लाइव टीवी

COVID-19: प्रयागराज में CAA के खिलाफ धरना दे रहे लोगों पर FIR, महिलाओं ने ये कहा...
Allahabad News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: March 23, 2020, 2:11 PM IST
COVID-19: प्रयागराज में CAA के खिलाफ धरना दे रहे लोगों पर FIR, महिलाओं ने ये कहा...
प्रयागराज में CAA-NRC के खिलाफ धरना दे रहे लोगों पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है.

महामारी अधिनियम के तहत दर्ज कराये गए मुकदमे में 17 लोगों को नामजद और 100 अज्ञात को आरोपी बनाया गया है. धारा 144 के उल्लंघन के मामले में 21 नामजद और 225 अज्ञात के खिलाफ अटाला चौकी इंचार्ज कलीमुल्लाह की ओर से एफआईआर दर्ज कराई गई है.

  • Share this:
प्रयागराज. कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण फैलने के खतरे के बावजूद सीएए (CAA) के विरोध में पिछले 72 दिनों से चल रहे मुस्लिम महिलाओं के धरने के खिलाफ पुलिस और प्रशासन ने सख्त कानूनी कार्रवाई शुरु कर दी है. रोशन बाग के मंसूर अली पार्क में सीएए और एनआरसी के विरोध में धरने पर बैठी मुस्लिम महिलाओं और धरना दे रहे लोगों के खिलाफ पुलिस ने दो अलग-अलग मुकदमे दर्ज (Case Lodged Against Protesters) कर लिए हैं.

महामारी अधिनियम के तहत किया मुकदमा दर्ज

पुलिस ने खुल्दाबाद थाने में पहला मुकदमा 117 लोगों के खिलाफ महामारी अधिनियम के तहत दर्ज किया है. वहीं दूसरा मुकदमा धारा 144 के उल्लंघन को लेकर दर्ज किया है. महामारी अधिनियम के तहत दर्ज कराये गए मुकदमे में 17 लोगों को नामजद और 100 अज्ञात को आरोपी बनाया गया है. धारा 144 के उल्लंघन के मामले में 21 नामजद और 225 अज्ञात के खिलाफ अटाला चौकी इंचार्ज कलीमुल्लाह की ओर से एफआईआर दर्ज कराई गई है.

महिलाओं से पुलिस ने पहले भी की थी गुजारिश



दरअसल, कोरोना के लगातार संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए पुलिस प्रशासन बीते कई दिनों से धरने को जल्द खत्म कराने की कोशिश कर रही थी. धरना खत्म कराने के लिए पुलिस और प्रशासन के अधिकारी 21 मार्च को मंसूर अली पार्क भी पहुंचे थे. लेकिन सीएए के विरोध में धरना दे रहीं महिलायें धरना खत्म करने को तैयार नहीं हुईं.

जनता कर्फ्यू के दिन भी धरने पर डटी रहीं

प्रशासन ने लोगों को कोरोना के खतरे को लेकर धरना दे रही महिलाओं को जानकारी दी थी और उनसे धरना खत्म करने की अपील भी की थी. पुलिस ने धरने में बैठी महिलाओं को बताया था कि कोरोना वायरस महामारी का रुप अख्तियार कर चुका है. महिलाओं ने पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों की बात मानने से इंकार कर दिया और रविवार को जनता कर्फ्यू के दिन भी धरने स्थल मंसूर अली पार्क में ही डटीं रहीं.

NRC
महिलाओं ने पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों की बात मानने से इंकार कर दिया और रविवार को जनता कर्फ्यू के दिन भी धरने स्थल मंसूर अली पार्क में ही डटीं रहीं.


इनपर दर्ज किए गए मुकदमे

इसके बाद रविवार की शाम अटाला चौकी इंचार्ज कलीमुल्लाह ने खुल्दाबाद थाने में दो मुकदमे दर्ज करा दिए हैं. पुलिस की ओर से दर्ज कराये गए मुकदमे में महिलाओं के धरने का नेतृत्व कर रही सारा अहमद, शाह आलम, उमर खालिद, जीशान रहमानी, कलीम अहमद सिद्धीकी, इलाहाबाद विश्व विद्यालय की छात्र नेता नेहा यादव, अविनाश मिश्रा, तनवीर, आशीष मित्तल, अमित पाठक, केके पाण्डेय, शैलेष पासवाल, आरिज अल्वी, अदनान , जुल्फिकार, सबी उर्र रहमान, सुनाील मौर्य और अज्ञात के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई की है. पुलिस नामजद आरोपियों के खिलाफ साक्ष्य एकत्र कर कानूनी कार्रवाई की तैयारी में जुट गई है.

12 जनवरी से चल रहा है धरना

गौरतलब है कि मंसूर अली पार्क में 12 जनवरी से सीएए और एनआरसी के खिलाफ मुस्लिम महिलाओं का धरना चौबीसों घंटे चल रहा है. धरने पर बैठी महिलायें कोरोना को लेकर डब्लूएचओ और भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी एडवाइजरी का पालन करने की बात जरुर कर रही हैं, लेकिन वे धरना खत्म करने को कतई तैयार नहीं हैं.

महिलाओं ने कहा- सीएए और एनआरसी कोरोना से बड़ा वायरस

महिलाओं का कहना है कि धरना स्थल को उन्होंने सैनेटाइज कराने के साथ ही लोगों के हाथ साफ करने लिए हैंडवॉश और सैनेटाइजर का इंतजाम किया है. धरने पर बैठी महिलाओं का आरोप है कि कोरोना से बड़ा वायरस उनके लिए सीएए और एनआरसी है, इसलिए सीएए और एनआरसी के समाप्त हुए बगैर उनका ये धरना खत्म नहीं होगा. धरने पर बैठी मुस्लिम महिलाओं का ये भी कहना है कि दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर ही उनका आन्दोलन शुरु हुआ था। इसलिए शाहीन बाग में धरना खत्म हुए बगैर मंसूर अली पार्क में धरने के खत्म होने का कोई सवाल ही नहीं पैदा होता है.

ये भी पढ़ें: Janata Curfew: छात्रों ने AMU में थाली बजाकर सीएए-एनआरसी के खिलाफ की नारेबाजी

जनता कर्फ्यू के दिन करवा रहे थे भागवत कथा, पुलिस ने दर्ज की FIR

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 23, 2020, 2:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,218

     
  • कुल केस

    5,865

     
  • ठीक हुए

    477

     
  • मृत्यु

    169

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (05:00 PM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,151,274

     
  • कुल केस

    1,603,428

    +355
  • ठीक हुए

    356,440

     
  • मृत्यु

    95,714

    +22
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर