UP के अन्‍नदाताओं को बड़ी राहत, मुख्यमंत्री किसान बीमा योजना के तहत अब 3 साल तक ठोक सकेंगे दावा

इलाहाबाद हाईकोर्ट (File Photo)
इलाहाबाद हाईकोर्ट (File Photo)

इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने दावा दाखिल करने की अधिकतम 3 माह की मियाद को मनमानापूर्ण एवं कानून के विपरीत माना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2020, 6:33 AM IST
  • Share this:
प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मुख्यमंत्री किसान एवं सर्वहित बीमा योजना (Mukhyamantri Kisan evam Sarvhit Bima Yojana) में दावा मियाद 3 साल घोषित करने का आदेश दिया है. हाईकोर्ट ने 3 माह की मियाद को रद्द कर दिया है. कोर्ट ने बीमा कंपनी को तीन साल के भीतर दाखिल बीमा दावों पर विचार करने का निर्देश दिया है. हाईकोर्ट ने दावा दाखिल करने की अधिकतम 3 माह की मियाद को मनमानापूर्ण एवं कानून के विपरीत माना है. कोर्ट ने कहा कि बीमा कंपनी तीन साल के भीतर दाखिल दावे पर विचार करे. दावा करने की तीन साल की मियाद किसान की मौत या दावा आंशिक या पूर्णरूप से निरस्त होने की तिथि से मानी जाएगी.

इस संबंध में हाईकोर्ट ने मुख्य सचिव को आदेश की प्रति भेजने का निर्देश दिया है. कोर्ट ने कहा कि सरकार योजना मियाद में संशोधन करे. डीएम जौनपुर को निर्देश दिया गया है कि याची के बीमा दावे को समय के भीतर मानते हुए तीन माह में उचित निर्णय लें.

ये है पूरा मामला
दरअसल, गौतम यादव की ओर से दाखिल याचिका कोर्ट ने स्वीकार की थी. याची के किसान पिता की 3 जुलाई 2018 को दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी. याची ने योजना के तहत 20 अक्तूबर 2018 को दावा किया. डीएम जौनपुर ने निर्धारित समय के बाद दावा पेश करने के कारण बीमा क्‍लेम निरस्त कर दिया था. इसके बाद उन्‍होंने डीएम के दावा निरस्त करने के फैसले को चुनौती दी. अब गौतम की याचिका पर जस्टिस शशिकान्त गुप्ता और जस्टिस पंकज भाटिया की खंडपीठ ने जौनपुर के डीएम को बीमा क्‍लेम को निस्‍तारित करने का आदेश दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज