Home /News /uttar-pradesh /

माघ मेले की तैयारियों को बीच प्रयागराज में मिले कोरोना के 70 नए मरीज, सुरक्षा प्रमुख मुद्दा

माघ मेले की तैयारियों को बीच प्रयागराज में मिले कोरोना के 70 नए मरीज, सुरक्षा प्रमुख मुद्दा

माघ मेले की तैयारियों के मद्देनजर कोरोना संक्रमण को लेकर विशेष ऐहतियात बरते जा रहे.

माघ मेले की तैयारियों के मद्देनजर कोरोना संक्रमण को लेकर विशेष ऐहतियात बरते जा रहे.

Corona in Prayagraj: प्रयागराज में कोरोना संक्रमितों की संख्या 300 के पार पहुंच गई है. बीते 8 दिनों में मिले 238 संक्रमितों की अगर बात करें तो 60 फीसदी युवा हैं. इनकी उम्र 40 वर्ष के आस पास है. जबकि 12 साल तक के दो बच्चे भी कोरोना की बीमारी के चपेट में आए हैं.

अधिक पढ़ें ...

इलाहाबाद. संगम नगरी प्रयागराज में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है. प्रयागराज में कोरोना संक्रमितों की संख्या 300 के पार पहुंच गई है. गुरुवार को मिले 70 नये कोविड पाजिटिव के बाद प्रयागराज में कोरोना के 306 एक्टिव केस हो गए हैं. जबकि गुरुवार को 8233 लोगों की कोरोना जांच गई है.

उधर, शहर में सप्ताह भर बाद माघ मेले का आयोजन होने वाला है, जिसके लिए साधु-संतों की भीड़ जुटने लगी है. ऐसे में यह बड़ा सवाल है कि इतने बड़े स्तर पर जब भीड़ शहर में उमड़ेगी तो कोरोना पर लगाम कैसे लगेगी? हालांकि प्रशासन का कहना है कि मेले में कोरोना का संक्रमण न फैले इसे लिए विशेष सुरक्षा व्यवस्था की जा रही है. जिले में अब तक 69027 लोगों का होम आइसोलेशन पूरा हो गया है. आंकड़े के मुताबिक कोरोना का संक्रमण 4 गुना रफ्तार से बढ़ रहा है.

60 प्रतिशत युवा

बीते 8 दिनों में मिले 238 संक्रमितों की अगर बात करें तो 60 फीसदी युवा हैं. इनकी उम्र 40 वर्ष के आस पास है. जबकि 12 साल तक के दो बच्चे भी कोरोना की बीमारी के चपेट में आए हैं. महिलाओं और बुजुर्गों को भी कोरोना ने जकड़ा है. हालांकि राहत की बात यह है कि अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों की संख्या अभी काफी कम है. गुरुवार को सिर्फ 3 मरीज ही एसआरएन अस्पताल पहुंचे. बाकी लोग होम आइसोलेशन में हैं.

बढ़ेगी स्वास्थ्य विभाग की टीम

स्वास्थ्य विभाग ने होम आइसोलेशन में रहने वालों तक दवा पहुंचाने के लिए कुल 13 टीमें लगाई हैं. मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए 13 टीमों को बढ़ाकर 25 किया जा रहा है. जिले में कोरोना की टेस्टिंग भी बढ़ा दी गई है. जिले में कुल 27 स्थानों पर कोरोना की जांच की जा रही है. जिनमें 7 शहरी और 20 ग्रामीण इलाके में जांच की जा रही है. प्रयागराज में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए अस्पतालों में सुविधाओं को भी बढ़ाया गया है. प्रयागराज जिले में आठ अक्सीजन प्लांट काम कर रहे हैं. जबकि दूसरी लहर के दौरान सिर्फ दो आक्सीजन प्लांट ही काम कर रहे थे. अस्पतालों में आक्सीजन सिलेंडर और आक्सीजन कंसंट्रेटर का इंतजाम किया गया है. कोरोना की थर्ड वेब की चुनौती से निबटने के लिए दवाइयों का भी इंतजाम कर लिया गया है.

बच्चों के लिए भी व्यवस्था

कोरोना की थर्ड वेव के बच्चों में फैलने की आशंका के मद्देनजर शहर के दो अस्पतालों और ग्रामीण क्षेत्र के चार पीएचसी पर पीकू वार्ड बनाए गए हैं. 6 जगहों पर कुल मिलाकर 332 बेड बच्चों के लिए रिजर्व रखे गए हैं. दूसरी लहर के दौरान बच्चों के लिए अलग से कोई व्यवस्था नहीं की गई थी लेकिन अब एसआरएन अस्पताल में 200 बेड का पीकू वार्ड है. बेली अस्पताल में बनाए गए पीकू वार्ड में 42 बेड आरक्षित किए गए हैं. जिले में आईसीयू और एचडीयू के 716 बेड हैं. इसके साथ ही 1373 बेड पर ऑक्सीजन की सुविधा उपलब्ध है. जिले में 354 वेंटिलेटर बेड हैं. दूसरी लहर के मुकाबले वेंटिलेटर बेड की संख्या करीब ढाई गुना तक बढ़ गई है.

ओमिक्रॉन का केस नहीं

सीएमओ डॉक्टर नानक सरन के मुताबिक कोरोना की थर्ड वेव को लेकर जिले में काफी तैयारी की गई है. उनके मुताबिक टेस्टिंग बढ़ा दी गई है. हर दिन 8000 तक टेस्टिंग की जा रही है. इसके साथ ही लगातार वैक्सीनेशन भी कराया जा रहा है. सीएमओ के मुताबिक ओमीक्रॉन को लेकर अब तक एक दर्जन सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं. लेकिन अब तक जिले में ओमिक्रॉन का कोई केस सामने नहीं आया है.

Tags: Allahabad news, Corona, Third Wave

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर