असम अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद मुमीनुल ओवाल का बड़ा बयान, बोले- 'मैं भी हिन्दू हूं’, संगम में लगाई डुबकी
Allahabad News in Hindi

असम अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद मुमीनुल ओवाल का बड़ा बयान, बोले- 'मैं भी हिन्दू हूं’, संगम में लगाई डुबकी
असम अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद मुमीनुल ओवाल ने खुद को बताया हिन्‍दू.

असम (Assam) के अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद मुमीनुल ओवाल (Syed Muminul Aowal) ने ना सिर्फ अयोध्या के राम मंदिर के निर्माण के लिए पांच लाख रुपए देने का ऐलान किया है बल्कि वह खुद को हिन्‍दू भी मानते हैं. यही नहीं, उन्‍होंने माघ मेले में गंगा में डबुकी भी लगाई है.

  • Share this:
इलाहाबाद. असम (Assam) के अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद मुमीनुल ओवाल (Syed Muminul Aowal) ने अयोध्या के राम मंदिर निर्माण के लिए राज्‍य के कई मुस्लिम संगठनों की ओर से पांच लाख रुपये का सहयोग देने की घोषणा की है. उन्होंने माघ मेला क्षेत्र स्थित स्वामी अधोक्षजानंद के शिविर में पहुंचने के बाद संगम में आस्था की डुबकी भी लगाई. इसके बाद उन्होंने शिविर में चल रहे भंडारे में भक्तों को भोजन कराने के बाद स्वामी और दंडी संन्यासियों, साधु-संतों का आशीर्वाद लिया. मुमीनुल ओवाल ने बताया कि जिस तरह से असम के लोग अपने को असमिया कहते हैं, उसी तरह हिन्दुस्तान का रहने वाला हर नागरिक हिन्दू है. हमारा मजहब इस्लाम है, लेकिन हिन्दुस्तान का नागरिक होने के नाते हम अपने को बड़े गर्व से हिन्दू कहते हैं.

नागरिक संशोधन कानून पर दिया ये बयान
नागरिक संशोधन कानून के सवाल पर ओवाल ने कहा कि यह कानून नागरिकता लेने के लिए नहीं बल्कि देने के लिए है. कई बाहरी शक्तियां मुस्लिमों को बहका रही हैं. हिन्दुस्तान हमारा देश है, हम यहीं जन्मे हैं और यहीं रहेंगे. ऐसे में हमें अपने देश के हित में सोचना चाहिए न कि दूसरों के बहकावे में आना चाहिए. उन्होंने कहा कि दूसरे मुल्क पीएफआई के जरिए देश का सुख चैन छीनना चाहतें हैं, उनसे भारत की खुशहाली नहीं देखी जा रही है. इसलिए लोगों को बहकाकर देशभर में यह भ्रम फैलाया गया है.
अयोध्‍या पर कही ये बात



ओवाल ने अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए असम के इक्कीस मुस्लिम संगठनों के परिषद जोमोगुस्थिया सोमोन्नय परिषद, जेएसपीए के अध्यक्ष के तौर पर राम मंदिर निर्माण के लिए पांच लाख रुपये के सहयोग की घोषणा की है. परिषद ने देश की एकता के प्रति मुस्लिमों की एकजुटता दिखाने और राम मंदिर निर्माण के प्रति हिन्दुओं की अगाध आस्था को देखते हुए यह फैसला किया है.



 

ये भी पढ़ें-

अखिलेश को गंगा में डुबकी लगाकर अपनी बुद्धि को शुद्ध कर लेना चाहिए: डिप्टी सीएम

 

दिल्ली के दंगल में कूदे CM योगी आदित्यनाथ, आज करेंगे चार मैराथन चुनावी रैलियां
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading