
यूपीपीएससी परीक्षाओं में धांधली की जांच कर रही सीबीआई ने पिछले 5 दिनों में कई पूर्व अधिकारियों के साथ सख्ती से पूछताछ की है.

पिछले 5 दिनों में सीबीआई (CBI) ने कई पूर्व अधिकारियों के साथ सख्ती से पूछताछ की है. आयोग के पूर्व परीक्षा नियंत्रक प्रभुनाथ से लगातार पांचवें दिन सीबीआई टीम ने पूछताछ की है. सीबीआई ने बाकायदा उनका बयान दर्ज किया है.

  • Share this:
प्रयागराज. यूपी लोक सेवा आयोग (UPPSC) की परीक्षाओं में धांधली मामले की जांच कर रही सीबीआई (CBI) की टीम ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. जांच को लेकर हाईकोर्ट (HC) में दाखिल याचिका के बाद सीबीआई की जांच में तेजी दिख रही है. पिछले 5 दिनों में सीबीआई ने कई पूर्व अधिकारियों के साथ सख्ती से पूछताछ की है. आयोग के पूर्व परीक्षा नियंत्रक प्रभुनाथ से लगातार पांचवें दिन सीबीआई टीम ने पूछताछ की है. सीबीआई ने बाकायदा उनका बयान दर्ज किया है.

पूर्व सचिव और पूर्व अध्यक्ष के निजी सचिव से भी हुई पूछताछ

इसी क्रम में शुक्रवार को सीबीआई ने एक पूर्व सचिव से भी पूछताछ की है. यही नहीं आयोग के पूर्व अध्यक्ष के निजी सचिव रहे एक अधिकारी से भी सीबीआई ने पूछताछ की है. सीबीआई टीम ने इस दौरान भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ी को लेकर लंबी पूछताछ की, जिसमें अफसरों से कई सवाल किए गए. बताया जा रहा है कि पूर्व सचिव और निजी सचिव आयोग के सबसे विवादित अध्यक्ष अनिल यादव के कार्यकाल में तैनात थे.

सीबीआई में डेढ़ साल से अटकी जांच से प्रतियोगी छात्र हैं नाखुश

बता दें लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं में धांधली की जांच कर रही सीबीआई की कार्यप्रणाली से प्रतियोगी छात्र नाखुश हैं. यही कारण है कि प्रतियोगी छात्रों ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर जांच जल्द पूरी करने का निर्देश देने की मांग की है. प्रतियोगी छात्र चाहते हैं कि सीबीआई जांच की प्रगति आख्या नियमित रूप से हाईकोर्ट में दाखिल की जाए. प्रतियोगी छात्र अवनीश पांडेय व अन्य की ओर से दाखिल याचिका में कहा गया है कि लोक सेवा आयोग द्वारा एक अप्रैल 2012 से 31 मार्च 2017 के बीच आयोजित की गई परीक्षाओं की सीबीआई जांच की अधिसूचना 21 नवंबर 2017 को जारी की गई थी. इन परीक्षाओं में व्यापक स्तर पर धांधली और अनियमितता का आरोप है. लेकिन 1 वर्ष 8 महीने बीत जाने के बाद भी सीबीआई की जांच प्रारंभिक स्तर से आगे नहीं बढ़ सकी है. सीबीआई ने अब तक सिर्फ एक मामले में ही एफआईआर दर्ज की है.

ये भी पढ़ें:

अयोध्या दीपोत्सव: जानिए इस बार क्या-क्या नया करने जा रही है योगी सरकार
Loading...

UP उपचुनाव में बसपा के 6 और कांग्रेस के 7 प्रत्याशियों की जमानत जब्त

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 7:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...