लाइव टीवी

COVID-19: नॉर्थ सेन्ट्रल रेलवे 10 अप्रैल तक तैयार कर लेगा 130 आइसोलेशन कोच
Allahabad News in Hindi

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: April 6, 2020, 3:27 PM IST
COVID-19: नॉर्थ सेन्ट्रल रेलवे 10 अप्रैल तक तैयार कर लेगा 130 आइसोलेशन कोच
प्रयागराज में 8 आइसोलेशन कोच तैयार किया जा चुका है.

नार्थ सेन्ट्रल रेलवे को भी 130 कोचेज को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील करने का काम सौंपा गया है. प्रयागराज रेलवे स्टेशन पर स्थित रेलवे कोच केयर सेन्टर में अब तक आठ कोचेज को तैयार किया जा चुका है.

  • Share this:
प्रयागराज. देश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना (Coronavirus) के संक्रमित मरीजों की तादाद को देखते हुए रेलवे ने भी अपनी तैयारी शुरु कर दी है. अस्पतालों में बनाये गए आइसोलेशन वार्ड (Isolation Ward) अगर कोरोना के मरीजों से फुल होते हैं, तो रेलवे के इन आइसोलेशन वार्डों में कोरोना संदिग्ध मरीजों को आइसोलेट किया जा जाएगा.  नार्थ सेन्ट्रल रेलवे को भी 130 कोचेज को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील करने का काम सौंपा गया है. नार्थ सेन्ट्रल रेलवे में प्रयागराज, झांसी और आगरा मंडलों में इन कोचेज को आइसोलेशन वार्ड में बदलने का काम शुरु भी कर दिया गया है. प्रयागराज रेलवे स्टेशन पर स्थित रेलवे कोच केयर सेन्टर में अब तक आठ कोचेज को तैयार किया जा चुका है. यह उम्मीद की जा रही है कि नार्थ सेंट्रल रेलवे 10 अप्रैल तक 130 कोच तैयार कर लेगा.

15 साल से ज्यादा पुराने कोचेज का हो रहा इस्तेमाल

रेलवे ने इसके लिए देश भर में 20 हजार सेकेण्ड क्लास कोचेज को आइसोलेशन वार्ड में बदले जाने की तैयारी शुरु कर दी है. हांलाकि फर्स्ट फेज में रेलवे ने देश भर में पांच हजार कोचेज को ही आइसोलेशन वार्ड में तब्दील करने का काम शुरू किया है. आइसोलेशन वार्ड बनाने के लिए 15 साल से ज्यादा पुराने सेकेंड क्लास रेल कोचेज को आइसोलेशन वार्ड में बदला जा रहा है.



North Central Railway
आइसोलेशन कोचेज के लिए 15 साल पुराने सेकेण्ड क्लास कोच का इस्तेमाल किया जा रहा है.




इन कोचेज में ये सुविधाएं होंगी

इन कोचेज में मच्छरदानी के नेट, हाई क्वालिटी की टोटियां, ग्रीन मैट, ट्रांसपैरेंट कर्टेन के साथ ही एक टॉयलेट को बाथरुम में तब्दील किया जा रहा है. एक आइसोलेशन कोच में 16 व्यक्तियों को आइसोलेट किया जा सकेगा. इन कोचेज में मेडिकल स्टाफ के भी रहने का पूरा इंतजाम रहेगा. कोरोना से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए आक्सीजन सिलेंडर लगाने के लिए व्यवस्था कोचेज में ही की जा रही है. सेनेटाइजेशन के लिए ही उच्च गुणवत्ता की फिटिंग करायी जा रही है.

10 अप्रैल तक पूरा हो जाएगा टार्गेट: सीपीआरओ

नार्थ सेन्ट्रल रेलवे के सीपीआरओ अजीत कुमार सिंह के मुताबिक 10 अप्रैल तक नार्थ सेन्ट्रल रेलवे अपना टारगेट पूरा कर लेगा. सीपीआरओ के मुताबिक इन आइसोलेशन कोचेज में साफ सफाई और पैरा मेडिकल स्टाफ के अरेंजमेंट को लेकर डीजी हेल्थ रेलवे की गाइड लाइन के मुताबिक ही कार्य किया जाएगा.

North Central Railway
कोरोना से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए आक्सीजन सिलेंडर लगाने के लिए व्यवस्था कोचेज में ही की जा रही है.


ये भी पढ़ें:  Lockdown में बुंदेलखंड के किसानों से बैंकों ने कर्ज लौटाने को कहा, अन्यथा...

COVID-19: लखीमपुर खीरी की इन गृहणियों ने उठाया लोगों को खाना खिलाने का जिम्मा
First published: April 6, 2020, 3:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading